विज्ञापन
विज्ञापन

यूपी में खून का काला कारोबार, तीन हजार में एक यूनिट, नशे के लिए रिक्शा चालक दे रहे रक्त

राहुल सक्सेना, अमर उजाला, गाजियाबाद Updated Tue, 26 Nov 2019 10:25 AM IST
ड्रग्स की लत
ड्रग्स की लत
ख़बर सुनें
शहर में खून का काला कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है। शहर में ऐसा गिरोह सक्रिय है जो जरूरतमंदों से पैसे वसूलकर खून बेच रहा है। बिना डोनर के ब्लड ग्रुप बताकर खून ले लीजिए। गिरोह का नेटवर्क कुछ लैब से कई अस्पतालों तक है। नशे का शौक पूरे करने के लिए कुछ लोग अपना खून बेच रहे हैं। दलाल 700 रुपये से लेकर एक हजार रुपये तक में खून खरीदकर उसे जरूरतमंदों को ढाई से तीन हजार रुपये में बेच रहे हैं।

ऐसे खुला खून के कारोबार का राज

संभल जिला निवासी हर्ष अलीगढ़ से 13 नवंबर को गाजियाबाद रेलवे जंक्शन पर उतरे। उन्होंने राकेश मार्ग के लिए रिक्शा किया। रिक्शा में बैठने के बाद उन्होंने एक व्यक्ति को फोन मिलाया और कहा हेलो... सर मैं खून के लिए काफी परेशान हो चुका हूं। अस्पताल में भर्ती बहन को खून की जरूरत है और मेरे पास पैसे भी नहीं हैं। गाजियाबाद में अपने रिश्तेदार से रुपये लूंगा। तब कहीं से व्यवस्था करूंगा। इसी दौरान जिस रिक्शे में हर्ष बैठे हुए थे उसके चालक ने कहा कि साहब खून के लिए परेशान मत हो। मैं दो जगह से खून की व्यवस्था करा सकता हूं। रिक्शा चालक ने दो लोगों को कॉल किया और उन्हें रेलवे स्टेशन के पास बुला लिया। बाइक पर आए दो युवकों ने कहा कि तीन हजार रुपये में एक यूनिट मिल जाएगी। आप जरूरतमंद मरीज का ब्लड ग्रुप बता दीजिए। जो ग़्रुप होगा उसी का खून मिल जाएगा।

विज्ञापन
साहब लैब से है सेटिंग मिलेगा अच्छा खून

रिक्शा चालक ने कहा कि यह दोनों बाइक सवार युवक रिक्शा चालक, ऑटो चालक और कुछ युवाओं के संपर्क में रहते हैं। जिन लोगों के पास नशे का शौक पूरा करने के लिए पैसे नहीं होते हैं। उनका 700 से 1000 रुपये में खून खरीदते हैं। उनको किसी लैब पर ले जाते हैं। वहां से खून निकलवाकर इन्हें बेच देते हैं। कुछ युवा महंगे शौक करने के लिए ब्लड बेच देते हैं। इसलिए इन लोगों के पास खून की कभी कमी नहीं रहती। रिक्शावाले ने बताया कि दलाल लैब के साथ जरूरतमंद से मिले पैसे बांट लेते हैं। जो ग्राहक लाता है उसे भी 100 से 200 रुपये उसे भी दे देते हैं। रिक्शा चालक ने दो यूनिट खून 6 हजार रुपये में दिलवा दिया। नाम पूछने पर उसने अपना नाम और मोबाइल नंबर हर्ष को नहीं दिया।

अस्पतालों तक है नेटवर्क

खून का यह खेल केवल लैब तक ही सीमित नहीं है। यह गिरोह काफी बड़ा है। सूत्रों का कहना है कि अस्पतालों तक खून जाता है। दलाल अस्पतालों के आसपास भटकते रहते हैं। जिन लोगों पर खून की व्यवस्था नहीं हो पाती है। उन लोगों से रुपये लेकर खून बेच दिया जाता है। यह स्थिति तब है जब सरकार ने सरकारी अस्पतालों में खून की व्यवस्था निशुल्क कर दी है। अपने साथ किसी भी ब्लड ग्रुप का रक्तदाता लाओ और संबंधित ब्लड ग्रुप का खून ले जाओ।
इस तरह का मामला हमारे संज्ञान में नहीं है। यदि कोई शिकायत मिलती है तो उसके आधार पर ड्रग विभाग को लिखा जाएगा। ड्रग विभाग ही इन पर कार्रवाई करेगा। - डॉ. एनके गुप्ता, सीएमओ
 
सरकारी ब्लड बैंक में पर्याप्त खून की व्यवस्था है। ब्लड बैंक के निरीक्षण के दौरान रक्तदाता का मोबाइल नंबर और आधार कार्ड देखते हैं। कुछ लोगों से फोन पर बात करके जानकारी करते हैं। अब इस तरह की घटना अफवाह रह गई हैं। यदि फिर भी ऐसा हो रहा है तो जांच कर कार्रवाई की जाएगी। - पूरन चंद, ड्रग इंस्पेक्टर
विज्ञापन

Recommended

प्रथम श्रेणी के दुग्ध उत्पादों के लिए प्रतिबद्ध है धौलपुर फ्रेश
Dholpur Fresh

प्रथम श्रेणी के दुग्ध उत्पादों के लिए प्रतिबद्ध है धौलपुर फ्रेश

नएवर्ष में कराएं महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का एक माह तक जलाभिषेक, होगी परिवारजनों के अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति
Astrology Services

नएवर्ष में कराएं महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का एक माह तक जलाभिषेक, होगी परिवारजनों के अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Delhi NCR

आज से फास्टैग लागू, टोल में सरकार ने दी थोड़ी राहत

राष्ट्रीय राजमार्गों के टोल प्लाजा पर वाहनों की लंबी कतारों से मुक्ति दिलाने के लिए लाया जा रहा फास्टैग सिस्टम रविवार सुबह 8 बजे से लागू हो गया।

15 दिसंबर 2019

विज्ञापन

क्रिसमस से पहले कोयंबतूर में सजावटी सामान से भरा बाजार

क्रिसमस से पहले तमिलनाडु के कोयंबतूर के बाज़ारों में विभिन्न प्रकार के रंग-बिरंगे सजावटी सामान दिखाई दे रहे हैं। देखिए वीडियो

14 दिसंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls
Safalta

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us