बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

राकेश टिकैत बोले- सेल फॉर इंडिया की तरफ जा रही है सरकार

अमर उजाला नेटवर्क, पांवटा साहिब (सिरमौर) Published by: अरविन्द ठाकुर Updated Wed, 07 Apr 2021 09:09 PM IST

सार

  • पांवटा साहिब में गरजे किसान नेता, बोले- केंद्र सरकार के मंसूबे सही नहीं
  • कृषि कानूनों के खिलाफ जारी रहेगा किसानों का आंदोलन
विज्ञापन
bhartiya kisan union leader rakesh tikait statement in paonta sahib sirmour
- फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

विस्तार

भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता और राष्ट्रीय किसान नेता राकेश टिकैत ने पांवटा साहिब के हरिपुर टोहाना में किसान महापंचायत में कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार अंग्रेजों से भी खतरनाक है। धीरे-धीरे हिमाचल की बागवानी पर पूरी तरह के कब्जा करने के लिए चक्रव्यूह रचा गया है। धीरे-धीरे सेल फॉर इंडिया की तरफ सरकार बढ़ती जा रही है। हिमाचल जैसे पहाड़ी राज्य की पर्यटन पॉलिसी बननी चाहिए। स्थानीय ट्रांसपोर्टर को ट्रांसपोर्ट सब्सिडी मिले। किसान नेता ने पांवटा साहिब के हरिपुर टोहाना में कृषि कानूनों के विरोध में भाजपा पर हमला बोला। 
विज्ञापन


टिकैत ने कहा कि तीन कृषि कानून थोपने वाली भाजपा सरकार के मंसूबे ठीक नहीं हैं। देश में सरकार के नाम पर लूट करने वाले लुटेरों को भगाना होगा। केंद्र सरकार का काम मंदिर बनाना नहीं है। सरकार जनता को स्वास्थ्य, सड़कें और शिक्षा जैसी मूलभूत सुविधाओं को नही दे पा रही है। गुजरात मे सरदार वल्लभ भाई स्टेडियम को मोदी स्टेडियम का नाम दे दिया गया। अगर आतंक और भय देखना है तो गुजरात जाकर देखो। उत्तराखंड में मोदी मैदान को किसानों की महासभा के बाद किसान मैदान नाम रख दिया। हिमाचल के किसानों को भी दबाया जा रहा है।  किसान आंदोलन के लिए सरकार और प्रशासन कभी भी अनुमति नही देंगे। 


केंद्र ने रचा हिमाचल की बागवानी पर कब्जा करने का चक्रव्यूह 
राकेश टिकैत ने कहा कि देश में सरकार के नाम पर लूटेरों को भगाने के लिए एकजुट होना होगा। हिमाचल प्रदेश जैसे पहाड़ी राज्य की पर्यटन पॉलिसी बननी चाहिए। स्थानीय ट्रांसपोर्टर को ट्रांसपोर्ट सब्सिडी मिले। टिकैत ने कृषि कानूनों के विरोध में भाजपा सरकार पर जमकर जुबानी हमले किए। महापंचायत में उत्तराखंड, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के किसान शामिल हुए। 

अब तो ट्रिपल-टी से ही बचेगा देश
टिकैत ने किसान महापंचायत में कहा कि किसान आंदोलन को केंद्र सरकार शाहीन बाग मत समझें। आज केवल ट्रिपल-टी से देश बच सकेगा। जिसमें देश की सीमा पर जवानों के पास टैंकर, युवाओं के हाथों में ट्यूटर और किसान के हाथ ट्रैक्टर से किसानों के इस संघर्ष में सफलता मिल पाना संभव है। 

कोरोना नहीं रोक सकता आंदोलन
टिकैत ने कहा कि देश में किसानों के आंदोलन जारी रहेगा। कोरोना भी आंदोलन को नहीं रोक सकता है। कोविड- गाइडलाइन का पालन करते हुए आंदोलन जारी रहेगा। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X