लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Rajasthan ›   Rajasthan Sports Minister Ashok Chandana offers to resign from CM Ashok Gehlot Principal Secretary Kuldeep Ranka

Rajasthan Politics: खेल मंत्री चांदना बोले- मुझे जलालत भरे इस पद से मुक्त करें, गहलोत का जवाब- गंभीरता से न लें

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जयपुर Published by: उदित दीक्षित Updated Fri, 27 May 2022 12:46 PM IST
सार

राजस्थान के खेल मंत्री अशोक चांदना ने सीएम अशोक गहलोत को इस्तीफे की पेशकश की है। मुख्यमंत्री को ट्वीट कर उन्होंने कहा कि मुझे इस जलालत भरे पद से मुक्त कर दें।

खेल मंत्री अशोक चांदना
खेल मंत्री अशोक चांदना - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

राजस्थान के खेल मंत्री के एक ट्वीट ने प्रदेश की सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस को एक बार फिर कटघरे में खड़ा कर दिया है। सरकार पर लगातार ब्यूरोक्रेसी हावी होने के आरोप लगते रहे हैं, लेकिन हर बार इसे दरकिनार कर दिया जाता था। अब खेल मंत्री के ट्वीट ने एक बार फिर इन आरोप को हवा दे दी है। 



दरअसल, खेल मंत्री अशोक चांदना ने रात दस बजे एक ट्वीट किया। उन्होंने लिखा- 'माननीय मुख्यमंत्री जी मेरा आपसे व्यक्तिगत अनुरोध है की मुझे इस जलालत भरे मंत्री पद से मुक्त कर मेरे सभी विभागों का चार्ज कुलदीप रांका जी को दे दिया जाए, क्योंकि वैसे भी वो ही सभी विभागों के मंत्री है'।


चांदना के ट्वीट पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि उन पर काम पर दबाव है। उन्होंने तनाव में आकर ऐसा बयान दे दिया होगा। हमें इसे गंभीरता से नहीं लेना चाहिए। मेरी अभी उनसे बात नहीं हुई है। वहीं, राजस्थान के एक अन्य मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि मुझे यकीन है कि मुख्यमंत्री इस मसले पर बात करेंगे। यह पार्टी की जिम्मेदारी है कि अशोक चांदना के ट्वीट को गंभीरता से लें। मैं भी व्यक्तिगत रूप से चांदना से बात करूंगा। 




ब्यूरोक्रेसी हावी होने के लगातार लग रहे आरोप 
प्रदेश की गहलोत सरकार पर ब्यूरोक्रेसी हावी होने के आरोप लगातार लग रहे हैं। विधायक गणेश घोघरा, राजेंद्र बिधूड़ी, धीरज गुर्जर और सीएम गहलोत के सलाहकार संयम लोढ़ा भी इसे लेकर कई बार नाराजगी जता चुके हैं। अब खेल मंत्री चांदना के ट्वीट ने सरकार की सब कुछ ठीक है कि छवि पर एक बार फिर सवाल उठा दिए हैं।   



विधायक गणेश घोघरा भी सीएम को भेज चुके हैं इस्तीफा  
इससे पहले विधायक गणेश घोघरा ने मुख्यमंत्री गहलोत को पत्र लिखकर अपना इस्तीफा दिया था। अपने पत्र में उन्होंने लिखा था- मैं सत्तारूढ़ पार्टी का विधायक हूं, लेकिन मुझे ऐसा प्रतीत होता है कि राजस्थान सरकार द्वारा उक्त पदों पर पदासीन होने के बाद भी मेरी बातों को अनदेखा किया जा रहा है। स्थानीय प्रशासन के अधिकारी भी मेरी बात सुनने को तैयार नहीं हैं। मुझे मेरी विधानसभा क्षेत्र की जनता की समस्याओं की आवाज उठाने पर दबाने का प्रयास किया जा रहा है। इन सभी बातों को मद्देनजर रखते हुए मैं विधायक पद से अपना त्यागपत्र प्रेषित करता हूं।
 
पूनिया बोले-जहाज डूबने वाला है
खेल मंत्री अशोक चांदना के इस्तीफे की पेशकश करने के बाद प्रदेश की विपक्षी पार्टी भाजपा ने भी सरकार पर तंज कसा है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने ट्वीट कर कहा कि जहाज डूबने वाला है...2023 के रुझान आना शुरू हो गए है।  



शेखावत बोले- तो युवाओं का क्या हाल होगा?
कंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा, स्किल डेवलपमेंट और यूथ अफेयर्स मंत्री अशोक चांदना ने अपने पदभार को 'जलालत' भरा बताते हुए सीएम गहलोत से मुक्त करने की मांग की है। लोकतांत्रिक व्यवस्था में इतनी बड़ी जिम्मेदारी संभाल रहे युवा द्वारा ये शब्द कहना कांग्रेस सरकार को सामंतवादी साबित करता है। युवा मामलों के मंत्री यदि जलालत का अनुभव कर रहे हैं तो राज्य के युवाओं का क्या हाल होगा?

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00