अनोखी रिसर्च: अब बॉडी को बीमारियों से बचाएंगे कपड़े

विनीत तोमर /अमर उजाला, रोहतक Updated Wed, 16 Mar 2016 03:25 PM IST
health research, rohtak pgi research, rohtak pgi, rohtak news, research news, haryana
शोध - फोटो : फाइल फोटो
माडर्न लुक के साथ-साथ अब कपड़े आपको त्वचा के रोगों से भी बचाएंगे। ऐसे कपड़े पहनने से त्वचा रोग के साथ-साथ सांस और अन्य संक्रमण से भी निजात मिलेगी। इन कपड़ों की सबसे बड़ी खासियत यह होगी कि इन्हें तैयार करने में प्रदूषण भी नहीं फैलेगा। रोहतक की स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ परफॉर्मिंग एंड विजुअल आर्ट्स के टेक्सटाइल डिपार्टमेंट में इस कवायद को लेकर काम चल रहा है।

जड़ी बूटियों का कर रहे इस्तेमाल
बेडशीट और अन्य कपड़ों को रंगने के लिए डाई (रंग) का इस्तेमाल होता है। इस सिंथेटिक डाई को तैयार करने के लिए केमिकल का भी प्रयोग होता है। इसे तैयार करने और पकाने के लिए आग का इस्तेमाल होता है। ऐसे में इस केमिकल से प्रदूषण फैलता है। साथ ही तैयार होने वाले कपड़ों से स्किन एलर्जी होने का भी खतरा रहता है। इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ परफॉर्मिंग एंड विजुअल आर्ट्स के टेक्सटाइल डिपार्टमेंट में नेचुरल डाई से कपड़े तैयार होंगे। इसमें घरेलू उपयोग में आने वाली आयुर्वेदिक चीजों के अलावा जड़ी-बूटियों का भी इस्तेमाल किया जाएगा।
आगे पढ़ें

यूनिवर्सिटी में शुरू हुआ रिसर्च पर काम

Spotlight

Most Read

Chandigarh

हरियाणाः यमुनानगर में 12वीं के छात्र ने लेडी प्रिंसिपल को मारी तीन गोलियां, मौत

हरियाणा के यमुनानगर में आज स्कूल में घुसकर प्रिंसिपल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मामले में 12वीं के एक छात्र को गिरफ्तार किया गया है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

नशे के शिकार लोगों को ऐसे सही रास्ता दिखाने का काम कर रहे हैं ये दो भाई

पूरा पंजाब नशे की गिरफ्त में हैं। बेरोजगारी और आसानी से मिलने वाला नशे का सामान इसके लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार माना जाता है।

20 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper