Farmers Protest Live Updates: गतिरोध के बीच गृह मंत्री के घर पहुंचे कृषि मंत्री, विपक्षी दल एक सुर में बोले- विधेयक वापस हों

अमर उजाला नेटवर्क, नई दिल्ली Published by: शाहरुख खान Updated Wed, 09 Dec 2020 07:34 PM IST
Kisan Andolan Latest News : Farmers continue to protest against farm laws Singhu border Ghazipur border live update in hindi
विपक्ष के नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से मुलाकात की और एक ज्ञापन सौंपा - फोटो : ani
विज्ञापन

खास बातें

गृह मंत्री अमित शाह और कुछ किसान नेताओं के बीच मंगलवार की रात हुई बैठक विफल रहने के बाद सरकार और किसान यूनियनों के बीच आज होने वाली बैठक अब नहीं होगी। सरकार ने किसानों को कृषि कानून में संशोधन का लिखित प्रस्ताव भेजा है। जिस पर किसान नेता सिंघु बॉर्डर पर बैठक की। किसानों ने सरकार के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है और कृषि कानूनों की वापसी की मांग की है। किसान नेता प्रेस कॉन्फ्रेंस कर विस्तार से जानकारी दी। यहां पढ़ें किसान आंदोलन से जुड़ा पल-पल का अपडेट...
विज्ञापन

लाइव अपडेट

07:33 PM, 09-Dec-2020

राजनीतिक पार्टियों के दोगलेपन के कारण किसान किसी पर भरोसा नहीं कर पा रहेः SAD नेता दलजीत सिंह चीमा

राहुल गांधी की राष्ट्रपति से मुलाकात पर SAD नेता दलजीत सिंह चीमा ने कहा कि अगर राज्यसभा और लोकसभा में वो अपनी जिम्मेदारी निभाते तो ये मुसीबत खड़ी नहीं होती। तब वो चुप थे क्योंकि 2019 में उनके मैनिफेस्टों में APMC वापिस लेने की बात थी। पार्टियों के इसी दोगलेपन के कारण किसान किसी पर भरोसा नहीं कर पा रहे हैं। 

06:56 PM, 09-Dec-2020

बातचीत का माहौल तब बन पाएगा जब सरकार तीनों कानून रोक देती है: दलजीत सिंह चीमा

बड़ी निराशाजनक बात है कि इतने दिनों के बाद भी ये मसला हल नहीं हो पाया। बातचीत का माहौल तब बन पाएगा जब भारत सरकार तीनों कानून रोक देती है। उसी वक्त शांति हो जाएगी। फिर जब सार्थक माहौल होगा तब सरकार आराम से बैठकें कर बातचीत कर सकती है: SAD नेता दलजीत सिंह चीमा

06:19 PM, 09-Dec-2020

हमने राष्ट्रपति से मुलाकात की और ज्ञापन प्रस्तुत किया: सीताराम येचुरी

हमने राष्ट्रपति से मुलाकात की और ज्ञापन प्रस्तुत किया। उसमें हमने कृषि कानूनों और बिजली संशोधन बिल को वापिस लेने की मांग की क्योंकि ये बहुत ही गैर-लोकतांत्रिक और बिना विचार-विमर्श के पारित कर दिए गए थे: सीताराम येचुरी, सीपीआई-एम

06:18 PM, 09-Dec-2020

गाजीपुर बॉडर पर खुर्जा से आए दो बुजुर्ग किसान भूख हड़ताल पर बैठे

दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर खुर्जा से आए दो बुजुर्ग किसान सुदेश कुमार के साथ भूदेव शर्म भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं। एक किसान ने जल भी त्याग दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार नहीं मानी तो दे देंगे जान। दोनों मुंह पर पट्टी बांधकर भूख हड़ताल कर रहे हैं। 

06:14 PM, 09-Dec-2020

सरकार को गलतफहमी में नहीं होना चाहिए किसान समझौता नहीं करेगाः राहुल गांधी

सरकार को गलतफहमी में नहीं होना चाहिए किसान समझौता नहीं करेगा। मैं किसानों से कह रहा हूं कि अगर आप आज नहीं खड़े हुए तो फिर आप कभी नहीं खड़े हो पाओगे और हम सब आपके साथ हैं आप बिलकुल घबराइए मत। आपको कोई पीछे नहीं हिला सकता आप हिदुस्तान हो: कांग्रेस नेता राहुल गांधी

06:10 PM, 09-Dec-2020

पीएम ने कहा था कि ये कानून किसानों के हित में हैं, तो फिर किसान सड़क पर क्यों खड़े हैंः राहुल गांधी

कृषि कानून किसान विरोधी है। पीएम ने कहा था कि ये कानून किसानों के हित में हैं, तो फिर किसान सड़क पर क्यों खड़े हैं? सरकार को ये नहीं सोचना चाहिए कि किसान डर जाएंगे और हट जाएंगे। जब तक कानून वापिस नहीं हो जाते तब तक किसान न हटेगा न डरेगा: राहुल गांधी, कांग्रेस

06:08 PM, 09-Dec-2020

मैं किसानों के मुद्दों के प्रति सरकारी रवैये से दुखी होकर इस्तीफा दे रहा हूंः कंज्यूमर कमीशन के सदस्य बलदेव सिंह भुल्लर

मैं किसानों के मुद्दों के प्रति सरकारी रवैये से दुखी होकर इस्तीफा दे रहा हूं और मुझे मिले सारे अवार्ड वापिस कर रहा हूं। नवंबर की अपनी सारी तन्ख्वाह किसानों के लिए दान कर रहा हूं: फिरोजपुर कंज्यूमर कमीशन के सदस्य बलदेव सिंह भुल्लर


 
05:49 PM, 09-Dec-2020

सभी विपक्षी पार्टियों ने सरकार से अनुरोध किया था कि कृषि बिलों में गहराई से बहस हो

राष्ट्रपति भवन पहुंचने वालों में एनसीपी के अध्यक्ष शरद पवार भी रहे। उन्होंने कहा कि सभी विपक्षी पार्टियों ने सरकार से अनुरोध किया था कि कृषि बिलों में गहराई से बहस हो और इसे सेलेक्ट कमेटी को भेजा जाए लेकिन दुर्भाग्यवश इसे जल्दबाजी में पास कर दिया गया। इस ठंड में किसान सड़कों पर बैठकर शांतिपूर्ण प्रदर्शन करते हुए नाखुशी जाहिर कर रहे हैं। यह सरकार का दायित्व है कि उनके मुद्दों को सुलझाएं।
 
05:46 PM, 09-Dec-2020

राहुल गांधी ने भी की कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग

वहीं राष्ट्रपति से मिलने के लिए पहुंचे राहुल गांधी ने भी कहा कि हमने राष्ट्रपति से कहा है कि इन किसान विरोधी कानूनों को वापस लिया जाए।
 
05:32 PM, 09-Dec-2020

राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद विपक्षी दलों ने कहा- वापस लिए जाएं कृषि बिल

विपक्षी दलों के नेताओं ने आज राष्ट्रपति से मुलाकात की और उन्हें ज्ञापन सौंपा। सीपीआई-एम के नेता सीताराम येचुरी ने बताया कि हमनें राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा है। हमने उनसे अपील की है कि कृषि कानूनों और बिजली संशोधन विधेयक जिन्हें गैर लोकतांत्रिक तरीके से पास किया गया था उन्हें वापस लिया जाएं।
 

 
05:23 PM, 09-Dec-2020

गृहमंत्री के घर पहुंचे कृषि मंत्री तोमर

कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर गृहमंत्री अमित शाह के निवास पर पहुंचे। जानकारी के अनुसार किसान आंदोलन को लेकर चर्चा के लिए कृषि मंत्री गृहमंत्री से मिलने गए हैं।
 
05:08 PM, 09-Dec-2020

किसान नेताओं ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहा कि हमने सरकार का प्रस्ताव ठुकरा दिया है

किसान नेताओं ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि हमने सरकार के सभी प्रस्ताव ठुकरा दिया है। क्रांतिकारी किसान यूनियन के अध्यक्ष दर्शन पाल ने कहा कि, जो सरकार की तरफ से प्रस्ताव आया है उसे हम पूरी तरह से रद्द करते हैं। इसके अलावा अन्य नेताओं ने भी प्रेस को संबोधित किया जिसकी प्रमुख बातें निम्न हैं-
  • जियो के सभी प्रोडक्ट का बहिष्कार करेंगे
  • 14 दिसंबर को पूरे देश में धरना-प्रदर्शन करेंगे।
  • पूरे देश में जारी रहेगा आंदोलन
  • 13 तारीख को पूरे देश में धरना प्रदर्शन करेंगे
  • 12 तारीख को पूरे देश में टोल प्लाजा फ्री करेंगे
  • 12 तारीख तक कभी भी दिल्ली-जयपुर और दिल्ली-आगरा हाईवे बंद किया जाएगा
  • 14 दिसंबर के बाद से अनिश्चितकालीन प्रदर्शन जारी रहेगा, जब तक तीनों कानून वापस नहीं लिए जाते। 
  • बीजेपी के मंत्रियों का घेराव होगा।
  • एक के बाद एक दिल्ली की सड़कें जाम की जाएंगी। 
04:37 PM, 09-Dec-2020

राष्ट्रपति से मिलने पहुंचे विपक्षी नेता

कृषि कानूनों को लेकर विपक्षी नेता राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलने राष्ट्रपति भवन पहुंचे हैं।
 
04:23 PM, 09-Dec-2020

किसानों ने नामंजूर किया सरकार का प्रस्ताव

सिंघु बॉर्डर पर चल रही किसानों की बैठक से यह जानकारी मिल रही है कि सभी नेताओं ने एक स्वर में सरकार के प्रस्ताव को नामंजूर कर दिया है और कृषि कानून की वापसी और बिजली से जुड़े कानून न लाने की मांग की है। इस संबंध में किसान कुछ देर में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूरी जानकारी देंगे।

04:19 PM, 09-Dec-2020

अनुबंधों का भी होगा रजिस्ट्रेशन

किसानों मुद्दा उठाया था कि कृषि अनुबंधों के पंजीकरण की व्यवस्था नए कानून में नहीं है। केंद्र ने प्रस्ताव दिया है कि जब तक राज्य सरकारें रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था नहीं करतींं तब तक एसडीएम को लिखित हस्ताक्षरित करार की प्रतिलिपि 30 दिन के भीतर संबंधित एसडीएम को उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जाएगी।

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00