ऐसे डस्टबिन का क्या फायदा, जिसमें न तो ढक्कन है और न ही हैंडल

ब्यूरो/अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Tue, 06 Jun 2017 09:20 AM IST
ऐसे डस्टबिन का क्या फायदा
ऐसे डस्टबिन का क्या फायदा
ख़बर सुनें
प्रशासक बीपी सिंह बदनौर ने सोमवार को शहरवासियों के बीच मुफ्त में सूखा और गीला कचरा अलग- अलग रखने के लिए डस्टबिन बांटने के अभियान का आगाज किया। स्वच्छता के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए टैगोर थिएटर में आयोजित इस कार्यक्रम में सांसद किरण खेर, मेयर आशा जसवाल समेत कई लोग मौजूद थे। 
पहले दिन लगभग दस हजार लोगों के बीच डस्टबिन बांटे गए। अभी सिर्फ 15 हजार डस्टबिन ही मंगवाए गए हैं। ऐसे में शहर के ढाई लाख घरों तक निशुल्क डस्टबिन पहुंचने में दो माह का समय लगेगा। 

उधर, नगर निगम की ओर से बांटे गए डस्टबिन का साइज काफी छोटा और ओपन ही है। लोगों का कहना है कि डस्टबिन कुछ माह ही चलेंगे। भाजपा के कई पार्षद भी इस बात को मानते हैं। फासवेक चेयरमैन ने कहा कि डस्टबिन के न तो ढक्कन है और न ही हैंडल। उन्होंने कहा कि 40-40 लीटर के जो डस्टबिन संग्राहकों दिए जा रहे हैं उसे लोगों को दिए जाने चाहिए।

युवा इनोवेटिव सोसाइटी के चेयरमैन सचिन शर्मा का भी कहना है कि ऐसे डस्टबिन का कोई फायदा नहीं है। कार्यक्रम में शामिल पूर्व मेयर एवं कांग्रेस नेता सुभाष चावला का भी कहना है कि डस्टबिन काफी छोटे हैं। यह बड़े घरों में नहीं चल सकता। वहीं ज्वाइंट कमिश्नर एवं एमओएच मनोज खत्री का कहना है कि घर में एक व्यक्ति का प्रतिदिन का 400 ग्राम का कचरा होता है। ऐसे में 5 से 6 सदस्य होने पर भी दो से ढाई किलो कचरा होगा, इसलिए 10 से 12 लीटर के दो दो डस्टबिन दिए गए हैं। व्यापारियों को खुद खरीदने होंगे डस्टबिन रेजिडेंट्स को निशुल्क डस्टबिन बांटे जा रहे हैं लेकिन व्यापारियों को गीला और सूखा कचरा इकट्ठा करने केलिए खुद ही खरीदने होंगे। 

अभी रेट तय नहीं
डोर टू डोर गारबेज इकट्ठा करने का अभी शुल्क तय नहीं हुआ है। पिछले माह सदन की बैठक में रेट तय नहीं हो सके। मेयर आशा जसवाल का कहना है कि शुल्क तय करने के लिए कमेटी का गठन हो चुका है। कमेटी दो से तीन दिन में रेट फाइनल कर देगी जिसके बाद लागू कर दिए जाएंगे। 

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Rampur

गर्मी का कहर: शाहबाद क्षेत्र में झुलसी पालेज , किसान परेशान

गर्मी का कहर: शाहबाद क्षेत्र में झुलसी पालेज , किसान परेशान

23 मई 2018

Related Videos

VIDEO: इस एलान के बाद अब मुसलमान सिर्फ मस्जिद में पढ़ सकेंगे नमाज

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने नमाज को लेकर बयान दिया है। खट्टर ने कहा है कि हरियाणा में सार्वजनिक जगहों पर नमाज नहीं पढ़ी जाएगी। सिर्फ मस्जिदों में ही नमाज पढ़ी जाए।

6 मई 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen