डायट में प्रशिक्षण लिया नहीं, पा रहे लाभ

Farrukhabad Updated Fri, 20 Jul 2012 12:00 PM IST
फर्रुखाबाद। परिषदीय विद्यालयों में मृतक आश्रित में लगे कई शिक्षक डायट में प्रशिक्षण लिए बिना ही पदोन्नति का लाभ पा रहे हैं। इस मामले का राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ के पदाधिकायियों ने गुरुवार को बीएसए को ज्ञापन देकर किया। उन्होंने मृतक आश्रित शिक्षिकों को डायट में प्रशिक्षण दिलाए जाने की मांग की हैं।
राष्ट्रीय शैक्षिक महांसघ के पदाधिकारियों ने जिला बेसिक शिक्षाधिकारी भगवत पटेल को दिए ज्ञापन में कहा कि जनपद में मृतक आश्रित नियुक्त शिक्षिकों को डायट में प्रशिक्षण दिलाने की व्यवस्था की जाए, ताकि शिक्षा की गुणवक्ता में सुधार हो सके। ग्रामीण और नगर क्षेत्र में कार्यरत शिक्षिको की प्रान्नति सूची जल्द जारी की जाए। बेसिक शिक्षाधिकारी और लेखाधिकारी कार्यालय में वर्षों से एक ही पटल पर डटे लिपिकों के कार्य क्षेत्र में फेर बदल किया जाए। उनके कार्यालय में बैठने का समय निर्धारित कर दिया जाए। जनपद स्तर पर कई वर्षों से लेखा पर्ची वितरित नहीं की गई। जिस कारण शिक्षिकों को परेशानी उठानी पड़ रही हैं। लेखापर्ची वितरित कराई जाए। संघ ने जनपद में बने अतिरिक्त कक्षा कक्षों की विद्यालय वार गिनती कराने और उनकी गुणवक्ता की जांच कराने की मांग उठाई हैं। नव परिभाषित अंशदान पेंशन योजना का क्रियावंयन करने, डीए की किस्तों का अवशेष भुगतान करने और शिक्षिकों के नामित फार्म भराकर एक प्रति सर्विस वुक में दाखिल करने की मांग की हैं। संघ के जिलाध्यक्ष संजय तिवारी ने बीएसए से कहा कि वर्ष 2008 में मृतक आश्रित 67 शिक्षिकों को डायट में प्रशिक्षिण के लिए भेजा था। इनमे बीस शिक्षकों ने प्रशिक्षिण नहीं लिया। जिन शिक्षिकों ने प्रशिक्षण नहीं लिया था, उनके कुछ शिक्षिकों को प्रोन्नति का लाभ भी मिल गया हैं। जबकि शासनादेश के अनुसार उन्हे लाभ नहीं मिलना चाहिए था। बीएसए ने प्रशिक्षण न लेने वाले मृतक आश्रित शिक्षिकों की सूची तलब की हैं। इस दौरान नरेश चंद्र दुवे, दीपक शर्मा, महेन्द्र प्रकाश द्विवेदी, आशुतोष उपाध्याय, पीआर सिंह कश्यप समेत कई लोग मौजूद रहे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: अब ये खास अंडरवियर बचाएगी बहू-बेटियों की आबरू

साल 2016 में देश में सबसे ज्यादा रेप के मामले उत्तर प्रदेश से सामने आए। अब यूपी की ही एक बेटी ने एक महिलाओं की इज्जत-आबरू को बचाने का बेड़ा उठाया है। इस बेटी ने एक ऐसा अंडरवियर बनाया है जो रेप प्रूफ है। देखिए क्या है इसकी खासियत।

11 जनवरी 2018