बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

शिमला: भट्ठाकुफर और पराला मंडी से तीन करोड़ का सेब लेकर दो खरीदार गायब, केस दर्ज

विश्वास भारद्वाज, अमर उजाला, शिमला Published by: Krishan Singh Updated Tue, 07 Sep 2021 05:00 AM IST

सार

 ठियोग की पराला मंडी से करीब दो करोड़ रुपये का सेब खरीदकर बिहार के पूर्वी चंपारण का खरीदार गायब है। 2011 से यह खरीदार शिमला की भट्ठाकुफर मंडी सेब खरीदने आ रहा था और बिहार के अलावा नेपाल के लिए सेब भेजता था। 27 अगस्त से उसका मोबाइल स्विच ऑफ है। 
विज्ञापन
सेब लेकर दो खरीदार गायब, केस दर्ज
सेब लेकर दो खरीदार गायब, केस दर्ज - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें

विस्तार

बागवानों के साथ ठगी रोकने के प्रदेश सरकार के दावे खोखले साबित हुए हैं। हिमाचल प्रदेश की ठियोग की पराला और शिमला की भट्ठाकुफर फल मंडी से दो खरीदार (लदानी) करीब 3 करोड़ रुपये का सेब लेकर गायब हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर एसआईटी को सौंपने की तैयारी शुरू कर दी है। ठियोग की पराला मंडी से करीब दो करोड़ रुपये का सेब खरीदकर बिहार के पूर्वी चंपारण का खरीदार गायब है। 2011 से यह खरीदार शिमला की भट्ठाकुफर मंडी सेब खरीदने आ रहा था और बिहार के अलावा नेपाल के लिए सेब भेजता था। 27 अगस्त से उसका मोबाइल स्विच ऑफ है। जन्माष्टमी के दौरान छुट्टियों का फायदा उठाकर यह मंडी से गायब हो गया। पराला मंडी के 20 से अधिक आढ़तियों से इसने बागवानों का सेब खरीदा था।
विज्ञापन


आढ़तियों ने छैला चौकी में शिकायत दर्ज करवाई है। उधर, शिमला की भट्ठाकुफर फल मंडी से भी महाराष्ट्र का एक खरीदार आधा दर्जन आढ़तियों के माध्यम से करीब एक करोड़ रुपये का सेब खरीदने के बाद फरार है। मंडियों में सेब का कारोबार उधार पर चलता है। बागवानों का सेब आढ़ती कमीशन लेकर खरीदारों को बेचते हैं। खरीदार सेब का पैसा आढ़तियों को भेजते हैं और आढ़ती बागवानों की फसल का भुगतान करते हैं। खरीदारों के फरार होने के बाद मंडियों में सेब की आमद भी प्रभावित हुई है। बागवान फसल की पेमेंट को लेकर चिंतित हैं। कारोबार प्रभावित न हो, इसलिए भट्ठाकुफर मंडी के आढ़तियों ने पुलिस में केस भी दर्ज नहीं करवाया है।


एफआईआर दर्ज कर मामला एसआईटी को भेजा 
डीएसपी ठियोग लखबीर सिंह ने बताया कि पराला मंडी से फरार हुए खरीदार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर मामला एसआईटी को भेजा जा रहा है। एसआईटी प्रमुख एसपी सीआईडी वीरेंद्र कालिया ने बताया कि मामला आते ही जांच शुरू करेंगे। 

सरकार ने नहीं किया मांग पर गौर : हरीश
आढ़ती एसोसिएशन के अध्यक्ष हरीश ठाकुर का कहना है कि सीजन शुरू होने से पहले ही प्रदेश सरकार और एपीएमसी से आढ़तियों को एसआईटी में शामिल करने की मांग की थी, लेकिन इस पर गौर नहीं किया गया। बाहरी राज्यों से आने वाले खरीदारों का पंजीकरण किया जाना चाहिए, खरीदारों के दस्तावेज जमा होने चाहिए।

सरकार को उठाने होंगे गंभीर कदम 
हर साल खरीदार आढ़तियों को चूना लगाकर फरार हो जाते हैं। समस्या के स्थायी समाधान के लिए सरकार को गंभीर कदम उठाने चाहिए। - नाहर सिंह चौधरी अध्यक्ष, हिमाचल प्रदेश आढ़ती संघ

फेसबुक पोस्ट पर दी जानकारी
पराला फल मंडी के आढ़ती मैडी चौहान ने खरीदार का आधार कार्ड अपने फेसबुक अकाउंट पर शेयर कर लिखा है कि ‘ये बंदा पराला मंडी को दो करोड़ से ज्यादा का चूना लगाकर फरार हो गया’। आढ़ती एसोसिएशन के अध्यक्ष हरीश ठाकुर ने भी अपने फेसबुक अकाउंट पर यह पोस्ट शेयर की है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X