'My Result Plus
'My Result Plus 'My Result Plus

लाशों में ढूंढती रही भाई की कलाई

Agra Updated Thu, 08 Mar 2012 11:50 AM IST
आगरा। खुशी-खुशी भाई को राखी बांधने गाजियाबाद से आई बहन की खुशियां पल-भर में काफूर हो गईं। विधाता ने किस्मत में ऐसा कुठाराघात लिखा कि जिस कलाई में वह राखी बांधने आई थी, वह मिली ही नहीं। बदहवास बहन पोस्टमार्टम हाउस पर लाशों में भाई की कलाई ढूंढती रही। भाई के न मिलने पर वह आंखों में आंसू और दिल में चुभन लिए पति के साथ वापस लौट गई।
दौनारी गांव, धौलपुर निवासी रामवती (50) पत्नी सुंदर सिंह अपने बेटे और पति के साथ गाजियाबाद में रहती है। उसका एक भाई रामफूल आगरा में ही रहता था। गुरुवार को रक्षाबंधन पर रामवती खुशी-खुशी अपने भाई को राखी बांधने गाजियाबाद से आई थी। सुबह वह भाई के बताए स्थान संजय प्लेस पहुंची तो उसके बारे में पता नहीं चल सका।

किसी ने बता दिया कि रामफूल का बुधवार देर रात एक्सीडेंट हो गया था। उसे एसएन इमरजेंसी में भर्ती कराया है। इतना सुनते ही उसकी आंखों से आंसू बहने लगे। दोपहर करीब एक बजे वह इमरजेंसी पहुंची। यहां उसने वार्ड में भर्ती हर मरीज को देख लिया। मगर, उसका भाई नजर नहीं आया।

पुलिस चौकी पर किसी ने उसे बताया कि दुर्घटना में मृत व्यक्ति को पोस्टमार्टम हाउस भेज दिया जाता है। यह सुनने के बाद बहन का कलेजा ही बैठ गया। वह रोती बिलखती पोस्टमार्टम हाउस पहुंच गई। उस वक्त वहां पर दो लाशें रखी थीं। उसने दोनों को देखा, लेकिन उसका भाई नहीं मिला।

अपने भाई की झलक पाने को रामवती आंसू बहाती रही। उसका कहना था कि भाई न जाने कहां चला गया। किसकी कलाई पर वह राखी बांधे और किसको घेवर खिलाए। भाई का सुराग न लगने पर वह हरीपर्वत थाने शिकायत लेकर पहुंची और शाम को पति के साथ वापस चली गई।

Spotlight

Related Videos

पाकिस्तान को भारत की चेतावनी समेत देश और दुनिया की बड़ी खबरें

पाकिस्तान को भारत की चेतावनी, 12 दिनों में 3.20 रुपये मंहगा हुआ पेट्रोल, IPL 11 के फाइनल में पहुंची हैदराबाद और ईद पर पाकिस्तान में रिलीज नहीं होगी ‘रेस 3’ समेत देश और दुनिया की बड़ी खबरें देखिए अमर उजाला टीवी पर।

26 मई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen