खुलासा: पति जिंदा, मगर 30 हजार के लिए महिलाओं को दिखा दिया विधवा, दो गांव में ही मिले 29 फर्जी लाभार्थी

अजीत बिसारिया, अमर उजाला, लखनऊ Published by: ishwar ashish Updated Thu, 22 Jul 2021 02:35 PM IST

सार

लखनऊ की तहसील सरोजनीनगर के ग्राम बंथरा और चंद्रावल में वर्ष 2019-20 और 2020-21 में कुल 88 लोगों को योजना का लाभ दिया गया। इससे पहले अमर उजाला की पड़ताल में चित्रकूट में दो फर्जी लाभार्थियों का खुलासा किया गया था, जिनसे बाद में रिकवरी हुई। एफआईआर भी कराई गई।
प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : pixabay
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

भ्रष्टाचार का केंद्र बन चुकी राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना में रकम हड़पने के लिए एक के बाद एक बड़े घपले सामने आ रहे हैं। नया मामला लखनऊ के दो गांवों का है, जहां 29 फर्जी लाभार्थी मिले हैं। इनमें से 21 महिलाओं के पति जीवित हैं, लेकिन योजना में प्रति लाभार्थी मिलने वाले 30 हजार रुपये की बंदरबाट के लिए उन्हें मृत दिखा दिया गया। इस योजना के तहत गरीब परिवार के कमाऊ मुखिया की 60 वर्ष की उम्र से पहले मौत होने पर एकमुश्त 30 हजार रुपये दिए जाते हैं।
विज्ञापन


लखनऊ की तहसील सरोजनीनगर के ग्राम बंथरा और चंद्रावल में वर्ष 2019-20 और 2020-21 में कुल 88 लोगों को योजना का लाभ दिया गया। इससे पहले अमर उजाला की पड़ताल में चित्रकूट में दो फर्जी लाभार्थियों का खुलासा किया गया था, जिनसे बाद में रिकवरी हुई। एफआईआर भी कराई गई। हालांकि, इन दो के अलावा अन्य किसी लाभार्थी का सत्यापन नहीं कराया गया। बलरामपुर में भी बड़े घपले की जांच अभी पूरी नहीं की गई है।


गोरखपुर के डीएम ने गोला तहसील के उपजिलाधिकारी को फर्जी आवेदन मिलने पर इस तरह की गड़बड़ियां रोकने के लिए चेताया है। अलबत्ता कानपुर में गड़बड़ियां मिलने पर वहां के जिला समाज कल्याण अधिकारी समेत कई कर्मियों को सस्पेंड किया गया है। जिस तरह से मामले सामने आ रहे हैं, अगर जांच सही तरीके से हो जाए तो और भी बड़े घपले सामने आने की आशंका से कई अफसर भी इनकार नहीं कर रहे।

रकम हड़पने के लिए मौत की तारीख तक बदल दी

- अमर उजाला के पास मौजूद वीडियो रिकॉर्डिंग में मृत दिखाए गए कई पतियों ने बताया है कि उनकी पत्नी के खातों में तो 30 हजार रुपये आए। जिस व्यक्ति की कोशिश से उन्हें यह राशि मिली, उसने 10-15 हजार रुपये तक ले लिए।

- बंथरा की ही माया देवी के पति सुरेश कुमार की मृत्यु 17 मई 2016 को हुई, मगर ऑनलाइन आवेदन में मृत्यु की तिथि 14 नवंबर 2019 दिखाकर योजना का लाभ दिया गया। जबकि, योजना का लाभ मृत्यु के साल भर के भीतर आवेदन करने पर ही दिया जाता है।

- बंथरा की ही रामरती के पति कल्लू की मौत तो 28 मई 2009 को हुई थी, पर उन्हें वर्ष 2019-20 में योजना का लाभ दिया गया। इसी तरह से चंद्रावल की बताशा पत्नी लेखई, पियारा पत्नी रज्जन, बंथरा की किरन देवी पत्नी सुभाष चंद्र, शिवपति पत्नी मुन्ना राठौर, श्माम रानी पत्नी कृष्ण कांत गुप्ता और श्यामवती पत्नी विजय कुमार को अपात्र होते हुए भी भुगतान किया गया।

लखनऊ में इन महिला लाभार्थियों के पति मिले जीवित

राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना के तहत लखनऊ के बंथरा में पिछले दो साल में मिलन देवी, रेखा, सोनी, शशी, सुनीता, रामा, संगीता शर्मा, रघुराई, रुची सविता, राम रानी, सन्नो, राजकुमारी, स्नीला देवी, मुन्नी, किरन, वंदना, ज्योति, काजल देवी, लीला, रंजना और बजिया को उनकी पति की कथित मृत्यु पर इस योजना का लाभ दिया गया।

पड़ताल में सामने आया है कि इन 21 महिलाओं के पति क्रमश: राम प्रकाश, बराती, धर्मवीर, राजोल, शंकर, राम कुमार, सत्य प्रकाश, रज्जन लाल, विनोद कुमार, भाई लाल, अमृत लाल, भगवती, छंगा, मो. इदरीश, रामचंद्र, मन्नू, संगीता, विवेक कुमार, राजेंद्र कुमार, सुजीत और राजू अभी भी जीवित हैं। यानी इन महिलाओं को फर्जी ढंग से भुगतान किया गया। वहीं, चंद्रावल में भी फर्जी लाभार्थी मिले हैं।

दोषियों को कठोर सजा मिलेगी
समाज कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव के. रविंद्र नायक का कहना है, ‘मामले की जांच कराएंगे। अगर हमारे स्तर से कराई गई जांच में भी ये केस फर्जी पाए गए, तो दोषियों को नियमानुसार कठोरतम सजा मिलेगी।’
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00