बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

मुश्किल में बाबा, सीआईडी ने डीएफओ को भेजी जांच रिपोर्ट

ब्यूरो/अमर उजाला, शिमला Updated Fri, 12 May 2017 06:07 AM IST
विज्ञापन
Ramlok Temple Dispute, CID Chargesheet against Baba.
ख़बर सुनें
सोलन के साधु पुल स्थित बाबा अमरदेव के आश्रम में साल भर पहले मिली तेंदुए और बाघ की खालों के मामले में नया मोड़ आ गया है। सीआईडी की क्राइम ब्रांच ने मामले की जांच से जुड़े दस्तावेज और खालों की रिपोर्ट मंडल वन अधिकारी (डीएफओ) सोलन को भेज दी है।
विज्ञापन


ऐसे में बाबा की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही हैं। ‘अमर उजाला’ में खबर प्रकाशित होने के बाद अब वन विभाग ने कोर्ट में चालान दाखिल करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। सूत्रों का कहना है कि वन अधिकारी इस हफ्ते के अंत तक चालान स्थानीय कोर्ट में पेश कर सकते हैं।


पिछले साल 23 अप्रैल को बाबा अमरदेव के रामलोक आश्रम में सीआईडी ने छापामारी कर तेंदुए की तीन और बाघ की एक खाल बरामद की थी। सीआईडी की क्राइम ब्रांच ने वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट की विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया था।

खालों की वैज्ञानिक प्रमाणिकता के लिए देहरादून स्थित वाइल्ड लाइफ इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (डब्ल्यूआईआई) भेजा गया था। करीब एक साल बाद सोमवार को जांच रिपोर्ट क्राइम ब्रांच को मिली। खालों के तेंदुए और बाघ के होने की पुष्टि हुई है।

सीआईडी ने अब रिपोर्ट डीएफओ सोलन को भेजी है। जानकारों का कहना है कि इस मामले में बाबा के खिलाफ जिस तरह के पुख्ता सबूत हैं, उससे बाबा की मुश्किलें फिलहाल कम होती नहीं दिख रही हैं। ऐसे मामलों में बरामद वन्य वस्तु के प्रमाणित होने पर आरोपी के लिए बचने की संभावनाएं न के बराबर रह जाती हैं। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

तेंदुए और बाघ के शिकार पर घूमी जांच की सुई

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us