पहले नौकरी निकलती थी तो एक खानदान करता था वसूली: मुख्यमंत्री

Lucknow Bureau लखनऊ ब्यूरो
Updated Mon, 20 Sep 2021 12:41 AM IST
अयोध्या-अवध विवि के संतकबीर सभागार में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते मुख्यमंत्री
अयोध्या-अवध विवि के संतकबीर सभागार में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते मुख्यमंत्री - फोटो : FAIZABAD
विज्ञापन
ख़बर सुनें
अयोध्या। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बागपत के एक गांव का जिक्र करते हुए सपा सरकार में नौकरी में वसूली का आरोप लगाया। कहा कि एक समय ऐसा भी था कि नौकरी निकलती थी तो एक खानदान के लोग वसूली पर निकल पड़ते थे।
विज्ञापन

अब कोई ऐसा नहीं कर सकता। कहा कि पहले की सरकारें अराजकता व भ्रष्टाचार में लिप्त थीं। यह वही प्रदेश है जहां हर 10-12 दिन में दंगे हो जाया करते थे। अयोध्या जैसी जगह पर दुर्गापूजा का जुलूस नहीं निकल पाता था।

आज कोई इस प्रकार का दुस्साहस नहीं कर सकता है। उन्होंने आस्था पर सवाल करने वाले विरोधी दलों के नेताओं पर गिरगिट की तरह रंग बदलने का तंज भी कसा।
वे यहां रविवार को अवध विवि के संतकबीर सभागार में भाजपा के उत्तर प्रदेश पिछड़ा वर्ग मोर्चा के सम्मेलन के समापन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।
करीब एक घंटे तक के अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने साढ़े चार साल में आरक्षण व्यवस्था के तहत चार लाख लोगों को नौकरियां दी हैं। आज तक ओबीसी कमीशन आयोग का गठन नहीं हो पाया था।
प्रधानमंत्री ने इसका गठन कर पिछड़ों को संवैधानिक अधिकार दिया है। यह पहले की भी सरकारें कर सकती थीं लेकिन अराजकता व भ्रष्टाचार में लिप्त थीं।
उन्होंने बागपत में एक गांव में 27 लोगों को एक साथ नौकरी का जिक्र करते हुए कहा कि वो लोग प्रदेश सरकार के कृत्य से बहुत ही खुश है। गांव के लोगों का कहना है कि हमारे बच्चे पहले भी मेडिकल, टेस्ट सहित सब कुछ क्वालीफाई करते थे लेकिन रिजल्ट में उनका नाम नहीं आता था, अब ऐसा नहीं है।
उन्होंने कहा कि यह वही प्रदेश है जहां हर 10-12 दिन में दंगे हो जाया करते थे। अयोध्या जैसी जगह पर दुर्गापूजा का जुलूस नहीं निकल पाता था। आज कोई इस प्रकार का दुस्साहस नहीं कर सकता है।
पहले कांवड़ यात्रा रोक दी जाती थी। हमारी सरकार बनने के बाद डीजे, शंख व घंटा-घड़ियाल बजाने की अनुमति दी गई। इतना ही नहीं कांवड़ यात्रा पर पुष्प वर्षा भी कराई। अब चार करोड़ लोग बिना किसी खौफ के कांवड़ यात्रा कर रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी आस्था से खिलवाड़ करने का अधिकार किसी को नहीं है। पहले 12 बजे के बाद होली नहीं होगी इसका फतवा आ जाता था, लेकिन अब ऐसा संभव नहीं है।
प्रदेश सरकार ने कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने के साथ रोजगार सृजन के लिए कार्य किया है। अब कोई भी हमारी आस्था से खिलवाड़ नही कर सकता। पहले भगवान राम और कृष्ण को मानते ही नहीं थे लेकिन अब यह कहते हैं कि हम भी मानते हैं।
यह गिरगिट के जैसे रंग बदलने वाले लोग हैं और यह हमारी वैचारिक विजय भी है। उन्होंने कहा कि एक भारत श्रेष्ठ भारत के मिशन को आगे ले जाने के लिए राष्ट्रविरोधी ताकतों को परास्त करना होगा, तभी 135 करोड़ भारतीयों की आवाज जनता पूरी दुनिया तक पहुंचेगी।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कार्यकर्ताओं को आसन्न विधान सभा चुनाव में जाति विभाजन की खाई को पाटने का कार्य करना होगा। पहले भी देश को विदेशी आक्रांताओं ने देश में बंटवारे की दृष्टि से जातिवाद का जहर बोया था।
अब कुछ दल इसको बढ़ावा देने पर लगे हैं। कार्यकर्ताओं की सबसे बड़ी जिम्मेदारी है कि जाति के नाम पर छलावा करने वालों की साजिश को सफल नहीं होने दें। इसी से एक भारत, श्रेष्ठ भारत का सपना पूरा होगा जोकि हमारे प्रधानमंत्री की परिकल्पना है।
उन्होंने कहा कि ओबीसी, एससी एसटी, युवा व महिला मोर्चा समाज को बांटने का नहीं बल्कि समाज को जोड़ने के कार्य का जिम्मा है। इसी से प्रधानमंत्री की परिकल्पना सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास की परिकल्पना पूर्ण हो रही है।
इसका प्रदेश सरकार ने समस्त योजनाओं में ध्यान रखा है। इतना जरूर है कि जो एक समय से योजनाओं के लाभ में तुष्टीकरण की राजनीति चली आ रही थी, उसको समाप्त कर दिया गया है।
अभी तक अति पिछड़ों व पिछड़ों के लिए जो सरकारें बन रही थीं उसने पिछड़ों के लिए कोई कार्य नहीं किया है। सिर्फ अपने परिवार व खानदान के लिए कार्य किया है।
इसी का परिणाम रहा कि जनता का मोह इन लोगों से भंग हो गया। यही कारण है कि वर्ष 2017 में भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी।
कहा कि महाराणा प्रताप, शिवाजी, झांसी की रानी, रानी दुर्गावती व झलकारीबाई ने देश समाज व धर्म के लिए लड़ाई लड़ी थी लेकिन वामपंथी इतिहासकारों ने इसका गलत अर्थ निकाल लिया।
महाराणा प्रताप की जगह अकबर को महान बना दिया गया। यह साजिश हमारे गौरव व गौरव की अनुभूति को मिटाने के लिए है। यही कार्य 11 वीं शताब्दी में भी हुआ था जब विदेशी आक्रांताओं ने भारत वर्ष पर आक्रमण करने की ठानी तो महाराजा सुहैलदेव समस्त हिन्दु राजाओं ने धर्म ही नहीं बचाया बल्कि बहन-बेटियों की इज्जत को भी सुरक्षित रखा।
इसका परिणाम यह रहा कि 150 वर्षों तक कोई विदेशी आक्रांता भारत की तरफ नजर उठाकर नहीं देख सका। बाद में जातीय खेमों में बंट जाने के बाद विदेेशी आक्रांता हावी हो गए है। यहां तक कि अयोध्या काशी व मथुरा में हमारे पूज्य स्थलों तक को ढहा दिया गया।
उन्होंने कहा कि जातियों का सीधा अर्थ अग्रिम मोर्चा है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार आने के बाद श्रृंगवेरपुर में भव्य मंदिर बन रहा है। इससे पहले की भी सरकारें चाहती तो वहां मंदिर स्थापित हो सकता था लेकिन सिर्फ पिछड़ों के नाम पर छलावा होता रहा जबकि निषादराज जी भगवान श्रीराम के सखा थे।
उन्होंने वनवास होने के बाद सबसे पहले अपना राज्य भगवान श्रीराम को देने के लिए कहा था। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक समय ऐसा था कि कोई अयोध्या आना नहीं चाहता था लोग इसको सांप्रदायिक मानते थे।
प्रदेश में सरकार आने के बाद पहली बार एक लाख 87 हजार दीप जलाए गए। इसके बाद माटी कला बोर्ड का गठन कर कुम्हारों को रोजगार देते हुए अयोध्या के दीपोत्सव के लिए दीप बनाने का जिम्मा सौंपा गया।
अब इस बार 7.50 लाख दीप जलेंगे। कहा कि पिछड़ों के नाम पर राजनीति करने वालों ने वर्ष 2016-17 में सिर्फ 57 हजार 678 लोगों को पूर्व दशोमत्तर छात्रवृत्ति दी थी। हमारी सरकार ने पहले वर्ष सात लाख 58 हजार 320 लोगों को छात्रवृत्ति दी है।
इस वर्ष भी 175 करोड़ रुपये निर्धारित हैं। इसी प्रकार दशमोत्तर छात्रवृत्ति में भी पूर्व की सरकार ने सिर्फ 10 लाख लोगों को जबकि हमारी सरकार ने 20 लाख लोगों को छात्रवृत्ति दी है। इस वर्ष 1200 करोड़ रुपये बजट निर्धारित है।
ओबीसी छात्रों पर हर वर्ष 15 करोड़ रुपये से ट्रेनिंग दी जा रही है। इसके साथ ही शादी अनुदान में एक लाख परिवारों की गरीब लड़कियों की शादी कराई जा चुकी है।
सीएम ने कहा कि पिछड़ा वर्ग मोर्चा कार्य समिति में बुलाने के लिए इसके प्रदेश अध्यक्ष नरेंद्र कश्यप प्रदेश प्रभारी दयाशंकर सिंह को बधाई देता हूं कि इन्होंनेे कार्य समिति की बैठक के लिए भगवान श्रीराम के जन्म स्थान अयोध्या का चयन किया।
दो दिन विपरीत मौसम के बावजूद सूर्यवंशी राजाओं द्वारा पोषित इस धरती पर भगवान सूर्यदेव जी अपनी कृपा बरसा रहे है। आज उनका दिन रविवार भी है।
इस अवसर पर गदा एवं भगवान राम की मूर्ति, अंगवस्त्र, धनुषवाण आदि भेंट कर मुख्यमंत्री का सम्मान किया गया। उप मुख्यमंत्री केशव प्रसार मौर्य, पूर्व केन्द्रीय मंत्री हंसराज अहिर, केन्द्रीय मंत्री पंकज चौधरी, केन्द्रीय मंत्री बीएल वर्मा आदि ने भी बैठक को संबोधित किया।
सभी ने पार्टी को मजबूत करने तथा सरकार द्वारा साढ़े चार वर्ष में किये गये कार्यों को आम जनमानस तक पहुंचाने का आह्वान किया। मौके पर मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार संबंधित पुस्तिका एवं फोल्डर आदि का भी वितरण किया गया।
मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार की तमाम उपलब्धियां भी गिनाईं। इसके पूर्व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का हवाई पट्टी पर अपर पुलिस महानिदेशक एस एन साबत, मंडलायुक्त एमपी अग्रवाल, आईजी जोन डॉ. संजीव गुप्त, सांसद लल्लू सिंह आदि ने स्वागत किया।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00