पूर्व कांग्रेसी काउंसलर के बेटे को अगवा कर 50 करोड़ की फिरौती मांगने का मामला: चार गिरफ्तार

ब्यूरो/अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Mon, 10 Oct 2016 09:36 AM IST
विज्ञापन
four arrested in ex Councillor son kidnapping case in delhi
- फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

सार

-27 सितंबर को पुलिस की वर्दी में आए बदमाशों ने सुभाष पैलेस इलाके से काउंसलर के बेटे को कर लिया था अगवा
-मांगी थी पचास करोड़ रुपये की फिरौती, तीन अक्तूबर को बदमाशों ने पांच करोड़ रुपये लेकर अपहृत युवक को छोड़ा
-गुडग़ांव में टैक्सी में बिठा दिया था, पीड़ित सैनिक विहार स्थित अपने घर पहुंचा, पुलिस को तभी से थी बदमाशों की तलाश
-पुलिस ने पीड़ित की कार बरामद करने के अलावा वारदात में इस्तेमाल स्कोर्पियो, स्विफ्ट, एक बाइक बरामद की
-पुलिस को मामले में गैंग लीडर समेत तीन अन्य बदमाशों की तलाश जारी, जगह-जगह छापेमारी जारी

विस्तार

कांग्रेस के पूर्व निगम पार्षद शंभू शर्मा के बेटे को अगवा कर 50 करोड़ रुपये की फिरौती मांगने के मामले में दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने चार बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है।
विज्ञापन

आरोपियों की पहचान दिल्ली, प्रहलादपुर-बांगर निवासी आनंद उर्फ आने (37), स्वरूप नगर, दिल्ली निवासी विचित्र वीर उर्फ बच्चू उर्फ पिंटोस (30), छावला निवासी विक्रांत शौकीन उर्फ सीटू (30) और विनोद कुमार (32) के रूप में हुई है।
बदमाशों ने 27 सितंबर को पूर्व पार्षद के बेटे कार्तिक शर्मा (20) को अगवा कर लिया था। बाद में पांच करोड़ रुपये की फिरौती लेकर तीन अक्तूबर को उसे छोड़ दिया था।
पुलिस ने कार्तिक की बीएमडब्ल्यू कार व वारदात में इस्तेमाल स्कोर्पियो व एक बाइक समेत दो अन्य कारें बरामद की है। पुलिस को अभी गैंग लीडर महेश और उसके दो साथी आशू व मंजीत डबास की तलाश है।

अपराध शाखा के संयुक्त आयुक्त रविंद्र यादव ने बताया कि 27 सितंबर को सैनिक विहार निवासी कार्तिक शर्मा अपनी बीएमडब्ल्यू कार से पीतमपुरा स्थित गुरू गोविंद सिंह कॉलेज के लिए निकला था।

कार्तिक बीबीए अंतिम वर्ष का छात्र है। जैसे ही वह सुभाष पैलेस इलाके में पहुंचा, अचानक पुलिस की वर्दी पहने बाइक सवार दो बदमाशों ने उसकी कार को रुकवा लिया। इस बीच एक स्कोर्पियो कार में कुछ अन्य बदमाश आए।

बदमाशों ने बीएमडब्ल्यू कार से उतारकर जबरन कार्तिक को अपनी स्कोर्पियो में बिठा लिया। बाद में वह पीड़ित की कार लेकर भी फरार हो गए। एक प्रत्यक्षदर्शी अमन कुमार की शिकायत पर सुभाष पैलेस थाने में मामला दर्ज कर छानबीन शुरू की गई। इधर कार्तिक के अगवा होते ही बदमाशों ने पचास करोड़ रुपये फिरौती की डिमांड कर दी।

लोकल पुलिस के अलावा अपराध शाखा ने भी मामले की छानबीन शुरू की। इधर लोकल व टेक्नीकल सर्विलांस के आधार पर छानबीन की गई। बदमाश कभी दिल्ली तो कभी हरियाणा व राजस्थान अपनी लोकेशन बदलकर कॉल करते रहे।

पुलिस लगातार बदमाशों के पीछे रही। इधर बदमाशों को पुलिस का पता चलते ही उन्होंने परिवार से जल्दी रुपयों का इंतजाम करने के लिए कहा। सूत्रों की मानें तो परिवार से मामला पांच करोड़ में तय हो गया।

रुपये लेकर बदमाशों ने तीन अक्तूबर को गुडग़ांव में एक टैक्सी में कार्तिक को बिठाकर उसे छोड़ दिया। इधर पुलिस का कहना है कि परिवार ने एक करोड़ रुपये की रकम बदमाशों को दी। कार्तिक के सुरक्षित घर आने के बाद पुलिस ने जांच तेजी से शुरू की।

एसीपी संजय सहरावत और इंस्पेक्टर सुनील कुमार की टीम ने छानबीन जुटाना शुरू की। जांच के दौरान पुलिस शुक्रवार सूचना मिली कि वारदात में शामिल कुछ बदमाश झटीकरा मोड़ के पास अपने कुछ साथियों से मिलने आने वाले हैं।

सूचना के बाद हल्की झड़प के बाद पुलिस ने आनंद, विचित्रवीर, विक्रांत शौकीन व विनोद कुमार को दबोच लिया। इनके पास से एक स्विफ्ट कार बरामद की। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने वारदात में अपना हाथ होने की बात कबूल कर ली।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

छह माह पूर्व बना ली गई थी कार्तिक को अगवा करने की योजना...

विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us