लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   World ›   Hina Rabbani Khar said that there is no talks between Pakistan and India behind backchannel

Pakistan: हिना रब्बानी खार ने भारत के खिलाफ फिर उगला जहर, बोलीं- पर्दे के पीछे कोई बातचीत नहीं हो रही

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, इस्लामाबाद Published by: शिव शरण शुक्ला Updated Thu, 26 Jan 2023 07:24 PM IST
सार

इससे पहले सीनेट में बोलते हुए खार ने कहा कि पाकिस्तान ने हमेशा क्षेत्र में शांति को बढ़ावा देने के लिए पहल की है, लेकिन अभी सीमापार शत्रुता एक अद्वितीय प्रकार की है। पाकिस्तान को कभी-कभी अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत के साथ अपने संबंधों को सामान्य करने के लिए कहा जाता था, लेकिन दुनिया को उन संदेशों को देखना चाहिए जो नई दिल्ली इस्लामाबाद को भेज रही है।
 

Hina Rabbani Khar said that there is no talks between Pakistan and India behind backchannel
हिना रब्बानी - फोटो : अमर उजाला

विस्तार

भारत की तरफ से शंघाई सहयोग संगठन के लिए पाकिस्तान को न्यौता भेजने की खबरों के बीच पाकिस्तान ने बड़ा बयान दिया है। पड़ोसी मुल्क ने दावा किया कि इस्लामाबाद और नई दिल्ली के बीच पर्दे के पीछे कोई बातचीत नहीं हो रही है। विदेश राज्य मंत्री हिना रब्बानी खार ने संसद के ऊपरी सदन सीनेट को बताया कि इस समय ऐसी कोई बात नहीं चल रही है। बैकचैनल कूटनीति तब की जाती है, जब उससे परिणाम मिलने की उम्मीद हो।



साप्ताहिक मीडिया ब्रीफिंग में विदेश कार्यालय की प्रवक्ता मुमताज जहरा बलोच ने भी हिना रब्बानी खार की टिप्पणी को दोहराया। बलोच ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच कोई बैकचैनल कूटनीति नहीं चल रही है।


इससे पहले सीनेट में बोलते हुए खार ने कहा कि पाकिस्तान ने हमेशा क्षेत्र में शांति को बढ़ावा देने के लिए पहल की है, लेकिन अभी सीमापार शत्रुता एक अद्वितीय प्रकार की है। पाकिस्तान को कभी-कभी अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत के साथ अपने संबंधों को सामान्य करने के लिए कहा जाता था, लेकिन दुनिया को उन संदेशों को देखना चाहिए जो नई दिल्ली इस्लामाबाद को भेज रही है।

उन्होंने कहा कि हमें जो संदेश मिल रहे हैं, वे सभी भड़काने वाले हैं। पाकिस्तान को इस क्षेत्र की संभावनाओं को उजागर करने में सबसे बड़ी दिलचस्पी है, लेकिन जब आपके पास दूसरी तरफ जो सरकार है, जिसके प्रधानमंत्री कहते हैं कि उनकी परमाणु संपत्ति दीवाली के लिए नहीं है, तो हम क्या कर सकते हैं?

उनकी यह टिप्पणी भारतीय मीडिया द्वारा रिपोर्ट किए जाने के कुछ दिनों बाद आई है कि नई दिल्ली ने मई में गोवा में शंघाई सहयोग संगठन या एससीओ के विदेश मंत्रियों और मुख्य न्यायाधीशों की बैठकों में भाग लेने के लिए विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी और पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश उमर अता बंदियाल को आमंत्रित किया है। बलोच ने भी अपनी ब्रीफिंग में कहा कि पाकिस्तान को एससीओ बैठक के मेजबान के रूप में भारत द्वारा भेजा गया निमंत्रण मिला था और वह इसकी समीक्षा कर रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी पर बनी बीबीसी के विवादास्पद डॉक्यूमेंट्री के बारे में बात करते हुए खार ने कहा कि प्रसारक ने दुनिया को दिखाया था कि पाकिस्तान ने पहले ही क्या कहा था। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने इतिहास से सीखा है, लेकिन क्षेत्र के कुछ देशों ने ऐसा नहीं किया।

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election

फॉन्ट साइज चुनने की सुविधा केवल
एप पर उपलब्ध है

बेहतर अनुभव के लिए
4.3
ब्राउज़र में ही
एप में पढ़ें

क्षमा करें यह सर्विस उपलब्ध नहीं है कृपया किसी और माध्यम से लॉगिन करने की कोशिश करें

Followed