बगैर नोटिस प्रशासन ने ढहाया 6 दलितों का आशियाना

Lucknow Bureau Updated Thu, 07 Dec 2017 11:46 PM IST
अयोध्या। बिना किसी पूर्व सूचना या नोटिस के उप जिलाधिकारी सदर मधुसूदन नागराज के निर्देशन में प्रशासनिक टीम ने रानोपाली ग्रामसभा के शंकरगढ़ बाजार से सटे तिलैइया नाला पर बने छह दलित परिवारों के आशियाने को बुलडोजर से ढहा दिया।

इसमें एक मकान रानोपाली ग्राम सभा के पूर्व प्रधान राजकरण के पुत्र फूलचन्द्र का भी है। सभी परिवार अब खुले आसमान के नीचे आ गए हैं। ठंड में परिवार कहां रहेंगे, इसका जवाब प्रशासन के पास नहीं है।

यह पूरा मामला रानोपाली ग्रामसभा की भूमि गाटा संख्या 1032 का है। फूलचंद्र के साथ सीताराम, देवी प्रसाद, रामभवन, मंशाराम व रामराज के भवन भी बुलडोजर से जमीदोज कर दिये गए हैं।

एक अन्य अतिक्रमित भवन के गलत तरीके से बनाये गये कागजात को एसडीएम सदर अपने साथ ले गए। उन्होंने भवन स्वामी को तहकीकात के लिए दूसरे दिन बुलाया है।

एक अन्य महिला मीना के छप्पर को प्रशासन ने पाया कि इनके पास रहने की कोई जगह नहीं है, इसलिए इनके विरुद्ध कार्रवाई नहीं की गई।

रानोपाली ग्राम सभा के मजरे पटवारी का पुरवा के निवासी अमरनाथ वर्मा ने मंगलवार को सदर तहसील में आयोजित संपूर्ण समाधान दिवस में सार्वजनिक मार्ग पर अतिक्रमण हटाने की शिकायत मंडलायुक्त व डीएम से की थी।

उसी सिलसिले में उप जिलाधिकारी सदर, राजस्व निरीक्षक एवं लेखपाल वीरेन्द्र सिंह, रानोपाली चौकी इंचार्ज व कई पुलिसकर्मियों के साथ अमरनाथ वर्मा के आवास पहुंचे थे।

बिना पूर्व सूचना के कार्रवाई के सवाल पर उप जिलाधिकारी सदर ने कहा कि यह सही है कि जिनके आशियानों को ढहाया गया, उनको कोई नोटिस नहीं दिया गया।

लेखपाल व कानूनगो ने अतिक्रमण किये हुये लोगों को सूचना दे दी थी। यह सभी भवन ग्राम समाज की भूमि पर अतिक्रमण कर अवैध कब्जे के रूप में निर्मित किये गये थे। जबकि इसी भूमि पर ग्राम प्रधान द्वारा कई निवासियों को पट्टा भी दिया गया है।

Spotlight

Most Read

National

तीन करोड़ वाले टेबल के चक्कर में फंसा AIIMS, प्रधानमंत्री मोदी से शिकायत

आरोप है कि निविदा में दी गई शर्तों को केवल यूके की कंपनी ही पूरा कर सकती है। इस कंपनी ने टेबल की कीमत तीन करोड़ रुपये तय की है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper