HC ने माना क्रिमिनलों का फ्रेंड है ये पुलिसवाला

अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Mon, 03 Feb 2014 01:38 PM IST
Delhi High Court dismisses the appeal of former sergeant
हाईकोर्ट ने बदमाशों के आपसी झगड़े में सर्विस रिवॉल्वर से गोली चलाने वाले दिल्ली पुलिस के पूर्व हवलदार की अपील खारिज करते हुए जिला अदालत में सरेंडर करने का निर्देश दिया। हवलदार की अपराधियों से सांठगांठ थी और उनके आपसी झगड़े में उसने 1996 में एक बदमाश पर गोली चला दी थी।

निचली अदालत ने उसे तीन साल की सजा सुनाई थी। जस्टिस एसपी गर्ग ने जिला अदालत के फैसले को कायम रखते हुए पूर्व पुलिसकर्मी लियाकत अली को जिला अदालत में सरेंडर करने का निर्देश दिया है। कोर्ट ने कहा कि याची की बदमाशों से सांठगांठ थी।

य‌ह भी पढ़ें: आधार कार्ड और वोटर आईडी ने सजा होने से बचाया

निचली अदालत ने लियाकात को जनवरी 1999 में हत्या की कोशिश का दोषी ठहराते हुए तीन साल कैद व चार हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई थी। इस अदालती फैसले को लियाकत ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।

याचिका खारिज करते हुए हाईकोर्ट ने कहा कि वह दिल्ली पुलिस में हवलदार था और उसने सर्विस रिवॉल्वर का इस्तेमाल बदमाशों के दो गुटों का झगड़ा निबटाने के लिए किया।

पेश मामले के अनुसार लियाकत ने 12 मई 1996 को पूर्वी दिल्ली इलाके में अपने सर्विस रिवॉल्वर से संजय नामक बदमाश पर गोली चला दी थी। बदमाशों के दो गुटों में पैसों के बंटवारे को लेकर झगड़ा हो रहा था। लियाकत ने एक गुट की ओर से दूसरे के बदमाश पर गोली चला दी थी।

Spotlight

Most Read

Budaun

संरक्षित स्मारक रोजा को मजहबी रंग देने की कोशिश

संरक्षित स्मारक रोजा को मजहबी रंग देने की कोशिश

21 जनवरी 2018

Related Videos

आम आदमी पार्टी के इन 20 विधायक की सदस्यता रद्द, राष्ट्रपति ने दी मंजूरी

आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों की सदस्यता रद्द करने के मामले में राष्ट्रपति ने लगाई मुहर। ऑफिस ऑफ प्रॉफिट मामले में गई 20 आप विधायकों की सदस्यता।

21 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper