लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

दूसरों के घर खाना बनाने जाती थीं भारती सिंह की मां, पुरानी यादों को याद कर आज भी परेशान हो जाती हैं कॉमेडियन

एंटरटेनमेंट डेस्क, अमर उजाला Published by: anand anand Updated Fri, 29 May 2020 06:05 PM IST
अपनी मां के साथ भारती सिंह
1 of 5
विज्ञापन
अपनी कॉमेडी से हमेशा दर्शकों के दिलों को जीतने वालीं भारती सिंह ने अमर उजाला से खास बात की। इस दौरान उन्होंने अपनी जिंदगी से कई उतार- चढ़ाव के बारे में बताया। भारती सिंह उन कॉमेडियन में से एक हैं उन्होंने अपनी निजी जिंदगी में काफी संघर्ष किया है। इस दौरान भारती सिंह ने अपने और अपनी मां के संघर्ष के बारे में भी बताया। 
भारती सिंह
2 of 5
अपने बचपन के दिनों की बात करते हुए भारती सिंह ने कहा, 'मैं गरीबी की भट्टी में बहुत पकी हूं। मैंने बहुत काम किया और मुझसे भी ज्यादा मेरी मां ने किया है। मुझे आज ही याद है जब मेरी मां दूसरों के घर खाना बनाने जाती थीं और कभी-कभी मैंने भी उनके साथ जाती थी। वहीं जाकर मैंने लोगों का घर, किचन और फ्रिज देखती थी और सोचती थी कि हमारा भी कही ऐसा घर हो पाएगा'। 
विज्ञापन
कपिल शर्मा और भारती सिंह
3 of 5
भारती सिंह ने आगे कहा, 'भगवान की दुआ से मेरे पास उससे भी अच्छा घर है। मेरी मां ने हमेशा मुझे एक ही चीज कही थी कि मेहनत करना मत छोड़ना। जब आप मेहनत करते हो तो बहुत मुश्किलें आती हैं। दो साल की उम्र मेरे पिता जी गुजर गए। उसके बाद मेरे मां ने हमारे लिए सब कुछ किया। हम तीनों भाई-बहनों को पढ़ाया-लिखाया। अपनी बचपन की यादों को जब याद करती हूं तो आज भी परेशान हो जाती हूं। 
भारती सिंह
4 of 5
इसके अलावा भारती सिंह ने यह भी बताया कि बतौर कॉमेडियन उन्हें कैसे पहला मौका मिला। अपने कॉलेज के दिनों को याद करते हुए भारती सिंह ने कहा, 'जब मैं अपने कॉलेज में थी तो एक दिन अपने दोस्तों के साथ गार्डन में मस्ती कर रही थी। उस दौरान मेरे पास से सुदेश लहरी जी गुजरे। इसके बाद उन्होंने मेरी टीचर को जाकर बोला कि गार्डन में एक लड़की है जो बहुत मस्ती कर रही है उसको आप बुलाइए'। 
विज्ञापन
विज्ञापन
अपनी मां के साथ भारती सिंह
5 of 5
भारती ने आगे कहा, 'टीचर ने मुझसे कहा कि यह सुदेश लहरी जी हैं आपको अपने कॉमेडी ड्रामा मेें लेना चाहते हैं। इसके बाद मुझे टीचर ने सुदेश लहरी के कॉमेडी ड्रामा से जुड़ी कुछ लाइनें मुझे पढ़ने को दी जो मैंने पढ़ीं और सुदेश लहरी जी हो बहुत पसंद आई। उन्होंने टीचर से बोला की यह लड़की हर हाल में हमें चाहिए। मैंने शुरुआत में ड्रामा करने से मना कर दिया था, लेकिन फिर टीचर ने मुझे बोला कि आप सुदेश लहरी के ड्रामा को कर लो इससे हमारे स्कूल का नाम रोशन होगा। साथ ही तुम्हारी फीस और माफ हो जाएगी। यह सब सोचकर मैंने सुदेश लहरी का ड्रामा किया और उस ड्रामा को राष्ट्रीय स्तर पर खूब पसंद किया गया'। 


पढ़ें: Exclusive: इस कॉमोडियन को पिता समान मानती हैं भारती सिंह, इस तरह शुरू किया था कॉमेडी का सफर
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00