मोदी पर पूछा सवाल तो मार दिया चांटा

जयप्रकाश पाराशर/अमर उजाला, भोपाल Updated Thu, 23 Jan 2014 03:18 PM IST
Swaroopanand Saraswati slaps reporter
द्वारिकापीठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती को नरेंद्र मोदी के प्रधानमत्री बनने के सवाल पर बुधवार को इतना गुस्सा आया कि उन्होंने सवाल पूछने वाले पत्रकार पर ही हाथ चला दिया।

बाद में स्वरूपानंद सरस्वती ने यह कहकर बचाव किया कि उन्हें डॉक्टर ने सलाह दी है कि कोई उनके ज्यादा निकट नहीं आए और यह पत्रकार उनके ज्यादा करीब आ रहा था।

उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि उनको मोदी के पीएम बनने में कोई परेशानी नहीं है बशर्ते जनता ये चाहे।

कांग्रेस नेताओं के ज्यादा करीब माने जाने वाले शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि पत्रकार को प्रश्न पूछना है तो भाजपा के बारे में पूछे, भाजपा के धार्मिक विचार के बारे में पूछे लेकिन किसी व्यक्ति के बारे में सवाल करने का क्या मतलब है। पत्रकार का यह चरित्र नहीं होता। उनके पास सभी वर्गों के लोग आते हैं।

वहीं भाजपा नेता प्रहलाद पटेल ने पूरे कृत्य की निंदा करते हुए कहा कि वह इस व्यक्ति के खिलाफ पिछले कई सालों से संघर्ष कर रहे हैं। स्वायत्तशासी निकाय मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि उनका तो चांटा भी आशीर्वाद की तरह है।

स्वरूपानंद सरस्वती जबलपुर में एक निजी कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए आए थे। उसी दौरान पत्रकार ने उनसे नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बारे में प्रश्न पूछना चाहा था लेकिन वह अपना प्रश्न पूरा कर पाता उसके पहले ही स्वरूपानंद ने उस पर हाथ चला दिया। हालांकि पत्रकार के गाल पर पूरी तरह चांटा लग नहीं पाया।

स्वरूपानंद को कांग्रेस नेताओं से ज्यादा करीबी माना जाता है। रामजन्मभूमि आंदोलन के दौरान जब सारे साधु संत कांग्रेस के विरुद्ध हो गए थे, तब भी स्वरूपानंद विहिप की नीतियों के विरुद्ध बोलते रहे थे। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह से भी उनकी खासी निकटता रही है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

सीएम शिवराज ने की ये बड़ी घोषणा, 2 लाख 84 हजार टीचर्स को होगा फायदा

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अस्थायी टीचर्स के पक्ष में बड़ी घोषणा की है। शिवराज सिंह चौहान ने अस्थायी टीचर्स के अलग-अलग संवर्गों की शिक्षा विभाग में विलय करने की घोषणा की।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls