बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

बालिका वधू बनने से बची दो बहनें

अमर उजाला सिरसा/ब्यूरो Updated Sat, 12 Dec 2015 01:15 AM IST
विज्ञापन
Two sisters survived to become child brides
ख़बर सुनें
गांव ओटू में प्रोबेशन ऑफिसर और पुलिस की संयुक्त कार्रवाई की बदौलत दो नाबालिग बहनें बालिका वधू बनने से बच गई। प्रोबेशन ऑफिसर मोनिका चौधरी ने मौके पर पहुंचकर शादी को रुकवाया।
विज्ञापन


इसके बाद बारात को बैरंग लौटना पड़ा। नाबालिग बहनों के घरवालों से उनकी आयु से संबंधित प्रमाण पत्र मांगा गया  लेकिन वे कोई भी दस्तावेज दिखा नहीं पाए।


जानकारी के अनुसार गांव ओटू में शुक्रवार रात को दो बहनों की शादी थी और बारात राजस्थान से आने वाली थी। शाम को बारात गांव में पहुंची और बाराती नाच-गाकर शादी का जश्न मनाने लगे।

इसी बीच किसी जागरूक व्यक्ति  ने प्रोबेशन ऑफिसर मोनिका चौधरी के पास फोन किया और गांव में नाबालिग बहनों की शादी होने संबंधित सूचना दी।

सूचना मिलते ही प्रोबेशन ऑफिसर ने रानियां थाना पुलिस से संपर्क साधा। रानियां थाना प्रभारी दलीप सिंह व प्रोबेशन ऑफिसर मौके पर पहुंचे और परिजनों से दोनों लड़कियों का आयु प्रमाण पत्र मांगा। परिजन एक भी दस्तावेज पेश नहीं कर सके।

इसके बाद शादी को रुकवा दिया गया। बारात भी बिना दुल्हन को लिए वापस चली गई। प्रोबेशन ऑफिसर मोनिका चौधरी ने बताया कि परिजनों से आयु प्रमान पत्र मांगा गया था।

अब उन्हें कहा गया है कि नाबालिग की शादी करना अपराध है। ऐसा करने पर दो साल तक की सजा हो सकती है। परिजनों ने आश्वासन दिया है कि वे बेटियों के बालिग होने का इंतजार करेंगे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X