मांगों के लिए भड़के रोडवेज कर्मचारी

अमर उजाला, जालंधर Updated Thu, 30 Jan 2014 09:35 PM IST
demands, roadways, employee, jalandhar, protest
पंजाब रोडवेज कर्मचारियों की संयुक्त एक्शन कमेटी के दिए गए प्रोग्राम के तहत वीरवार को जालंधर बस अड्डे पर कर्मचारियों ने दो घंटे प्रदर्शन किया।

यूनियन ने 12 से 2 बजे तक बस अड्डे के भीतर न तो कोई बस जाने दी और न ही बाहर आने दी। इससे यात्रियों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा।


यूनियन ने राज्य सरकार पर उनकी मानी गई मांगों को लागू न करने का आरोप लगाया। इस दौरान सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। एक्शन कमेटी के कनवीनर अमरीक सिंह गिल ने कहा कि पंजाब सरकार सरकारी ट्रांसपोर्ट को बंद करके, प्राइवेट ट्रांसपोर्टरों को लाभ दिलाना चाहती हैं। यही कारण है कि राज्य सरकार की तरफ से रोडवेज में भर्ती नहीं की जा रही है और उनकी मंजूर मांगों को भी लागू नहीं किया जा रहा है।


गिल ने कहा कि यूनियन लगातार संघर्ष करती आ रही है लेकिन राज्य सरकार उनकी मांगों पर गंभीरता नहीं दिखा रही है। कमाई वाले रूटों पर सरकारी बसें बद कर प्राइवेट बसों को परमिट दिए जा रहे हैं। कर्मचारी सरकार की इस नीति को कभी बर्दाश्त नहीं करेंगे।


इस मौके पर हरकेवल राम, किशन चंद, अवतार सिंह तारी, जगजीत सिंह, जगीर सिंह, हरिंदर सिंह चीमा, कुलवंत सिंह, सलविंदर कुमार और कंडक्टर यूनियन से अमरजीत सिंह, रामजी दास, रणजीत सिंह और ड्राइवर यूनियन से चरण सिंह ने धरने को संबोधित किया। नेताओं ने कहा कि अगर उनकी मांगें न मानी गईं तो वह अपने संघर्ष को तेज करेंगे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

लेडी खली कविता ने खोला राज, बताया कैसे पहुंची WWE तक

WWE में पहुंचनेवाली पहली भारतीय महिला कविता देवी ने अपने इंटरव्यू में की कई अहम मुद्दों पर खुलकर बात। कविता ने बताया कि उन्हें द ग्रेट खली से कितना सपोर्ट मिला और उन्हें ट्रेनिंग के कितने कड़े शेड्यूल से होकर गुजरना पड़ा।

21 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls