पावर बैंक एप ठगी : संदिग्ध ट्रांजेक्शन में एक और क्रिप्टो एक्सचेंज का नाम, इन एप से बनाकर रखें दूरी 

न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Published by: Nirmala Suyal Nirmala Suyal Updated Sun, 13 Jun 2021 02:06 PM IST

सार

अब एक और एक्सचेंज का नाम सामने आया है। एसटीएफ की ओर से कॉइन डीसीएक्स नाम के इस एक्सचेंज के मुंबई ऑफिस से ई-मेल के जरिए संपर्क किया गया है।
पावर बैंक एप से ठगी
पावर बैंक एप से ठगी
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

पावर बैंक एप से ठगी के दौरान हुए संदिग्ध ट्रांजेक्शन का पता चला है। जांच में एक और क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज का नाम सामने आया है। एसटीएफ ने इस एक्सचेंज के साथ ई-मेल से पत्राचार किया है, लेकिन इसका कोई वाजिब जवाब नहीं मिला है।
विज्ञापन


देहरादून : पावर बैंक एप से ठगने वाले गैंग का एक और सदस्य लखीमपुर खीरी से गिरफ्तार


प्राथमिक पड़ताल में इस एक्सचेंज के माध्यम से भी बड़ी धनराशि चीन में भेजी गई है। अब जल्द ही एसटीएफ अग्रिम पड़ताल के लिए मुंबई जाएगी। फेमा (विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम) के उल्लंघन में देश की एक बड़ी क्रिप्टो एक्सचेंज को ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) ने कारण बताओ नोटिस भेजा था।

वजीरएक्स नाम की इस एक्सचेंज से ढाई हजार करोड़ रुपये का ट्रांजेक्शन गलत तरीके से किया गया है। बता दें कि यह प्रमुख एक्सचेंज है जिससे क्रिप्टो करंसी का लेनदेन किया जाता है और विदेशों में क्रिप्टो करंसी के माध्यम से धन भेजा जाता है। बीते दिनों हुई ठगी का पैसा इस एक्सचेंज से भी बहुत सा पैसा चीन और अन्य देशों में भेजा गया है।
 
अब एक और एक्सचेंज का नाम सामने आया है। एसटीएफ की ओर से कॉइन डीसीएक्स नाम के इस एक्सचेंज के मुंबई ऑफिस से ई-मेल के जरिए संपर्क किया गया है। बताया जा रहा है कि इस एक्सचेंज के माध्यम से भी धन चीन और अन्य देशों में भेजा गया है। उत्तराखंड में पावर बैंक एप से ठगी के पीड़ितों के खातों का इस एक्सचेंज से संबंध भी पता चला है। लेकिन, अभी तक एसटीएफ को जवाब नहीं मिला है। एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि आगामी पड़ताल के लिए एसटीएफ और साइबर थाने की टीम को मुंबई भेजा जाएगा। 

सोशल मीडिया पर पूछ रहे लोग कैसे मिलेगा पैसा 
बहुत से लोगों ने अब तक एसटीएफ और साइबर थाने को शिकायत की है। लेकिन, सैकड़ों लोग पुलिस के फेसबुक व अन्य सोशल मीडिया अकाउंट के माध्यम से पूछ रहे हैं कि उनका ठगा गया पैसा कैसे वापस आएगा। इस संबंध में पुलिस ने उन सभी से आगे आकर शिकायत करने की अपील की है। पुलिस ने लगभग 50 लाख रुपये खातों में फ्रीज भी करा दिया है।

17 कंपनियों के लाइसेंस निरस्तीकरण की सिफारिश 

पावर बैंक एप से ठगी के मामले में पुलिस ने आरोपियों की 17 कंपनियों के लाइसेंस निरस्त करने की सिफारिश की है। इन सभी कंपनियों के नाम इस धोखाधड़ी में सामने आए हैं। इसके साथ ही एसटीएफ ने कुछ एप को चिह्नित किया है, जिनके माध्यम से ठगी की जा रही है या फिर  ठगी की आशंका है। 

एसटीएफ एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि इस मामले में अब तक सात मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैं। उत्तराखंड एसटीएफ ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जबकि, एक और का नाम सामने आया है। इनमें पवन कुमार पांडेय के नाम पर 08, प्रकाश बैरागी की 05 और राम उजागर की 04 कंपनियों के लाइसेंस निरस्त करने की सिफारिश सरकार को की गई है।

एसएसपी ने बताया कि जिन आरोपियों को दिल्ली और बैंगलुरू में पकड़ा गया है उन्हें भी जल्द उत्तराखंड लाया जाएगा। इसके लिए सभी तैयारियां पूरी की जा चुकी हैं। 

इन एप से बनाकर रखें दूरी 
- टेस्ला पावर बैंक
- काउ केयर, 
- कोविन 
- ट्रैवल
- एक्सएसएस डायनामिक 
- ईजेड प्लान 
- एमएमएफए
- सनलाइट एप 
- किंग रिच
- एचपीजेड न्यू ईजेड प्लान 
- एडॉप्ट काउ 
- शेयर पावर 
- सन फैक्ट्री 
- पॉकेट वेल्द 
- को-अर्न 
- सी प्लेन प्राइवेट लिमिटेड 
-फायर विन
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00