जेवरकांड: एक साल से फरार है कुख्यात बावरिया काला प्रधान

अमित सिंह/अमर उजाला, नोएडा Updated Sun, 04 Jun 2017 09:51 AM IST
highway gangrape
highway gangrape - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
एसटीएफ द्वारा सात-नवंबर-2015 में गिरफ्तार किया गया कुख्यात बावरिया राज किशोर बहेलिया उर्फ काला प्रधान एक साल से फरार है। एसटीएफ ने उसे बेटे धर्मेन्द्र के साथ थाना सूरजपुर क्षेत्र से गिरफ्तार किया था। बाप-बेटे एक साल पहले अलीगढ़ के फर्जी जमानतियों के जरिए जिला जेल से बाहर आए थे और तब से लापता हैं। जेवर गैंग रेप कांड में इस गिरोह के शामिल होने की आशंका के मद्देनजर इनकी तलाश तेज कर दी गई है।
एसटीएफ ने जिस वक्त जयसिंहपुर उर्फ बनपोई थाना मोहम्मदाबाद जिला फर्रूखाबाद निवासी काला प्रधान को गिरफ्तार किया था, उस पर 10 हजार रुपये का ईनाम था। तब वह यूपी के कई जिलों से लूट व हत्या की दर्जनों वारदात में वांछित था। काला प्रधान ने 17 साल की उम्र में अपराध की दुनिया में कदम रखा था। धीरे-धीरे उसने अपना गिरोह बना लिया। ये गिरोह लूट से पहले हत्या के लिए कुख्यात है। ये गिरोह एनसीआर, यूपी, बिहार व मध्य प्रदेश सहित कई राज्यों में वारदात कर चुका है। 15 साल तक कई जिलों व राज्यों की पुलिस से बचने के बाद काला प्रधान बेटे सहित एसटीएफ के हत्थे चढ़ा था।

दिल्ली में रह रहा था बेटा
गिरफ्तारी के वक्त काला प्रधान और उसका बेटा धर्मेन्द्र दीपक विहार नजफगढ़ दिल्ली में रह रहे थे। जेवर गैंग रेप कांड केबाद पुलिस ने इनके दिल्ली के पते पर जांच की तो मालूम चला कि आरोपी अब यहां नहीं रहते हैं। मूल निवास ये पहले ही छोड़ चुके हैं। आशंका है कि ये लोग अब भी एनसीआर में कहीं रहकर वारदातों कर रहे हैं।

सम संख्या में बिना मोबाइल फोन के वारदात करता है गिरोह
काला प्रधान गिरोह अंधविश्वास की वजह से हमेशा सम संख्या में वारदात करता है। इसके अलावा ये गिरोह वारदात में मोबाइल का बिल्कुल भी प्रयोग नहीं करते हैं। योजना और रैकी भी ये मिलकर करते हैं। मां और नाबालिग बेटी संग हुए बुलंदशहर गैंग रेप में भी 12 आरोपी थे। जेवर गैंग रेप में भी छह आरोपी थी। पिछले एक साल में बुलंदशर व जेवर आसपास हुई ज्यादातर वारदातों में बदमाश सम संख्या में ही थे। इसलिए भी इस गिरोह के शामिल होने की आशंका बढ़ गई है। ये भी आशंका है कि बाप-बेटे या इनके गिरोह के कुछ सदस्यों ने स्थानीय बदमाशों के साथ वारदात की है।

एक साल से फरारी के बाद भी वांछित नहीं है
गिरफ्तारी के छह माह बाद बाप-बेटा अलीगढ़ के फर्जी जमानतदारों की मदद से जेल से बाहर आ गए। आरोपियों की जमानत की जानकारी मिलने पर एसटीएफ एसएसपी की तरफ से अलीगढ़ एसएसपी को कई बार पत्र लिख, इनके जमानतियों का सत्यापन करने और कोर्ट में रिपोर्ट लगाने के लिए पत्र लिखा। बावजूद अलीगढ़ पुलिस ने सत्यापन नहीं किया। कोर्ट से इनकी जमानत खारिज करा इन्हें वांछित घोषित कराने का भी कोई प्रयास अब तक नहीं किया गया है। 
आगे पढ़ें

रिश्तेदारों और परिवार के लोगों का बड़ा गिरोह है

Recommended

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

Chandigarh

पटियालाः छापेमारी कर पुलिस ने पकड़ी मिलावटी दूध की बड़ी खेप, 20 क्विंटल पनीर और 32 क्विंटल घी बरामद

पटियाला पुलिस ने गुरूवार को कस्बा देवीगढ़ में मिहौन रोड स्थित एक फैक्टरी पर सेहत विभाग के साथ मिलकर छापामारी की।

16 अगस्त 2018

Related Videos

अटल बिहारी वाजपेयी: एक मास्टर के बेटे का पीएम पद तक का सफर

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की नाजुक बनी हुई है। वे अभी लाइफ सपॉर्ट सिस्टम पर हैं। वे 2 महीने से ज्यादा समय से दिल्ली के एम्स में भर्ती हैं। वाजपेयी के बेहतर स्वास्थ्य के लिए आज पूरा देश दुआ कर रहा है।

16 अगस्त 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree