लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Chandigarh ›   Panchkula ›   With waterlogging, now the broken roads of the sectors started making the residents cry

जलभराव के साथ अब शहरवासियों को रुलाने लगी सेक्टरों की टूटी सड़कें

Panchkula Bureau पंचकुला ब्‍यूरो
Updated Tue, 26 Jul 2022 01:21 AM IST
With waterlogging, now the broken roads of the sectors started making the residents cry
विज्ञापन
ख़बर सुनें
पंचकूला। शहर में हुई भारी बारिश के कारण जलभराव का असर सड़कों पर दिखाई देने लगा है। शहर के कई हिस्सों में सड़कें टूट गई हैं। इन सड़कों पर बने बड़े और गहरे गड्ढों के कारण हादसे होने की आशंका बलवती हो गई हैं। इन गड्ढों के कारण कभी वाहन चालकों के साथ कोई भी बड़ा हादसा हो सकता है। कई गड्ढों में तो ईंट और पत्थर तक डाले गए हैं। लोग टूटी सड़कों की शिकायत नगर निगम के अधिकारियों से कर रहे हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं होने से परेशान हैं।

प्रदेश में मानसून आने के बाद से कई बार तेज बारिश हो चुकी है। हर रोज हल्की से तेज बारिश के कारण सड़कों पर जलभराव हो जाता है। इसका नतीजा यह है कि शहर में तारकोल से बनी सड़कें क्षतिग्रस्त होने लगी हैं। इसका खामियाजा शहरवासियों को भुगतना पड़ रहा है। इससे सड़क पर जहां हादसा होने का डर बना रहता है, वहीं वाहन भी क्षतिग्रस्त होते हैं। ऐसे में लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

फुटपाथ भी हैं क्षतिग्रस्त
शहर की केवल सड़कें ही नहीं बल्कि लोगों के पैदल चलने के लिए बनाए गए फुटपाथ में बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। कई जगह तो उनमें गड्ढ़े खोद कर छोड़ दिए गए हैं। यह समस्या सेक्टर-20 में सबसे ज्यादा है। हमेशा डर बना रहता है कि छोटे बच्चे इन गड्ढों में न गिर जाएं। बारिश के समय सेक्टर की सड़कें तालाब बन जाती हैं। इस दौरान किसी भी बच्चे के साथ हादसा हो सकता है। -योगिंदर क्वात्रा, उपप्रधान, सेक्टर-20 आरडब्ल्यूए।
इन क्षेत्रों में है ज्यादा परेशानी
शहर के सेक्टर- 26, 20, 12, 12ए, नगर निगम चौक, इंडस्ट्रियल एरिया फेज-1 और फेज-2 में सड़कें बहुत ज्यादा खस्ताहाल हो चुकी हैं। इंडस्ट्रियल एरिया फेज-1 में हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के कार्यालय के सामने भी सड़क की हालत बहुत बुरी है।
अधिकारियों को दे चुके हैं शिकायत
सेक्टर-26 में सड़क के बीचों-बीच गड्ढे बने हैं। इस बारे में कई बार नगर निगम और एचएसवीपी के अधिकारियों को अवगत कराया जा चुका है, मगर समस्या का समाधान नहीं किया जा रहा है। खासकर रात के समय तो ये गड्ढे और भी ज्यादा खतरनाक हो जाते हैं। सबसे ज्यादा खतरा दोपहिया वाहन चालकों को रहता है। इसमें पहिया फंसने से हादसा हो सकता है और दोपहिया वाहन पर सवार लोगों की जान भी जा सकती है। -धर्म सिंह हीरा, प्रधान, सेक्टर-26 आरडब्ल्यूए।
बारिश में सड़कें टूटती हैं। जल्द ही शहर में टूटी सड़कों की मरम्मत कराई जाएगी। इस बारे में संबंधित अधिकारियों को निर्देश देकर उचित कार्रवाई कराई जाएगी। हमारा प्रयास है कि शहरवासियों को किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े। - विजय गोयल, एसई, नगर निगम।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00