बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
UP Police (SI) 2021: किन-किन राज्यों के लोग कर सकते हैं यूपी पुलिस में SI के लिए आवेदन, समझिए पूरी बात
Safalta

UP Police (SI) 2021: किन-किन राज्यों के लोग कर सकते हैं यूपी पुलिस में SI के लिए आवेदन, समझिए पूरी बात

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

रुड़की: टिकट नहीं था तो टीटीई ने यात्री को पीट पीटकर किया लहूलुहान, 46 मिनट तक रोके रखी ट्रेन

ऋषिकेश से बाड़मेर जाने वाली जोधपुर एक्सप्रेस में ट्रैवलिंग टिकट एग्जामिनर (टीटीई) ने रुड़की में बेटिकट यात्री को मारपीट कर लहूलुहान कर दिया। यही नहीं, टीटीई ने रुड़की रेलवे स्टेशन पर चेन खींचकर ट्रेन को 46 मिनट तक रोके रखा। बाद में घायल यात्री और टीटीई ने एक-दूसरे के खिलाफ तहरीर दी। रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स (आरपीएफ) ने यात्री के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर चालान कर दिया है जबकि टीटीई के खिलाफ ट्रेन की चेन पुलिंग करने और मारपीट का मुकदमा दर्ज किया गया है।

जानकारी के अनुसार, बुधवार देर शाम ऋषिकेश से जोधपुर जाने वाली बाड़मेर एक्सप्रेस में राजस्थान के जयपुर निवासी राजेंद्र कुमार हरिद्वार से बगैर टिकट कोच नंबर एस-4 में चढ़े थे। कुछ देर बाद टीटीई करण दीप सिंह कोच में आए और राजेंद्र से टिकट मांगा। यात्री ने कहा कि वह चलती ट्रेन में चढ़े हैं और उनके पास टिकट नहीं है। उनका जयपुर जाना जरूरी है, लिहाजा टिकट बना दिया जाए। आरोप है कि इससे नाराज टीटीई ने यात्री के साथ गालीगलौज कर दी।

विरोध करने पर टीटीई ने ट्रेन में चल रहे दूसरे टीटीई को भी बुला लिया और दोनों ने यात्री के साथ मारपीट शुरू कर दी। ट्रेन रुड़की स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर तीन पर रात 8.20 बजे पहुंची। यात्री के शोर मचाने पर स्टेशन पर तैनात आरपीएफ और जीआरपी कोच में पहुंची। यात्री ने बताया कि टीटीई ने उनके साथ मारपीट की है और सिर भी फोड़ दिया। पुलिस ने यात्री और टीटीई को उतरने के लिए कहा, लेकिन टीटीई नहीं उतरा और कई बार चेन खींची। 

इससे अन्य यात्री भी परेशान हो गए। स्टेशन मास्टर ने मामले की सूचना कंट्रोल रूम मुरादाबाद को दी। कुछ देर में सीएमआई अजय तोमर भी पहुंच गए। उनके समझाने पर भी टीटीई नहीं माना और चेन पुलिंग करता रहा। इसके बाद आरपीएफ चौकी प्रभारी रामभरोसे और एएसआई जगत सिंह चौहान को यात्री खिलाफ तहरीर दी।
... और पढ़ें

देहरादूनः एक होटल में हुई युवती की साधारण सी हत्या बनी पेचिदा, ‘क’ और ‘ज’ के राज में उलझी पुलिस

साधारण सी हत्या या दुर्घटना लग रही होटल एंबेसडर की कहानी पेचिदा रूप लेती जा रही है। सीधी दिशा में जांच के सारे रास्ते लगभग बंद हो चुके हैं। लिहाजा, पुलिस अब कमरे में लिखे दो अक्षरों ‘क’ और ‘ज’ के उत्तर तलाशने में जुट गई है।

यह दोनों अक्षर दीवार पर लिपस्टिक से लिखे गए हैं। जबकि, बहुत सी बातें तौलिए से मिटा दी गई हैं। उसने (कातिल) क्या लिखा और क्या मिटाया पुलिस फिलहाल यह सब खोजने में जुटी हुई है।

दरअसल, कमरे में शव जिस तरह से पड़ा मिला उससे दो बातें सामने आ रही थीं। पहली यह कि यह एक सोची समझी साजिश के तहत हत्या की गई और फिर शव को गद्दों के बीच छुपा दिया गया।

दूसरी यह भी हो सकती थी कि किसी दुर्घटनावश युवती की मौत हो गई और उसके साथ वहां मौजूद युवक घबराहट में उसे वहां छुपाकर चुपचाप वहां से चला गया। इन सब बातों की कड़ियां जोड़ते हुए पुलिस की जांच आगे बढ़ रही थी। लेकिन, ऊधमसिंह नगर में बात अटक गई। 
... और पढ़ें

देहरादून: मैराथन धावक युवती से कार चालक ने की अभ्रदता, मुकदमा दर्ज

प्रैक्टिस के दौरान देहरादून की मैराथन धावक युवती से अभ्रदता के मामले में पुलिस से शिकायत की गई है। मामला रविवार का बताया जा रहा है। रायपुर थाने में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। वहीं इस मामले में पीड़ित ने पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार को ट्वीटर व इंस्ट्राग्राम के माध्यम से शिकायत भी भेजी है।

युवती ने सोमवार को पुलिस को लिखित में शिकायत भेजी है। उन्होंने तहरीर में लिखा है कि वह रविवार करीब सात बजे शाम को अपने भाई के साथ रायपुर थानो मार्ग पर अपनी ट्रेनिंग के लिए जा रही थी।

तभी अचानक एक कार रुकी। कार चालक ने उसके साथ अभ्रदता करते हुए गंदी गालियां भी दी। पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने बताया कि पीड़ित की ओर से शिकायत मिल गई है। रायपुर थाना के एसओ को कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।
 

 

बाजार से लौट रही किशोरी से छेड़खानी, केस दर्ज 
लक्सर बाजार से सामान लेने गई किशोरी को गांव के ही एक युवक ने बुरी नीयत से दबोच लिया। साथ ही जबरन खेत में खींचकर ले जाने का प्रयास किया। किशोरी के शोर मचाने पर आरोपी युवक फरार हो गया। किशोरी के पिता की तहरीर पर पुलिस ने युवक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। 

लक्सर कोतवाली क्षेत्र की भिक्कमपुर चौकी क्षेत्र के एक गांव निवासी एक व्यक्ति ने पुलिस को तहरीर देकर बताया कि 15 मार्च को उसकी बेटी (15) गांव के पास ही बाजार से सामान लेने के लिए साइकिल से निकली थी। बाजार से घर वापस आते समय रास्ते में गांव के एक युवक ने साइकिल के आगे अपनी बाइक लगा दी। युवक ने उसके साथ छेड़खानी की। साथ ही उसे खींचकर जबरन खेत में ले जाने का प्रयास करने लगा।

बेटी के शोर मचाने पर लोगों को आता देख आरोपी बाइक लेकर फरार हो गया। घर पहुंचकर बेटी ने आपबीती सुनाई। कोतवाली प्रभारी प्रदीप चौहान ने बताया कि तहरीर के आधार पर आरोपी के खिलाफ छेड़छाड़ और पॉक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। आरोपी की तलाश शुरू कर दी गई है। जल्द ही आरोपी की गिरफ्तारी की जाएगी।

... और पढ़ें

देहरादून: अमेरिकी नागरिकों को ठगने वाले गिरोह का सदस्य गिरफ्तार, ऐसे देते हैं घटना को अंजाम 

विभिन्न सेवाओं और कंप्यूटर वायरस खत्म करने के नाम पर अमेरिकी नागरिकों को ठगने वाले गिरोह के एक सदस्य को देहरादून एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया। वह आईटी पार्क में बैठककर यह सब कर रहा था। उसके एक साथी को अमेरिका की जांच एजेंसी एफबीआई ने भी गिरफ्तार किया था। इसके बाद से भारत में भी विभिन्न राज्यों में उसके कई साथियों पर नजर रखी जा रही थी। 

एसटीएफ एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि विदेशियों को ठगने वाले एक गिरोह का जनवरी में भंडाफोड़ किया गया था। इसके बाद से लगातार एसटीएफ ऐसे लोगों पर नजर बनाए हुए थी। इसी बीच बुधवार रात को आईटी पार्क स्थित एडी बिल्डर्स नाम के ऑफिस पर छापा मारा गया। यहां से अर्जुन सिंह निवासी भारापुर, भौरी, बहादराबाद हरिद्वार को गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में उसने बताया कि वह अपने साथियों के साथ मिलकर केवल अमेरिका के नागरिकों को ही निशाना बनाते थे। एसएसपी ने बताया कि आरोपी के खातों में डॉलर में भुगतान होता था। उसके कई खातों में करोड़ों के लेनदेन की जानकारी मिली है। उसके खातों की जानकारी प्रवर्तन निदेशालय को भेजी जा रही है। 

उन्होंने बताया कि उसके एक साथी निपुण गंधोक को फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टीगेशन (एफबीआई) ने गिरफ्तार किया था। वह टेक्सास के एक कॉलेज में पढ़ाई करता था।  इसके बाद से देहरादून व अन्य स्थानों पर इन्होंने कॉल सेंटरों को बंद कर दिया था। 
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

रुड़की:  दो पक्षों में जमकर चली तलवारें, पिस्टल से फायरिंग, चार लोग हुए घायल

पुरानी रंजिश में दो पक्ष आमने-सामने आ गए और जमकर धारदार हथियार चले। इस दौरान एक पक्ष ने दूसरे पक्ष पर पिस्टल से फायरिंग कर दी, जिससे भगदड़ मच गई। मारपीट में दोनों पक्षों के चार लोग घायल हो गए। वहीं, पुलिस ने दोनों पक्षों की तहरीर पर दस लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

सिविल लाइंस कोतवाली क्षेत्र स्थित नगला इमरती निवासी जावेद और अय्यूब पक्ष में पुरानी रंजिश चली आ रही है। जावेद पक्ष का आरोप है कि एक मार्च को कार से करीब एक लाख रुपये चोरी हो गए थे। शक के आधार पर दुकानदार यूसुफ के बेटे से पूछताछ करते हुए पुलिस में शिकायत करने की बात कही। कुछ देर बाद रुपयों से भरा बैग उनके बाथरूम में पड़ा मिला।

आरोप है कि इससे नाराज यूसुफ पक्ष के लोगों ने चार मार्च को हथियार से लैस होकर उनके घर हमला बोल दिया, जिसमें बहरोज और अहसान घायल हो गए। जबकि, अय्यूब पक्ष का आरोप है कि उनके बेटे यूसुफ के साथ दूसरे पक्ष के सोनू ने गालीगलौज कर दी थी। विरोध करने पर दूसरे पक्ष के लोगों ने घर आकर हमला बोल दिया था। साथ ही पिस्टल से दो राउंड फायरिंग कर दी।

किसी तरह उन्होंने भागकर जान बचाई। हमले में यूसुफ और सलमान गंभीर घायल हो गए। कोतवाली प्रभारी राजेश साह ने बताया कि दोनों पक्षों की तहरीर पर यूसुफ, यूनुस, खुशनूद, सलमान, उस्मान और एहसान उर्फ सोनू, जावेद, बहरोज, इमरान, वसीम के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।
... और पढ़ें

देहरादून: रिश्वतखोर लेफ्टिनेंट कर्नल को 10 साल की कैद, ठेकेदार से ली थी 10 हजार रुपये की रिश्वत

देहरादून सीबीआई विशेष जज सुजाता सिंह की कोर्ट ने 10 हजार रुपये रिश्वत लेते गिरफ्तार हुए लेफ्टिनेंट कर्नल भरत जोशी को 10 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने जोशी पर 55 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। जोशी वर्ष 2016 में एमईएस (मिलिट्री इंजीरियरिंग सर्विसेज) में गैरीसन इंजीनियर के पद पर तैनात थे और ठेकेदार का बिल पास कराने के लिए रिश्वत मांगी थी। इस मामले में जोशी के सहयोगी इंजीनियर को भी पांच साल की सजा हुई है। भरत जोशी वर्तमान में वर्तमान में हैदराबाद में तैनात है।

सीबीआई के अधिवक्ता सतीश गर्ग ने बताया कि आईआरडीई (इंस्ट्रयूमेंट रिसर्च एंड डेवलपमेंट एस्टेब्लिशमेंट) में निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदार हरेंद्र का करीब 16 लाख रुपये का भुगतान बकाया था। काफी प्रयासों के बाद भी भुगतान नहीं हो पा रहा था। इसके लिए उन्होंने लेफ्टिनेंट कर्नल भरत जोशी (निवासी पोखरा, जिला पौड़ी गढ़वाल) से संपर्क किया। लेकिन, इस बिल का भुगतान करने के लिए जोशी ने हरेंद्र से रिश्वत की मांग की। पूरी बात 38 हजार रुपये में तय हुई। 

ठेकेदार ने 10 हजार रुपये पहले और बाकी पांच दिन बाद देने को कहा। इसी बीच ठेकेदार इस मामले की सीबीआई से शिकायत कर चुका था। इसके बाद चार जुलाई 2016 को सीबीआई की टीम ने विज्ञान विहार रायपुर स्थित भरत जोशी के आवास से उन्हें रिश्वत लेते गिरफ्तार कर लिया। सीबीआई की जांच में सामने आया कि इस पूरे प्रकरण में असिस्टेंट गैरीसन इंजीनियर मनीष कुमार का भी हाथ है। ठेकेदार से हुई बातचीत की रिकार्डिंग में मनीष कुमार की भी आवाज थी।

कुछ दिन बाद सीबीआई ने मनीष कुमार (निवासी सेक्टर 22, द्वारका, नई दिल्ली) को भी गिरफ्तार कर लिया। सीबीआई ने 29 सितंबर 2017 को चार्जशीट दाखिल की। ट्रायल के दौरान सीबीआई ने 14 गवाह पेश किए। इसके साथ ही दर्जनों दस्तावेजी और इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्यों को भी अदालत में प्रस्तुत किया गया। सभी पहलुओं को सुनने के बाद सोमवार को अदालत ने भरत जोशी को 10 साल और मनीष कुमार को पांच साल कठोर कारावास की सजा सुनाई। भरत पर अलग-अलग धाराओं में 55 हजार और मनीष कुमार पर 15 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया।
... और पढ़ें

देहरादून : केंद्रीय मंत्रालय में सलाहकार बनवाने का झांसा देकर 10 लाख रुपये ठगे, हरिद्वार में भी दर्ज हैं केस

केंद्रीय उपभोक्ता एवं खाद्य मंत्रालय में सलाहकार सदस्य बनवाने का झांसा देकर 10 लाख रुपये ठग लिए गए। आरोपी ने खुद को राज्यमंत्री बताया था। आरोप यह भी है कि अब आरोपी उन्हें जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। मामले में आरोपी दंपती और उनके ड्राइवर के खिलाफ न्यायालय के आदेश पर मुकदमा दर्ज किया गया है। 

शिकायतकर्ता अवनीश कौशिक निवासी लोहियापुरम, एमडीडीए कॉलोनी, त्यागी रोड देहरादून ने कोर्ट को शिकायत की थी। इसके बाद कौशल कुमार निवासी शिवालिक नगर बीएचईएल हरिद्वार उनकी पत्नी संगीता और ड्राइवर राममूर्ति शुक्ला निवासी हरिद्वार के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। अवनीश कौशिक का कहना है कि साल 2019 में ट्रांसपोर्ट का काम करने वाले अपने दोस्त रवि के जरिए कौशल कुमार से मिले।


कौशल कुमार ने उनको बताया कि वह हरिद्वार के ही रहने वाले हैं। कई फैक्ट्रियों के मालिक और उपभोक्ता खाद्य मंत्रालय में भारत सरकार की ओर से राज्यमंत्री है। इसके बाद कई महीनों तक मुलाकात होती रही। आरोप है कि कौशल कुमार ने अवनीश कौशिक से कहा कि वह उनको उपभोक्ता खाद्य मंत्रालय भारत सरकार की ओर से सलाहकार सदस्य बनवा सकता है। 

विश्वास दिलाया कि वह राज्यमंत्री है और इतनी पावर है कि किसी भी पद पर नियुक्ति कर सकता है। इन बातों पर विश्वास कर बायोडाटा, पैन कार्ड, आधार कार्ड, फोटो सहित अन्य दस्तावेज दे दिए। इस काम में 15 लाख रुपये का खर्चा बताया। छह जनवरी 2020 को पांच लाख रुपये लेने के बाद विभाग के लेटर हैड पर रसीद तैयार कर दी गई। अवनीश कौशिक ने बताया कि उनका बिल्डिंग मैटेरियल सप्लायर का काम है।

राजनीति से उनका कोई वास्ता नहीं रहा है। कौशल कुमार ने कई मंत्रियों से भी मिलवाया। कौशल कुमार की पत्नी संगीता और ड्राइवर राममूर्ति भी कई बार उनके घर आए और विश्वास दिलाते हुए षड़यंत्र के तहत पूरी रकम देने का दबाव बनाया गया। 

सदस्यता के बारे में पूछा गया तो फाइल विभाग में होने की बात कही गई। 18 जुलाई 2019 को पांच लाख रुपये और दिए गए, लेकिन आज तक न तो मंत्रालय में किसी प्रकार का सलाहकार बनाया गया और न ही पैसे वापस किए गए। पैसा मांगने पर धमकाते हुए अपनी पावर का हवाला देकर झूठे मुकदमा दर्ज करवाने की धमकी दी जा रही है। 

हरिद्वार में आरोपी पर दर्ज हैं कई मुकदमे

आरोपी के खिलाफ हरिद्वार में कई फर्जीवाड़े व चेक बाउंस के मुकदमे चल रहे हैं। अवनीश कौशिक ने कोर्ट में दाखिल प्रार्थनापत्र में कहा है कि इस संबंध में पुलिस से शिकायत की गई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। नगर कोतवाली एसएसआई लोकेंद्र बहुगुणा ने बताया कि जानकारी मिली है कि हरिद्वार में अवनीश कौशिक व उसके भाई रजनीश कौशिक के खिलाफ कौशल कुमार ने धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करवाया है। हरिद्वार में दर्ज मुकदमे की जानकारी भी जुटाई जा रही है। साक्ष्यों के आधार पर विवेचना जारी है।
... और पढ़ें

मकान खरीदने के नाम पर आईएमए कर्मी को लगाई 49 लाख से अधिक की चपत

रुपये
मकान बेचने का सौदे कर महिला ने भारतीय सैन्य अकादमी के कर्मचारी से लाखों रुपये हड़प लिए गए। मामले में वसंत विहार पुलिस ने मकान मलिक और किरायेदार महिला के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। पीड़ित के अनुसार इस सौदे में वह अब तक कुल 49 लाख रुपये खर्च कर चुका है।

देवी प्रसाद जुयाल ने पुलिस को बताया कि वे आईएमएम में कार्यरत हैं। उन्हें अपने परिवार के लिए एक मकान की आवश्यकता थी। अनंत एसोसिएट के प्रोपराइटर सचिन राजपूत ने उन्हें इंजीनियर्स एन्क्लेव फेस-दो में एक दो मंजिला मकान दिखाया। यह मकान अनु मलिक नाम की महिला का था। मकान का सौदा 55 लाख में तय हुआ। मकान खरीदने के लिए सचिन राजपूत ने उन्हें 55,09,228 रुपये का ऋण दिलाया।

वहीं, इस मकान पर 15,60,000 रुपये का लोन पहले से बकाया था। इसलिए उन्होंने यह राशि विक्रेता अनु मलिक को चेक से दे दी। इसके साथ ही तीन लाख रुपये एडवांस और दो लाख बीस हजार रुपये नगद दिए। इसके बाद विक्रयपत्र बनाने में भी काफी पैसा खर्च हुआ। देवी प्रसाद के मुताबिक मकान में रेनू अग्रवाल किराये पर रहती थी।

उसने छह माह के अंदर कब्जा देने की बात कही। लेकिन तय समय के बाद भी अनु मलिक और रेनू अग्रवाल ने उन्हें मकान पर कब्जा नहीं दिया। उल्टा उन्हें धमकी दी गई। पीड़ित के मुताबिक उन्हें हर महीने करीब 72 हजार रुपये की किश्त चुकानी पड़ रही है। पीड़ित का कहना है कि अभी तक 49,21771 रुपये की धनराशि खर्च हो चुकी है। तहरीर पर पुलिस ने अनु मलिक और रेनू अग्रवाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज का लिया है।
... और पढ़ें

होली से एक दिन पहले बुझ गया घर का चिराग, सांडों के हमले में गई मासूम की जान

ऋषिकेश के शिवाजी नगर में दो सांडों की लड़ाई में एक मासूम की जान चली गई। होली पर्व के एक दिन पहले एक घर का चिराग बुझ गया। नगर निगम ऋषिकेश की लापरवाही के चलते शिवाजीनगर में मासूम के जाने से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। 

शनिवार शाम करीब साढे छह बजे शिवाजीनगर गली नंबर 34 के समीप दो सांड आपस में भिड़ गए। सांडों की लड़ाई से बचने के लिए समीप ही खेल रहा एक मासूम वहां से भाग ही रहा था कि उसके ऊपर अचानक ठेली गिर गई, और ठेली के ऊपर भीड़ रहे सांडों ने उसे कुचल दिया। इस घटना में मासूम बुरी तरह लुहूलुहान हो गया। आनन-फानन में परिजनों ने मासूम को एम्स में भर्ती किया।

जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। आईडीपीएल चौकी प्रभारी चिंतामणी मैठाणी ने मासूम की पहचान ऋषभ (9) पुत्र बृजेश, निवासी गलीनंबर 34 शिवाजीनगर ऋषिकेश के रूप में की है।   स्थानीय नागरिक रवि गुप्ता ने बताया कि मासूम अपने घर में दो भाई  बहिनों में बड़ा था। वह कक्षा तीन में बीस बीघा स्थित सुमन उपासना स्कूल में पड़ता था। छोटी बहिन पांच साल की है। होली पर्व पर घर का चिराग बुझ गया है। वहीं इस घटना से पड़ोसी भी सदमें में हैं। 

मासूम के मौत पर स्थानीय लोगों ने नगर निगम के खिलाफ आक्रोश जताया। स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि शिवाजीनगर में निराश्रित जानवरों की सूचना कई बार निगम प्रशासन को दी जा चुकी है। लेकिन निगम प्रशासन कार्रवाई करने को तैयार नहीं है। जिसका खामियाजा स्थानीय लोगों को भुगतना पड़ता है।

ऑटो की टक्कर से बच्चा घायल 

वहीं हरिद्वार में सड़क पार कर रहे बच्चे को ऑटो ने टक्कर मार दी। दुर्घटना के बाद बच्चे की मां व दादी ने ऑटो चालक को पीट दिया। इसके बाद आसपास मौजूद लोगों ने ऑटो चालक को छुड़वाया और बच्चों को ऑटो से अस्पताल में उपचार के लिए भिजवाया। 

ज्वालापुर कोतवाली क्षेत्र के गोविंदपुरी के बाहर शनिवार की शाम को एक बच्चा सड़क पार कर रहा था। इसी बीच दूसरी तरफ से एक ऑटो आ रहा था। बच्चे को देखकर ऑटो चालक ने ब्रेक भी लगाए। तेज गति के कारण ऑटो की टक्कर बच्चे को लग गई। टक्कर लगने से बच्चे के मुंह और पैर में चोट भी लग गई।
... और पढ़ें

उत्तराखंड छात्रवृत्ति घोटाला:  कनाडा भाग गया घोटाले का आरोपी, ऋषिकेश निवासी दूसरा भी फरार

छात्रवृत्ति घोटाले का एक आरोपी विदेश भाग गया है। एसआईटी की टीम को उसकी लोकेशन कनाडा में मिली है जबकि दूसरा आरोपी भी फरार है। एसएसपी ने आरोपियों पर ढाई-ढाई हजार रुपये का इनाम घोषित किया है। 

13 लाख रुपये की छात्रवृत्ति हड़पी

हरियाणा के यमुनानगर, जगाधरी के रहने वाले सुशांत गर्ग ने समाज कल्याण विभाग से छात्रवृत्ति ली थी। उसने अपना कॉलेज सहारनपुर के फतेहपुर में बताया था। साथ ही यहां के 52 फर्जी छात्रों के नाम पर वर्ष 2012 से 2015 तक करीब 13 लाख रुपये की छात्रवृत्ति हड़पी थी।

एसआईटी इस घोटाले की जांच कर रही है। एसआईटी प्रभारी मंजूनाथ टीसी के अनुसार, पड़ताल में सामने आया है कि सुशांत गर्ग कनाडा में है। इसलिए उसका लुकआउट सर्कुलर जारी करते हुए फरार घोषित कर दिया गया है।

इसके अलावा आवास विकास कॉलोनी, ऋषिकेश के रहने वाले राहुल बिश्नोई ने भी हरिद्वार की विवेक विहार कॉलोनी में अपनी एकेडमी बताकर समाज कल्याण विभाग से वर्ष 2011 से 2013 तक 2.59 करोड़ रुपये की छात्रवृत्ति हड़पी थी।

मौके पर जाकर जांच की तो वहां कोई एकेडमी नहीं मिली

अधिकारियों ने मौके पर जाकर जांच की तो वहां कोई एकेडमी नहीं मिली। सुशांत गर्ग और राहुल विश्नोई के लगातार फरार होने पर दोनों की संपत्ति भी कुर्क की गई थी। अब राहुल बिश्नोई को भी फरार घोषित किया गया है। दोनों की गिरफ्तारी पर एसएसपी सेंथिल अबूदई कृष्णराज एस की ओर से ढाई-ढाई हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया गया है।

बता दें कि उत्तराखंड में छात्रवृत्ति के 99 लाख रुपये से अधिक डकारने के आरोप में एसआईटी ने सहारनपुर के पैरामेडिकल कॉलेज के सचिव (मालिक) और एक दलाल को गिरफ्तार किया है। यह छात्रवृत्ति शोभित यूनिवर्सिटी आदर्श एरिया गंगोह सहारनपुर के छात्रों के नाम से जारी की गई थी। जांच में पाया गया कि लाभार्थी छात्रों में से किसी का भी पंजीकरण यूनिवर्सिटी में नहीं था। 
... और पढ़ें

देहरादून की पॉश कॉलोनी के स्पा सेंटर की आड़ में चल रहे देह व्यापार का भंडाफोड़

स्पा सेंटर की आड़ में चल रहे देह व्यापार का पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने स्पा सेंटर के रिसेप्शनिस्ट को गिरफ्तार किया है। जबकि, इसके मालिक को भी मुकदमे में नामजद किया गया है।

पुलिस को ओल्ड सर्वे रोड स्थित पटाया यूनी सेक्स सलून एंड स्पा सेंटर के बारे में जानकारी मिली थी। पुख्ता जानकारी के बाद पुलिस ने इस स्पा सेंटर में छापा मारा तो यहां एक महिला व एक पुरुष आपत्तिजनक हालत में मिले। यही नहीं केबिन से आपत्तिजनक वस्तुएं भी बरामद हुईं। पुलिस के अनुसार पुरुष के संबंध में स्पा सेंटर के रजिस्टर में कोई जानकारी नहीं दी गई थी।

पूछताछ में पता चला कि सेंटर के मालिक सुशील चौधरी के कहने पर यहां देह व्यापार कराया जाता है। इसमें वहां पर रिसेप्शनिस्ट महिला की भी भूमिका रहती है। पूछताछ के बाद स्पा सेंटर के केबिन में आपत्तिजनक हालत में मिले पुरुष व महिला के साथ ही रिसेप्शन पर मौजूद महिला को गिरफ्तार कर लिया गया।

स्पा सेंटर के मालिक सुशील चौधरी व अन्य आरोपी जगमीत निवासी डीएल रोड थाना डालनवाला, दो महिलाओं के खिलाफ अनैतिक व्यापार निवारण अधिनियम 1956 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया।

देह व्यापार के दोषी होटल मालिक समेत पांच को दस साल की कैद

विशेष पोक्सो न्यायाधीश की अदालत ने नाबालिग से देह व्यापार, दुराचार, बहला-फुसला कर देह व्यापार सहित पोक्सो अधिनियम में होटल के मालिक समेत पांच लोगों को दस-दस वर्ष का कारावास व दस-दस हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई है। अभियुक्तों को जेल भेज दिया गया है।

जिला न्यायालय में विशेष पोक्सो न्यायाधीश हरीश गोयल ने साक्ष्यों के आधार पर दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद अपना फैसला सुनाया। उन्होंने पांचों आरोपियों को दोषी मानते हुए अलग-अलग धाराओं में सजा सुनाई गई। अभियुक्त महेश खन्ना, बीना देवी, प्रकाश राणा, राजेश भंडारी व पीड़िता की मां पर दस-दस वर्ष की जेल व दस-दस हजार रुपये अर्थदंड लगाया गया।

शासकीय अधिवक्ता सुदर्शन चौधरी ने बताया कि 25 जून 2019 को रुद्रप्रयाग कोतवाली में पीड़िता ने होटल स्वामी महेश खन्ना व अपनी मां के अलावा अन्य महिला बीना ऊर्फ मधु द्वारा अनैतिक व्यापार कराए जाने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।
... और पढ़ें

पौड़ी: दुष्कर्म के आरोपियों के परिजनों ने पीड़िता को पीटा, राजस्व पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप

उत्तराखंड के पौड़ी में एक गांव में दुष्कर्म के आरोपियों के परिजनों ने पीड़िता को पीट दिया। घटना तब सामने आई जब पीड़िता किसी तरह खुद को बचाकर जिला अस्पताल पौड़ी पहुंची। यहां पीड़िता ने मीडिया को अपनी आपबीती सुनाई। पीड़िता ने बताया कि विगत 20 मार्च को गांव के ही दो युवकों ने उसके साथ दुष्कर्म किया, जिनमें एक आरोपी सेना में तैनात है। पीड़िता ने आरोप लगाया कि मामले की शिकायत राजस्व पुलिस में दर्ज कराई थी, लेकिन राजस्व पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। 

दुष्कर्म पीड़िता ने बताया कि 20 मार्च को वह गांव से बाजार जा रही थी। इस दौरान गांव के ही दो युवकों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। साथ ही घटना की जानकारी किसी को भी बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी। पीड़िता ने घटना की जानकारी परिजनों को दी।

इस पर पीड़िता के परिजनों ने राजस्व पुलिस में 21 मार्च को दोनों आरोपियों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। पीड़िता ने बताया कि बुधवार को आरोपियों के परिजनों ने मुझे अपने घर बुलाया और मुकदमा वापस लेने का दबाव बनाते हुए मेरे साथ मारपीट की। मारपीट में मेरे हाथ और पैरों पर चोटें आई हैं। पीड़िता ने आरोप लगाया कि शिकायत दर्ज कराने चार दिन बाद भी राजस्व पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया।

दूसरी ओर राजस्व उपनिरीक्षक गजेंद्र रतूड़ी ने बताया कि मामले में दो आरोपियों के खिलाफ एससीएसटी एक्ट, दुष्कर्म व जान से मारने की धमकी देने के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपी घटना के बाद से ही फरार हैं, जिनकी गिरफ्तारी के लिए संभावित ठिकानों पर दबिश भी दी गई है। वहीं एसडीएम सदर एसएस राणा ने बताया कि घटना की गंभीरता को देखते हुए मामला रेगुलर पुलिस को स्थानांतरित कर दिया गया है। हालांकि सीओ सदर पीएल टम्टा ने बताया कि मामले से जुड़ी आधिकारिक सूचना अभी नहीं मिल पाई है। 

जनप्रतिनिधि भी खामोश
तहसील पौड़ी के एक गांव में दुष्कर्म जैसी घटना को लेकर जनप्रतिनिधियों की खामोशी भी सवालों के घेरे में हैं। क्षेत्र में युवती से दुष्कर्म की घटना, उसके बाद आरोपियों के परिजनों की ओर से पीड़िता को पीटने जैसा गंभीर प्रकरण सामने है, लेकिन क्षेत्र के किसी भी जनप्रतिनिधि ने पीड़िता के पक्ष में आवाज नहीं उठाई है। जबकि पीड़िता के गांव से ही क्षेत्र के ब्लाक प्रमुख, पूर्व ब्लाक प्रमुख, पूर्व जिला पंचायत सदस्य, पूर्व दर्जाधारी राज्य मंत्री भी हैं।
... और पढ़ें

हरिद्वारः जिले में पहली बार मिली स्मैक की इतनी बड़ी खेप कि पुलिस भी हो गई हैरान

हरिद्वार जिले में पुलिस ने पहली बार किसी महिला को लाखों रुपये की कीमत की स्मैक की बड़ी खेप के साथ गिरफ्तार किया है। महिला का पति पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ पाया है। पुलिस ने महिला और उसके पति के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। साथ ही महिला को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया। 

एक्सक्लूसिव: एसटीएफ की इस तकनीक से तस्करों की खैर नहीं, नशे की छोटी सी पुड़िया भी ढूंढ निकालेगी ये मशीन

एसपी देहात कार्यालय में एसपी देहात प्रमेंद्र सिंह डोबाल ने प्रेस वार्ता कर बताया कि भगवानपुर क्षेत्र में पुलिस को लगातार स्मैक की बिक्री होने की सूचना मिल रही थी। इस पर पुलिस की ओर से मुखबिर को अलर्ट किया गया था। सोमवार रात सूचना मिली थी कि क्षेत्र के सिकंदरपुर भैंसवाल गांव में राशिद के घर पर बड़ी मात्रा में स्मैक रखी हुई है।

सूचना पर राशिद के घर पर दबिश दी गई और घर की तलाशी ली गई। इस बीच घर से 1.42 किलोग्राम स्मैक बरामद की। पुलिस ने राशिद की पत्नी साहिस्ता को घर से गिरफ्तार किया, जबकि राशिद घर से फरार मिला। पूछताछ में महिला ने बताया कि पति राशिद बरेली से स्मैक खरीदकर लाता था।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X