कैंटीन की कमाई डेढ़ लाख किराया 83 रुपये महीना

ब्यूरो/अमरउजाला, लखनऊ Updated Sat, 14 Jan 2017 03:30 PM IST
sixty years old canteen closed in charbagh station
रेलवे कैंटीन - फोटो : amar ujala
चारबाग रेलवे स्टेशन पर 60 साल पुरानी जिस कैंटीन को हाल ही में बंद कराया गया है, उसकी एक महीने की कमाई एक से डेढ़ लाख रुपये थी। यानी सालाना 18 लाख रुपये। लेकिन, रेलवे को इससे किराए के रूप में सिर्फ 83 रुपये प्रतिमाह ही मिलते थे।
इसके लिए न तो कोई लाइसेंस दिया गया और न ही अलॉटमेंट लेटर। अब मामले की शिकायत जीएम के पास पहुंचने से रेलवे अधिकारियों के हाथ-पैर फूले हुए हैं। चारबाग रेलवे स्टेशन पर उत्तर रेलवे व पूर्वोत्तर रेलवे के पार्सल घरों के बीच बने कैब-वे को चौड़ा किया जाना है।

इसके लिए पास में बनी कैंटीन को सुरक्षा बलों की निगरानी में उत्तर रेलवे अधिकारियों ने खाली करवाया है। बता दें कि ईआई रेलवे कन्ज्यूमर कोऑपरेटिव सोसाइटी के तहत वर्ष 1951 से यह कैंटीन चल रही थी।

यहां से कुलियों को सस्ता भोजन दिया जाता था। अधिकारियों ने बताया कि कैंटीन से प्रतिमाह एक से डेढ़ लाख रुपये की इनकम कैंटीन मालिक को होती थी। रेलवे को किराए के रूप में सिर्फ एक हजार रुपये सालाना मिल रहा था।

अफसरों ने कैंटीन का लाइसेंस व अलॉटमेंट लेटर जांचने की जहमत नहीं उठाई। कुलियों के नेता रामसुरेश ने बताया कि कैंटीन में सस्ता, किफायती व बढ़िया खाना मिलता था। यहां से 15 रुपये में खाना, दो रुपये में चाय, पांच रुपये में बंद-मक्खन मिलता था। कैंटीन हटाए जाने से कुलियों के लिए दिक्कत हो गई है।
आगे पढ़ें

कैंटीन के ठेके से जुड़ी फाइल गुम

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Meerut

हिंदी न अंग्रेजी, इस भाषा में छपवाया शादी का कार्ड, रस्में भी परंपरागत

संस्कृत से दूर भागती युवा पीढ़ी को समस्त भाषाओं की जननी संस्कृत का महत्व समझाने का बीड़ा मेरठ शहर के युगल ने उठाया है।

16 फरवरी 2018

Related Videos

तेंदुए ने फैलाई थी दहशत, तीन दिन बाद हुआ SHO की गोली का शिकार

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के आशियाना क्षेत्र में दो दिन से वन विभाग और पुलिस की टीम को छका रहे तेंदुए की गोली लगने से मौत हो गयी।

17 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen