लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Power Yoga: कम समय में वजन घटाना है तो कीजिए पावर योगा

हेल्थ डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: स्वाति शर्मा Updated Wed, 13 Jul 2022 01:21 PM IST
स्वस्थ लम्बे जीवन के लिए है व्यायाम
1 of 9
विज्ञापन
शरीर पर चढ़ी चर्बी की अतिरिक्त परतें किसी भी तरह से लाभदायक नहीं हो सकतीं। बदलते समय के साथ शरीर को फिट और वजन को नियंत्रित बनाये रखने की कवायद और भी बढ़ गई है। कारणों में अनियमित खान-पान और जीवनशैली तो शामिल है ही, हमारे जीवन में शामिल हुए विभिन्न गैजेट्स और मशीनों ने भी इसमें योगदान दिया है। इन मशीनों ने हमारे काम को तो कम किया है लेकिन हमारे शारीरिक श्रम को काफी घटा दिया है। नतीजा जिस शारीरिक श्रम की वजह से हम पहले मोटापे और जीवनशैली संबंधी बीमारियों से दूर थे, वे अब कम उम्र में ही हमें घेरने लगी हैं। शरीर पर चढ़ने वाले अतिरिक्त वजन को संतुलित रखना एक महत्वपूर्ण कदम है। इससे स्वस्थ रहते हुए लम्बा जीवन जीने में मदद मिल सकती है। हमारे देश में प्राचीन विधाओं और पद्धतियों द्वारा स्वस्थ बने रहने की दिशा में बहुत महत्वपूर्ण तरीके सुझाए गए हैं और योग इसमें से एक है। इसी का आधुनिक और थोड़ा तेज रूप है पावर योगा। यह न केवल फिट बने रहने में मददगार हो सकता है बल्कि तेजी से वजन घटाने में भी सहायक होता है। 
हॉलीवुड अभिनेत्री जेनिफर भी करती हैं पावर योगा
2 of 9
दुनियाभर में हो रहा है फेमस 

प्राचीन भारत की विधा योग भले ही बीच के कुछ दशकों में भारत में अपनी लोकप्रियता खोने लगी थी। लेकिन हाल के कुछ वर्षों में इसे मिले नए स्वरूप और इससे होने वाले फायदों के मद्देनजर अब भारत सहित पूरे विश्व में फिर से योग की धूम हो गई है। सामान्यतः योग क्रियाओं को शरीर और मन दोनों की सेहत को बनाये रखने के लिए प्रयोग में लाया जाता रहा है। यही कारण है कि कठिन तपस्या करने वाले भी इसकी साधना करते हैं। योग शरीर की हर एक कोशिका तक फायदा पहुंचाता है। अब तक धारणा यही थी कि योग से फिटनेस तो पाई जा सकती है, वजन को नियंत्रित भी रखा जा सकता है लेकिन अगर वजन को तेजी से घटाना हो तो योग सही विकल्प नहीं होगा। अब पावर योगा ने इस धारणा को भी बदल दिया है। खासकर मलाइका अरोरा और जेनिफर एनिस्टन जैसी सेलिब्रिटीज द्वारा इसका उपयोग करने के बाद से पावर योगा और भी प्रचलित हो गया है। 
विज्ञापन
तेज गति से जलाता है चर्बी को
3 of 9
फायदे से भरपूर तेज आसन 

असल में प्राचीन योग क्रियाओं में जो आसन शामिल रहे हैं वे अधिकांशतः माइंड-बॉडी बैलेंस के लिए काम करते रहे हैं क्योंकि फिजिकल फिटनेस के लिए तो पहले के समय में लोगों के रोजमर्रा के काम ही काफी हो जाया करते थे। खेती करना, चक्की चलाना, कुएं, बावड़ी, नदी या तालाब से पानी लाना, कपड़े धोना, पोंछा लगाना, कई किलोमीटर पैदल चलना या साइकिंलिंग करना आदि जैसे काम आज से दो दशक पहले तक हमारे देश में आम थे। धीरे धीरे सुविधाओं के आते जाने से फिजिकल एक्टिविटीज कम होती चली गईं। इसलिए पहले की योग क्रियाओं के साथ  कुछ ऐसे विकल्प भी चाहिए थे जो वजन को तेजी से घटाने में मदद कर सकते थे और इस तरह पावर योगा सामने आया।

पावर योगा में ऐसी एक्सरसाइज और क्रियाओं को जोड़ा गया है जो तेजी से बदलें और शरीर को ऊर्जा खर्च करने को प्रेरित करें। यही कारण है कि इसकी शुरुआत के कुछ देर में ही मांसपेशियां वार्म अप की स्थिति में आ जाती हैं और चर्बी तेजी से जलने लगती है। यही नहीं इन आसनों से मांसपेशियां बनाने और शरीर को अंदरूनी मजबूती देने में भी मदद मिलती है। इसके अलावा यह स्टेमिना व लचीलापन बढ़ाने तथा स्ट्रेस घटाने में भी मदद करता है.
सही तरीके से सीखें फिर करें
4 of 9
अलग हो सकते हैं सैट्स 

योग क्रियाएं हमेशा इस बात को ध्यान में रखती हैं कि व्यक्ति की शारीरिक और मानसिक अवस्था क्या है। यही कारण है कि योग क्रियाओं के अभ्यास के दौरान किसी बीमारी या भिन्न स्थिति से गुजर रहे व्यक्ति को कुछ आसन करने से रोक दिया जाता है। जैसे गर्भावस्था या पेट की किसी सर्जरी या बीमारी के दौरान पेट पर दबाव डालने वाले आसन न करने की सलाह दी जाती है। प्रशिक्षक बार बार यह लाइन भी दोहराते हैं कि किसी भी आसन को उस हद तक ही कीजिये जहां शरीर पर प्रेशर न पड़े। वर्तमान में देश-विदेश की कई सेलिब्रिटीज द्वारा पावर योगा को अपनाए जाने की खबरों को देख-सुनकर कई सामान्य लोग भी इसे अपनाते हैं और उनमें से अधिकांश इसे अपनी शारीरिक स्थिति को समझे-जाने बिना करने लगते हैं। यही चीज तकलीफ दे सकती है क्योंकि पावर योगा के विशेषज्ञ हर व्यक्ति के हिसाब से क्रियाओं या आसनों का सैट बनाते हैं और उसी हिसाब से अभ्यास करवाते हैं। इसलिए पहले इसे सीखिए, समझिए, फिर अपनाइए।  
विज्ञापन
विज्ञापन
साइकिलिंग और स्वीमिंग को मिलाकर बनायें कॉम्बिनेशन
5 of 9
बिना रुके होने वाली क्रियाएं

पावर योगा की क्रियाएं तेज गति से कम ब्रेक के साथ की जाती हैं। आमतौर पर जब आप योग क्रियाएं करते हैं तो हर आसन के बाद प्रशिक्षक आपको कुछ क्षण शरीर को शिथिल छोड़ने और आराम करने के लिए ब्रेक देते हैं। पावर योगा में ऐसा नहीं होता। चूंकि यहां मामला तेजी से कैलोरी जलाने का होता है इसलिए क्रियाएं भी उसी तरह की चुनी जाती हैं और बिना रुके अधिक समय तक आसन या क्रियाएं करनी होती हैं। इसके अंतर्गत करवाया जाने वाला सूर्य नमस्कार भी अधिक संख्या में और तेजी से करवाया जाता है। यही कारण है कि इसमें इतनी तेजी से ऊर्जा खर्च होती है और पसीना आता है, जितना ट्रेडमिल पर तेजी से चलने में आ सकता है।

अगर आप चाहें तो अपने प्रशिक्षक से राय लेकर हफ्ते में तीन दिन पावर योगा और दो दिन एरोबिक्स या ज़ुम्बा जैसे कॉम्बिनेशन भी बना सकते हैं। पावर योगा के साथ साइकिलिंग, स्वीमिंग, ब्रिस्क वॉक आदि जैसी एक्टिविटीज का कॉम्बिनेशन भी हफ्ते में अलग-अलग दिनों के लिए किया जा सकता है। इससे शरीर को एक जैसी एक्सरसाइज से ऊब भी नहीं होती और सभी एक्सरसाइज के फायदे भी पूरे शरीर को मिलते हैं। 
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें  लाइफ़ स्टाइल से संबंधित समाचार (Lifestyle News in Hindi), लाइफ़स्टाइल जगत (Lifestyle section) की अन्य खबरें जैसे हेल्थ एंड फिटनेस न्यूज़ (Health  and fitness news), लाइव फैशन न्यूज़, (live fashion news) लेटेस्ट फूड न्यूज़ इन हिंदी, (latest food news) रिलेशनशिप न्यूज़ (relationship news in Hindi) और यात्रा (travel news in Hindi)  आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़ (Hindi News)।  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|

विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00