विज्ञापन

जिसकी हत्या में जेल में हैं चार साध्वियां, वो जिंदा मिला तो भाई बोला-विश्वास नहीं होता

डिजिटल न्यूज डेस्क, बस्ती। Updated Tue, 28 Jan 2020 06:45 AM IST
विज्ञापन
संत कुटीर आश्रम, जो अभी तक सील है।
संत कुटीर आश्रम, जो अभी तक सील है। - फोटो : amarujala
ख़बर सुनें

सार

  • भाई बोला, तपस्यानंद के जिंदा होने की मिली है जानकारी
  • लालगंज थाने में नौ मार्च 18 को दर्ज हुआ था हत्या का मुकदमा
  • पेशबंदी में बिहार के नवादा में भी हुई थी एफआईआर
  • बिहार जाने से घबरा रहे तपस्यानंद के घर वाले

विस्तार

तपस्यानंद उर्फ श्यामचंद्र का अपहरण कर हत्या मान चुके परिवार वालों को उसके जिंदा मिलने की जानकारी तो हुई लेकिन अब तक संपर्क नहीं हो पाया। तपस्यानंद के भाई कल्पनाथ चौधरी निवासी सेल्हरा थाना लालगंज जनपद बस्ती ने अमर उजाला को बताया कि मीडिया के माध्यम से श्यामचंद्र के जिंदा मिलने की जानकारी मिली है। मगर पुलिस वालों ने अब तक उनसे बात नहीं कराई है।
विज्ञापन
बिहार जाकर मिलने के प्रश्न पर कल्पनाथ का कहना है कि डर के मारे वे बिहार जाने से घबरा रहे हैं। डर की वजह नवादा थाने में बीते दीपावली के दिन दर्ज हुआ दुष्कर्म का मुकदमा है, जिसमें तपस्यानंद के विपक्षी ने उसके परिवार वालों पर दर्ज कराया था। इस मुकदमे में कल्पनाथ चौधरी समेत अन्य वे सभी आरोपी शामिल हैं, जिसने तपस्यानंद का अपहरण करके हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था।   

नौ मार्च 2018 को लालगंज थाने में तपस्यानंद उर्फ श्यामचंद्र चौधरी व उसकी दो बहनों का अपहरण करने का मुकदमा दर्ज किया गया। जिसमें कहा गया कि दोनों बहनें तो वापस आ गईं लेकिन श्यामचंद्र को गायब कर दिया गया। पुलिस ने हत्या, साक्ष्य मिटाने और साजिश की धारा में महंत सच्चिदानंद और उनके सहयोगियों पर मुकदमा पंजीकृत किया।

पुलिस ने इस मामले में चार साध्वियों को जेल भेजा था। मगर चार दिन पहले अचानक तपस्यानंद के बिहार के शेखपुरा में कुछ साध्वियों के साथ साधुवेश में जिंदा मिलने की खबर आते ही मामले में नया मोड़ आ गया। एसपी हेमराज मीणा का कहना है कि पुलिस विधि संगत कदम उठाएगी। इसके लिए लालगंज थाने की टीम व विवेचक को तलब किया गया है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

क्या था मामला

विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us