आज ख़ास

विज्ञापन

अपनी कविता साझा करें

दोहावली

Vijendra Yadav

Mere Alfaz
                                                                
                                                    दोहावली
बड़े-बड़े आये यहां राजा और सरदार।
चले गए इस जगत से क्या जीवन का सार।
जीवित रहे जो जगत हित किए पुण्य के काम।
अमर हो गया जगत में उनका स्वर्णिम नाम।
आए हैं इस जगत में करने जग कल्याण।
थोड़ा-थोड़ा कर चले ह...और पढ़ें
2 hours ago

पतझड़ का पत्ता

suryakant nirala

Mere Alfaz
                                                                
                                                    मैं पतझड़ का पत्ता .....
अपने शाख़ से बिछड़ गया हूं ।
यह समय का सीमा है या प्रकृति का नियति ?
दोस किसका नहीं पता ?
कदमों में पड़ा जो पत्ता ।
उसका क्या पता ?
समय की सीमा या प्रकृति की नियति ?
मैं पतझड़और पढ़ें
2 hours ago

ये दौर भी....!

Deepak Bundela

Mere Alfaz
                                                                
                                                    ये दौर भी दुनियां का कैसा आ गया
के ज़िन्दगी आदमी ही आदमी की खा गया...!!

अपनी चाहते के मंसूबो के लिए बेच दी इंसानियत
किसी के अरमा-ए-ज़िन्दगी के ख्वाबो को खा गया..!!

दर्द के दर्द में सिसकती हैं आदमी-ए-ज़िन्दगीयाऔर पढ़ें
2 hours ago

स्त्री या वेदना

Ashoka the

Mere Alfaz
                                                                
                                                    तुम माँ बहन भार्या हो, जग में खूब सम्मान है।
हाँ,तुम वही स्त्री हो, सृष्टिकर्ता तेरी पहचान है।

तुमने पुरुषों को जन्म दिया,जो पौरुष दिखलाते है।
कभी अदब कभी रौब से, तुम पर हुकुम चलाते हैं।

तुम अबला बन सहती हो...और पढ़ें
2 hours ago

नारी तुम डरो नहीं, नारी तुम सहो नहीं

444 ,

Mere Alfaz
                                                                
                                                    नारी तुम डरो नहीं, नारी तुम सहो नहीं
नारी तुम डरो नहीं, नारी तुम सहो नहीं

आज तक सभी को अपनी दयालुता दिखाई तुमने,
अब सभी की अपनी नारी शक्ति दिखाओ तुम,
पुरुषों के अहंकार की कुप्रथाओं ने जकड़ा तुमको,
अब इन कुप्...और पढ़ें
2 hours ago

जी लें जरा खुशी से

priti vishwakarma

Mere Alfaz
                                                                
                                                    अब न उम्मीद रख किसी से,
न शिकायतें कर किसी से..

जो मन कहता है वो करें,
अब जी लें थोड़ा खुशी से..

न सोचें गुजरे हुए कल की,
और न आने वाले पल की..

जो क्षण मिला है नसीब से,
उसे भी जी...और पढ़ें
2 hours ago

ये देश की पुकार है

Devendra Kaushik

Mere Alfaz
                                                                
                                                    कर्ज है ये देश का ,ये देश की पुकार है,
देश पे कुर्बान हो , मेरी जान बेकरार है।
रक्त का बलिदान दू , ये वक्त की गुहार है,
देश के लिए मरु, ये देश को उपहार है।।

शंख नाद युद्ध का , ये शत्रु की ललकार है,
मां भारती...और पढ़ें
2 hours ago

शिक्षा है अनमोल

Sandeep Kumar

Mere Alfaz
                                                                
                                                    शिक्षा, शिक्षा सरल सुहृद्य, संस्कारों को एक भाषा है
शिक्षा अच्छे समाज के शिलान्यास की परिभाषा है,

शिक्षा, शिक्षा सुई से जहाज़ तक जाने का एक रास्ता है
शिक्षा समाज में अच्छाई बुराई पहचानने का वास्ता है,

शिक्ष...और पढ़ें
2 hours ago

जब भी जी चाहे नई दुनिया बसा लेते हैं

Dhiraj Verma

Mere Alfaz
                                                                
                                                    जब भी जी चाहे नई दुनिया बसा लेते हैं लोग |
एक चेहरे में कई चेहरे छुपा लेते हैं लोग....

उसकी मासूम सी आंखों से जब उसने मेरी तरफ देखा
जैसे लगा पूरी कायनात मेरी बस तुम ही तुम हो।

अच्छा हुआ इजहार ए मोहब्बत साहबऔर पढ़ें
2 hours ago

देश दुर्दशा

exam cracker

Mere Alfaz
                                                                
                                                    वहशी नेता फाड़ रहे हैं लोकतंत्र की चादर को
दंभ में अपने मिटा रहे हैं भारत मां के आदर को।
मीठे बचनो का शहद चटा कर कुर्सी को कब्जाए हैं।
चुरा- चुरा के नीव देश की ख़ुद का महल बनाए हैं।
पाकर सत्ता की चाभिया सुदामा, कुबेर बन जा...और पढ़ें
2 hours ago
विज्ञापन

विशेष

आज के शीर्ष कवि Show all

Shambhu Nath

1031 कविताएं

View Profile

Vijendra Yadav

78 कविताएं

View Profile

Arti Kumari

393 कविताएं

View Profile

exam cracker

2 कविताएं

View Profile

priti vishwakarma

1 कविता

View Profile

Sai Smita

89 कविताएं

View Profile

suryakant nirala

45 कविताएं

View Profile

Dr fouzia

828 कविताएं

View Profile

Dhiraj Verma

1 कविता

View Profile
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।