पुलिस की कस्टडी में चौकी पर खड़ी कार से डैक, बैट्री और स्टपनी गायब हुई

Ghaziabad Bureau Updated Wed, 07 Jun 2017 12:38 AM IST
ख़बर सुनें
चौकी पर खड़ी कार से डैक, बैट्री और स्टेपनी गायब
वकीलों ने पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की
अमर उजाला ब्यूरो
गढ़मुक्तेश्वर। पुलिस की कस्टडी में ब्रजघाट चौकी पर खड़ी एक वकील की कार से डैक, बैट्री और स्टेपनी गायब हो गई। इससे वकीलों में रोष है। वकीलों ने अमानत में खयानत करने वाले पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई न होने पर आंदोलन करने की चेतावनी दी।
कानपुर निवासी रैकिन सिंह ने करीब तीन माह पहले स्विफ्ट डिजायर कार खरीदी थी। दस दिन पहले नेशनल हाईवे पर हादसा होने के बाद ब्रजघाट पुलिस ने कार अपनी कस्टडी में लेकर चौकी पर खड़ी करा लिया था। सोमवार को अदालत से रिलीज ऑर्डर लेने के बाद मालिक कार लेने पहुंचा तो उसके डैक, स्टेपनी और बैट्री गायब देख उसके होश उड़ गए। उसने इस संबंध में शिकायत की तो कोई संतोष जनक जवाब देने की बजाए पुलिसिया अंदाज में उसे चौकी से बाहर कर दिया गया। इसके बाद उसने अपने वकीलों को इस घपलेबाजी की जानकारी दी। बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष बलराज त्यागी का कहना है कि चौकी पर खड़ी कार से सामान गायब होना बेहद गंभीर मामला है। इसलिए संबंधित पुलिस वालों के खिलाफ अमानत में खयानत का केस दर्ज कर कार्रवाई की जाए। अन्यथा इसके विरोध में वकील हड़ताल कर आंदोलन करेंगे।
ब्रजघाट चौकी इंचार्ज सतेंद्र कुमार का कहना है कि चौकी पर पुलिस कस्टडी में खड़ी कार से सामान चोरी होने का आरोप पूरी तरह निराधार है। क्योंकि इस बाबत कार मालिक ने भी कोई तहरीर नहीं दी है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

Noida

3. शादी के बाद पति व उसके ममेरे भाई ने धोखे से बुलाकर किया गैंगरे

3. शादी के बाद पति व उसके ममेरे भाई ने धोखे से बुलाकर किया गैंगरे

22 मई 2018

Related Videos

गाजियाबाद में देर रात पार्टी करने से रोकने पर सुरक्षा गार्ड का किया ये हाल

गाजियाबाद में सनसनीखेज घटना सामने आई है। यहां शालीमार सिटी में देर रात पार्टी करने से रोकने पर युवकों ने सुरक्षा गार्ड पर जनलेवा हमला कर उसे अधमरा कर दिया।

7 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen