लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Epaper in Madhya Pradesh
Hindi News ›   Madhya Pradesh ›   MP News: Actress Raveena Tandon angry about the safety of tiger in Bhopal Van Vihar

MP News: भोपाल वन विहार में बाघ पर फेंक रहे थे पत्थर, रवीना टंडन को आया गुस्सा, ट्विटर पर निकाली भड़ास

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, भोपाल Published by: आनंद पवार Updated Tue, 22 Nov 2022 12:32 PM IST
सार

अभिनेत्री रवीना टंडन फिल्म की शूटिंग के लिए भोपाल में आई है। सोमवार को रवीना टंडन ने एक वीडियो 
सोशल मीडिया पर शेयर किया है। इसके साथ उन्होंने लिखा कि भोपाल के वन विहार में पर्यटक (बदमाश) बाड़े में बंद बाघ पर पथराव कर रहे हैं।

वन विहार (फाइल फोटो)
वन विहार (फाइल फोटो) - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन

विस्तार

बॉलीवुड अभिनेत्री रवीना टंडन भोपाल में आकर नाराज हो गई। नाराजगी की वजह थी वन विहार में बाघों की सुरक्षा व्यवस्था। उन्होंने एक वीडियो के जरिये अपनी भड़ास सोशल मीडिया पर निकाली है। उनका आरोप है कि कुछ बदमाश वन विहार में पिंजरों में मौजूद बाघों पर पथराव कर रहे हैं। उनका अपमान कर रहे हैं। 


रवीना टंडन फिल्म की शूटिंग के लिए भोपाल आई हुई है। सोमवार को रवीना टंडन ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर किया है। इसके साथ अभिनेत्री ने लिखा है कि भोपाल के वन विहार में पर्यटक (बदमाश) बाड़े में बंद बाघ पर पथराव कर रहे हैं। ऐसा न करने के लिए कहने पर हंसते है। मुस्कराते हुए बाड़े की फेंसिंग को हिलाते हुए पत्थर फेकते हैं। बाघ के लिए कोई सुरक्षा है। यह उनके अपमान का विषय है। वीडियो में एक आवाज सुनाई दे रही है, जिसमें महिला पूछ रही है क पत्थर किसने मारा। इस पर बाघ के बाड़े के पास खड़े युवा एक-दूसरे को देखते हुए हंसते हैॆ।

 

सुरक्षा से खिलवाड़
वन विहार में जंगली जानवरों की सुरक्षा से खिलवाड़ को लेकर उदासीनता जिम्मेदारों की कार्यप्रणाली पर गंभीर सवाल खड़े करती है। कुछ दिन पहले ही वन विहार में एक पयर्टक की गाड़ी के नीचे आने से सियार की मौत हो गई थी। इस मामले को दबाने के लिए वन विहार के कर्मचारियों ने आनन-फानन में उसे दफना दिया, जबकि नियमानुसार उसका पोस्टमार्टम किया जाना था। इस मामले में जांच के नाम पर वरिष्ठ अधिकारियों ने तीन सदस्यीय जांच समिति बनाकर अपनी जिम्मेदारी पूरी कर दी।

तय से अधिक रफ्तार
वन विहार में वाहनों की स्पीड 20KM प्रति घंटा तय है। इसके बावजूद कई बार पर्यटक तेज रफ्तार से गाड़ी चलाते है। जिसकी मॉनीटरिंग के लिए कोई पुख्ता व्यवस्था नहीं है। वन विभाग के जिम्मेदारों का पूरा फोकस पर्यटकों से आय बढ़ाने पर रहता है। कुछ जगह मॉनीटरिंग के लिए कर्मचारी तैनात दिखते है, लेकिन वह भी कुछ जगह ही है। इसका फायदा उठाकर कई बार पर्यटक जंगली जानवरों पर पत्थर फेंकने जैसी घटना का अंजाम देते रहते है। 
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00