मेवाड़ में आत्म समर्पण का शब्द बना ही नहीं, बोले केन्द्रीय गृहमंत्री

अमर उजाला टीम​ डिजिटल/जयपुर Updated Sun, 14 Jan 2018 07:49 PM IST
Union home minister rajnath singh in rajsamand
राजनाथ सिंह
उदयपुर संभाग के राजसमंद जिले के मदारिया कस्बे के पास स्थित माल्यवास गांव में आज महाराणा कुंभा की जयंती के अवसर पर मेवाड़ महाकुम्भ का आयोजन किया गया।

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने यहां आयोजित कार्यक्रम में श्याम नारायण पांडे की कविता पढ़कर सुनाई। केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ ने अपने भाषण की शुरुआत में कहा कि यहां आकर मैं अभिभूत हूं। राजस्थान के लोगों के शौर्य पराक्रम बलिदान की गाथा इतिहास पढ़ता हूं, तो हृदय गर्व से भर उठता है। उन्होंने राजस्थान की धरती का परिचय अपने अंदाज में कराया और कहा कि कोई भी भारतवासी दुनिया के किसी भी कोने में हो, वह इस इतिहास पर गौरव करता है।

उन्होंने कहा कि दुनिया में जितनी भी सभ्यताएं हैं, वे खत्म हो गई। इक्कीसवीं सदी में भी भारत की सभ्यता यहां के शौर्य और पराक्रम की वजह से जिंदा है। राजनाथ सिंह ने कहा कि दुनिया में कई युद्ध हुए, मेवाड़ ने कभी आत्मसमर्पण नहीं किया। आत्मसमर्पण नामक शब्द यहां के इतिहास में रहा ही नहीं।

 
आगे पढ़ें

मेवाड़ की खूबियां बताईं

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: मुरादाबाद ‘मल कांड’ पार्ट टू... जयपुर से

आपको याद होगी मुरादाबाद की वो तस्वीर जब खुले में शौच कर रहे लोगों पर स्वच्छता अभियान के तहत लोगों को जागरुक करने के लिए तैनात वॉलिंटियर का कहर टूटा।

20 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls