लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Chandigarh ›   NIA takes Lawrence Bishnoi on production warrant

Punjab: विदेशी संगठनों से जुड़े लॉरेंस बिश्नोई के तार, जेल से रची साजिश, अब NIA करेगी पूछताछ

अमर उजाला/ संवाद, चंडीगढ़/ बठिंडा (पंजाब) Published by: ajay kumar Updated Thu, 24 Nov 2022 11:36 PM IST
सार

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या में पाकिस्तान से आए आधुनिक हथियारों का इस्तेमाल किया गया था। एनआईए इस बारे में आरोपी लॉरेंस से पूछताछ करेगी। एनआईए पता लगाने में जुटी है कि पाकिस्तान से गैंगस्टर लॉरेंस के गुर्गों को कौन-कौन से गैंग हथियार सप्लाई करते हैं और किसके माध्यम से। 

गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई
गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई - फोटो : फाइल
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई को 10 दिन के रिमांड पर लिया है। इस बीच एनआईए ने बताया कि गैंगस्टर लॉरेंस का भारत और विदेशों में मौजूद आतंकवादी संगठनों से साठगांठ है। जांच एजेंसी ने जानकारी दी है कि, उसे विदेशी आतंकवादियों के साथ मिलकर रची गई एक साजिश के मामले में गिरफ्तार किया गया है। इस आतंकी संगठनों के लोग भारत में भी सक्रिय हैं, जो गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई से संपर्क में थे।



एनआईए प्रवक्ता ने बताया कि जांच में पता चला था कि बिश्नोई ने अधिकांश साजिशें जेल के अंदर से रची थीं और देश और विदेश में स्थित गुर्गों के एक संगठित नेटवर्क से इन्हें अंजाम दिया जा रहा था। बिश्नोई पिछले एक दशक से अधिक समय से पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली में लक्षित और सनसनीखेज हत्याओं को अंजाम देने की साजिश सहित कई मामलों में शामिल और वांछित है।


लॉरेंस साल 2014 से जेल में बंद है। उसे पिछले साल दिल्ली की तिहाड़ जेल में स्थानांतरित कर दिया गया था लेकिन 29 मई को गायक सिद्धू मूसेवाला की सनसनीखेज हत्या के सिलसिले में पंजाब पुलिस उसे 14 जून को गिरफ्तार कर पंजाब ले गई थी। 

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने चार अगस्त को धारा 120 बी और गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम की धारा 17, 18 और 18बी के तहत बिश्नोई के खिलाफ मामला दर्ज किया था। एनआईए ने 26 अगस्त को दोबारा मामला दर्ज कर जांच शुरू की थी। 

30 साल के लॉरेंस पर 50 से ज्यादा मामले
पंजाब के फाजिल्का निवासी 30 वर्षीय लॉरेंस पर 50 से ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज हैं। एनआईए को जांच में पता चला कि लॉरेंस अपने भाइयों सचिन और अनमोल बिश्नोई और गोल्डी बराड़, काला जठेड़ी, काला राणा, बिक्रम बराड़ और संपत नेहरा सहित अन्य सहयोगियों के साथ ड्रग्स व हथियारों की तस्करी और व्यापक जबरन वसूली जैसी आतंकवादी और आपराधिक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए धन जुटा रहे थे। 
रिमांड की मांग के दौरान एनआईए के वकील ने कोर्ट के सामने कहा कि गैंगस्टर्स को पाकिस्तान से हथियार मिल रहे थे और ये विदेशी संगठनों के साथ मिलकर मूसेवाला जैसे लोगों की हत्या की साजिश में शामिल रहा है। रिमांड के दौरान उससे जांच एजेंसी पाकिस्तान में मिले हथियार और विदेशी आतंकी संगठनों से कनेक्शन को लेकर पूछताछ करेगी।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00