कश्मीर समस्या का समाधान स्वायत्तताः फारूक अब्दुल्ला

amarujala.com- Presented by: चंद्रा पाण्डेय Updated Mon, 06 Nov 2017 10:29 PM IST
Solution to Kashmir problem autonomy: Farooq Abdullah
नेकां अध्यक्ष सांसद डा. फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि जम्मू और कश्मीर में स्वायत्तता से ही सभी समस्याओं का समाधान किया जा सकता है। भारत और पाकिस्तान को राजनीतिक स्तर पर कश्मीर मुद्दे को हल करने के लिए पहल करनी चाहिए। उत्तरी कश्मीर में एलओसी दौरे के दौरान केरन कुपवाड़ा में लोगों से रूबरू होते हुए डा. फारूक ने कहा कि बार्डर बदल नहीं सकते हैं।
लेकिन दोनों ओर के लोगों के बीच व्यापार सहित अन्य चीजों का आदान प्रदान करके सोच को बदला जा सकता है। दोनों मुल्कों के नेतृत्व को एलओसी से सटे पारंपरिक रास्तों को दोबारा खोलने के प्रयास तेज करने चाहिए। दोनों न्यूक्लियर ऊर्जा की क्षमता वाले देशों को मिल्ट्री से समस्याओं का समाधान नहीं करना चाहिए। सीमा पर तनाव से दोनों ओर से लोगों को खामियाजा भुगतना पड़ा है।
उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से राज्य को विभाजन करने वाली ताकतों के खिलाफ लड़ने का आह्वान किया। अनुच्छेद 35ए पर कोई समझौता नहीं किया जा सकता है। जम्मू, कश्मीर और लद्दाख क्षेत्र के लोग इस मसले पर एकजुट हैं। यह राज्य की जनता के हितों की लड़ाई है। नेकां राज्य के हर क्षेत्र में पहुंचकर लोगों से जुड़ रही है। इस दौरान चौधरी मोहम्मद रमजान, नासिर असलम वानी, कौसर जमशेद लोन, नासिर खान आदि मौजूद रहे। 

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Lucknow

इन्वेस्टर्स समिट में बोले पीएम मोदी, यूपी में बनेगा डिफेंस कॉरिडोर, 2.5 लाख लोगों को मिलेगा रोजगार

यूपी इंवेस्टर्स समिट में देश के उद्योगपतियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में निवेश की घोषणा की। उन्होंने प्रदेश में बनते निवेश के माहौल पर भी खुशी जताई।

21 फरवरी 2018

Related Videos

सुंजवां हमले में शहीद जवान को आखिरी विदाई देने उमड़े लोग

जम्मू के सुंजवां सेना कैंप में हुए फिदायीन हमले में शहीद जवान मंजूर अहमद का शव पूरे राजकीय सम्मान के साथ तिरंगे में लपेटकर उनके पैतृक निवास पहुंचाया गया।

14 फरवरी 2018

Recommended

आज का मुद्दा
View more polls

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen