लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Nainital News ›   Tigress Attack in uttarakhand kept running here and there for two and a half hours

ढाई घंटे दहशत का माहौल: मरचूला बाजार में इधर से उधर भागती रही बाघिन तो छतों पर चढ़ गए लोग, कई दिन से थी भूखी

संवाद न्यूज एजेंसी, रामनगर (नैनीताल)। Published by: हल्द्वानी ब्यूरो Updated Wed, 16 Nov 2022 04:54 PM IST
सार

छतों पर चढ़कर लोग चीखने-चिल्लाने लगी और बाघिन इधर से उधर भटकती रही। इस बीच सूचना पर मंदाल रेंज के रेंजर अमोल ईस्टवाल मय फोर्स मौके पर पहुंचे। बाघिन सड़क पर घूम रही थी तो वह बोलेरो के अंदर से हवाई फायर करने लगे, ताकि बाघिन जंगल की ओर चली जाए।
 

मरचूला के बाजार घूम रही बाघिन का शव।
मरचूला के बाजार घूम रही बाघिन का शव। - फोटो : RAMNAGAR
विज्ञापन

विस्तार

मरचूला बाजार में बाघिन के आने पर ढाई घंटे तक दहशत का माहौल रहा। सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। लोग दरवाजे बंद कर छतों पर चढ़ गए। सेही के हमले से घायल बाघिन कई दिन से भूखी थी। बाजार में वह इधर से उधर भटकती रही। वायरल वीडिया में जिप्सी सवार वनकर्मियों ने दो राउंड फायर किए। बाघिन भी वनकर्मियों के वाहन पर कई बार हमला करती दिखी। पोस्टमार्टम में उसके शरीर से 12 छर्रे मिले।



सोमवार रात नौ बजे मरचूला बाजार में बाघिन पहुंची तो दहशत फैल गई। लोगों ने एक-दूसरे को सूचित कर दरवाजे बंद कर लिए। छतों पर चढ़कर लोग चीखने-चिल्लाने लगी और बाघिन इधर से उधर भटकती रही। इस बीच सूचना पर मंदाल रेंज के रेंजर अमोल ईस्टवाल मय फोर्स मौके पर पहुंचे।


बाघिन सड़क पर घूम रही थी तो वह बोलेरो के अंदर से हवाई फायर करने लगे, ताकि बाघिन जंगल की ओर चली जाए। बाघिन जंगल की ओर तो नहीं गई, वह इधर से उधर भटकती रही। ऐसे में दो बार बाघिन ने वन कर्मियों की कार पर भी हमला करने का प्रयास किया।

आसान शिकार के मकसद से बाजार में आ गई
वायरल हो रहे वीडियों में साफ दिख रहा है कि वन कर्मियों ने बाघिन के ऊपर दो फायर किए हैं। ढाई घंटे तक बाघिन ने ग्रामीणों सहित वन कर्मियों पर हमला का प्रयास किया। बताया जा रहा है कि बाघिन भूखी और कमजोर थी। ऐसे में आसान शिकार के मकसद से बाजार में आ गई।

मंदाल रेंज के रेंजर अमोल ईस्टवाल ने बताया कि बाघिन ने कई बार वन कर्मियों पर हमले का प्रयास किया। कई बार हवाई फायर करने के बाद भी वह बाजार से नहीं गई। ऐसे में एक हवाई फायर के दौरान एक छर्रा उसके पिछले हिस्से में लगी। छर्रा लगने के बाद वह काफी देर तक घायल अवस्था में घूमती रही और करीब 11.15 पर वह जमीन पर गिर गई। बाघिन की मौत होने के बाद उसके शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया गया। बाघिन की मौत के बाद ग्रामीणों ने साढ़े 11 बजे राहत की सांस ली।

बाघिन के शरीर से निके 12 छर्रे
बताया जा रहा है कि पोस्टमार्टम में बाघिन के शरीर से 12 छर्रे निकले हैं। उसके शरीर में से सेही के हमले कांटे भी निकले, उससे उसका लीवर डेमेज हो चुका था। वह कई दिन से भूखी भी थी।

ये भी पढ़ें...Mini Airport: केदारनाथ में पर्वतीय शैली में बनेगा मिनी एयरपोर्ट, मसूरी में भी खुली हेलीपोर्ट की राह

कॉर्बेट निदेशक ने दिए घटना की जांच के निर्देश
सोमवार रात जिस तरह से मरचूला में घटनाक्रम हुआ और बाघिन की मौत हुई। इस मामले में गंभीरता लेते हुए कॉर्बेट निदेशक डा. धीरज कुमार पांडेय ने जांच के निर्देश उपनिदेशक को दिए है। उपनिदेशक इस पूरे प्रकरण की जांच करायेंगे और जांच में जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। कॉर्बेट निदेशक ने बताया कि वीडियो में दो फायर करते हुए वन कर्मी दिख रहे है, जबकि वन कर्मियों ने कई फायर किए गए है। इसको देखते हुए पूरे प्रकरण की जांच कराई जा रही है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00