बकाया मुआवजा न मिलने पर भड़के ग्रामीण

ब्यूरो/अमर उजाला, हापुड़ Updated Thu, 17 Mar 2016 09:14 PM IST
विज्ञापन
निर्माणाधीन बिजलीघर पर किया हंगामा
निर्माणाधीन बिजलीघर पर किया हंगामा - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
बदनौली में बन रहे 765 केवीए क्षमता के बिजलीघर के लिए 2525 रुपये प्रति वर्ग मीटर से भूमि अधिगृहित की गई थी। 2.76 लाख रुपये प्रति एकड़ की दर से किसानों को और मुआवजा मिलना तय हुआ था जो अभी तक नहीं मिला है।
विज्ञापन

इसके विरोध में बृहस्पतिवार को बदनौली, श्यामनगर के किसानों ने योजना प्रबंधक का घेराव कर हंगामा किया। किसानों ने 25 मार्च तक बकाया पैसा न मिलने पर कार्य रोकने की चेतावनी दी है।
बदनौली के ग्राम प्रधान संदीप कुमार ने बताया कि जुलाई 2012 में बदनौली और श्यामनगर के किसानों की 500 बीघा जमीन का अधिग्रहण 765केवीए क्षमता के बिजलीघर के लिए किया गया था। किसानों को 2525 रुपये प्रति मीटर की दर से मुआवजा उपलब्ध कराना सुनिश्चित हुआ था।
उन्होंने बताया कि किसानों की असंतुष्टि के चलते एचपीडीए सभागार में ऊर्जा निगम के अफसरों के साथ उनकी बैठक हुई। इसमें किसानों को 2.76 लाख रुपये प्रति एकड़ की दर से अलग से भुगतान किए जाने की सहमति बनी थी। यह सहमति पत्र लिखित में भी उनके पास है।

ग्रामीणों ने बताया कि करीब दो साल बाद भी उन्हें 2.76 लाख रुपये प्रति एकड़ की बकाया राशि नहीं मिल सकी है। इस संबंध में वह कई बार योजना प्रबंधक से वार्ता कर चुके हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि इस प्रोजेक्ट के आला अफसर एक फीसदी कमीशन पर उनका पैसा दिलाने का लालच दे रहे हैं। बृहस्पतिवार को दोनों गांवों के ग्रामीणों ने बिजलीघर परिसर में हंगामा किया।

योजना प्रबंधक ने उच्चाधिकारियों से वार्ता कर उन्हें राहत दिलाने का आश्वासन दिया। किसानों ने दो टूक कहा कि 24 मार्च तक यदि उन्हें बकाया राशि नहीं मिली तो वह 25 मार्च से बिजलीघर के निर्माण कार्य को रोक देंगे। घेराव करने वालों में राजेंद्र सिंह, प्रेमवीर सिंह, नवाब सिंह, कृष्ण प्रकाश, लोकेश कुमार, जगवीर, सोहन लाल, भोपाल, राजपाल, अमरदीप, संजू, जगदीश, देवेंद्र कुमार, तपेंद्र कुमार, हरिप्रकाश, सतीश सिंह आदि मौजूद रहे।

जिस कंपनी ने किसानों की जमीन का अधिग्रहण किया था। उसने जमीन को अन्य कंपनी को हैंड ओवर कर दिया है। किसानों के बकाया राशि के बारे में उन्हें खास जानकारी नहीं है। इस संबंध में उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है। - बीएस पिटवाल, योजना प्रबंधक 
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X