विज्ञापन

आज का शब्द

322 Followers 416 Poems

आज का शब्द: परत और सोम ठाकुर की रचना- फिर मन आषाढ़ हो चला 

काव्य डेस्क

Aaj Ka Shabd
                                                                
                                                    परत का अर्थ है- सतह पर फैली हुई वस्तु की मोटाई, तह। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- परत। प्रस्तुत है सोम ठाकुर की रचना- फिर मन आषाढ़ हो चला 

फिर 
मन आषाढ़ हो चला 
तैरती रुई धुनी हुई। ...और पढ़ें
46 minutes ago

आज का शब्द: मनोरथ और नागार्जुन की कविता- उनको प्रणाम !

काव्य डेस्क

Aaj Ka Shabd
                                                                
                                                    मनोरथ यानी मन की इच्छा या अभिलाषा। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है मनोरथ। प्रस्तुत है नागार्जुन की कविता- उनको प्रणाम

जो नहीं हो सके पूर्ण-काम 
मैं उनका करता हूँ प्रणाम। 

कुछ कुंठि...और पढ़ें
8 hours ago

आज का शब्द: मलय और महादेवी वर्मा की हिंदी कविता 'जाग तुझको दूर जाना'

काव्य डेस्क

Aaj Ka Shabd
                                                                
                                                    हिंदी हैं हम शब्द-श्रृंखला में आज का शब्द है मलय जिसका अर्थ है - 1. दक्षिण भारत की एक पर्वत शृंखला ; मलयगिरि 2. चंदन। कवयित्री महादेवी वर्मा ने अपनी कविता में इस शब्द का प्रयोग किया है। 

चिर सजग आंखें उनींदी आज कैसा व्यस्त बाना!
...और पढ़ें
1 day ago

आज का शब्द: प्रकरण और कुँवर नारायण की कविता- भाषा की ध्वस्त पारिस्थितिकी में

काव्य डेस्क

Aaj Ka Shabd
                                                                
                                                    प्रकरण का अर्थ होता है- उत्पन्न करना, चर्चा या वर्णन। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- प्रकरण। प्रस्तुत है कुँवर नारयण की कविता- भाषा की ध्वस्त पारिस्थितिकी में 

प्लास्टिक के पेड़ 
नाइलॉन के फूल ...और पढ़ें
2 days ago

आज का शब्द: भनक और पाश की कविता- अब विदा लेता हूं मेरी दोस्त   

काव्य डेस्क

Aaj Ka Shabd
                                                                
                                                    भनक यानी धीमा शब्द, ध्वनि या उड़ती हुई खबर। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- भनक। प्रस्तुत है अवतार सिंह संधू 'पाश' की कविता- अब विदा लेता हूं मेरी दोस्त  

अब विदा लेता हूँ
मेरी दोस्त, मै...और पढ़ें
3 days ago

आज का शब्द: दर्प और अज्ञेय की रचना- कवि के प्रति

काव्य डेस्क

Aaj Ka Shabd
                                                                
                                                    दर्प का मतलब होता है- अभिमान, घमंड, गर्व। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- दर्प। आज का शब्द: दर्प और अज्ञेय की रचना- कवि के प्रति 

कवि के प्रति कवि
दर्प किया : शक्ति नहीं मिली।

सुख...और पढ़ें
4 days ago

आज का शब्द: मनोरम और रामधारी सिंह "दिनकर" की रचना- किरणों में तू मुस्काई

काव्य डेस्क

Aaj Ka Shabd
                                                                
                                                    मनोरम का अर्थ है- मनोहर या सुंदर। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- मनोरम। प्रस्तुत है रामधारी सिंह ''दिनकर'' की रचना- किरणों में तू मुस्काई 

यह फूलों का देश मनोरम
कितना सुन्दर है...और पढ़ें
5 days ago

आज का शब्द: बिछौना और गोपालदास "नीरज" की कविता- गमन की बात न करना !

काव्य डेस्क

Aaj Ka Shabd
                                                                
                                                    बिछौना का अर्थ है- बिछाने का कपड़ा, बिछावन या बिस्तर। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- बिछौना। प्रस्तुत है- गोपालदास नीरज की कविता- गमन की बात न करना !

आज बसंत की रात,
गमन की बात न करना !
...और पढ़ें
6 days ago

आज का शब्द: उत्पल और महादेवी वर्मा की कविता- क्या पूजन क्या अर्चन रे !

काव्य डेस्क

Aaj Ka Shabd
                                                                
                                                    उत्पल का अर्थ है- कमल। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- उत्पल। प्रस्तुत है महादेवी वर्मा की कविता- क्या पूजन क्या अर्चन रे !

क्या पूजन क्या अर्चन रे!

उस असीम का सुंदर मंदिर मेरा लघुतम जीव...और पढ़ें
1 week ago

आज का शब्द : लिपि और राजेश जोशी की कविता 'भूलने की भाषा'

काव्य डेस्क

Aaj Ka Shabd
                                                                
                                                    हिंदी हैं हम शब्द-श्रृंखला में आज का शब्द है लिपि जिसका अर्थ है 1. किसी भाषा के वर्ण या अक्षर लिखने की विशिष्ट प्रणाली 2. लिखने का ढंग ; लिखावट। कवि राजेश जोशी ने अपनी कविता में इस शब्द का प्रयोग किया है। 

पानी की भाषा में एक नदी
...और पढ़ें
1 week ago
विज्ञापन

विशेष

आज के शीर्ष कवि Show all

Ram Vallabh

107 कविताएं

View Profile

Dr fouzia

918 कविताएं

View Profile

Om Gopal

179 कविताएं

View Profile

Sanchita Rani Singh

109 कविताएं

View Profile

Manju Anand

51 कविताएं

View Profile

Om prakash meher

48 कविताएं

View Profile

Pandit Chandradutt

103 कविताएं

View Profile