धूमधाम से बारात लेकर पहुंचा दुल्हा, लेकिन आ गई पुलिस और सारे अरमानों पर फिर गया पानी

न्यूज डेस्क/अमर उजाला, हरिद्वार Updated Wed, 14 Feb 2018 07:47 AM IST
police stop minor girl Marriage in haridwar
ख़बर सुनें
गाजे बाजे के साथ बारात पहुंची। दूल्हे ने घोड़ी पर बैठने के लिए सेहरा भी बांध लिया था। हर कोई फिल्मी गाने की धुन पर थिरकने को लेकर बेताब था, लेकिन तभी कुछ ऐसा घटा कि सात फेरे लेने की तमन्ना अधूरी रह गई।
दरअसल, दुल्हन के बालिग न होने की शिकायत पर पहुंची पुलिस दीवार बनकर आ खड़ी हुई। खैर, हताश निराश बारात को दुल्हन पक्ष ने जैसे तैसे मान मनौव्वल कर दावत खिलाकर विदा किया। सहमति हुई कि छह माह बाद शादी की रस्में अदा की जाएंगी।

 ये किसी फिल्म का सीन का नहीं है बल्कि कनखल के गांव मिस्सरपुर में मंगलवार को हुआ घटनाक्रम है। दरअसल, पिरान कलियर क्षेत्र के गांव इमलीखेड़ा की रहने वाली एक किशोरी की शादी पड़ोसी जिले सहारनपुर के गांव सुनहटी शेख के एक युवक से तय हुई थी। विवाह स्थल के लिए किशोरी की मौसी के गांव मिस्सरपुर को चुना गया था। मंगलवार को होने वाली शादी की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई थी।

दोपहर के वक्त बारात लेकर दूल्हा पक्ष भी पहुंच गया था। घुडचढ़ी से ठीक पहले कनखल पुलिस ने पहुंचकर शादी रुकवा दी। पुलिस ने जब दुल्हन के बालिग होने के संबंध में प्रमाण मांगा, तब परिजन हक्के बक्के रह गए। एक बारगी परिजन ने विरोध करना चाहा लेकिन तभी पुलिस ने दुल्हन की उम्र का प्रमाणपत्र पेश किया। 
 
आगे पढ़ें

रोड़ा बने युवक की दिलचस्प कहानी

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Lucknow

अखिलेश यादव अपने पिता पर ही चल रहे हैं 'चरखा दांव' : भाजपा

पूर्व मुख्यमंत्री व सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने पिता मुलायम सिंह यादव पर उन्हीं का पसंदीदा चरखा दांव चलकर राजनीतिक मात देने की कोशिश की है।

22 मई 2018

Related Videos

VIDEO: इस बच्ची की तस्वीर आपकी आंखे नम कर देगी

अब आपको तस्वीर दिखाते हैं एक ऐसी बेटी की जिसके आंसू अपने पिता के पार्थिव शरीर के आगे नहीं थम रहे थे। बात कर रहे हैं शहीद दीपक नैनवाल की जिन्होंने जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से लोहा लेते हुए अपनी शहादत दी।

22 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen