विज्ञापन
विज्ञापन

'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' स्लोगन मोदी का नहीं मेरा आइडिया'

टीम डिजिटल/अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Mon, 27 Jun 2016 01:33 PM IST
Rajasthan: lady cop blamed central govt for Beti Bachao Beti Padhao
- फोटो : times of india
ख़बर सुनें
राजस्‍थान की एक महिला पुलिस अधिकारी ने मोदी सरकार पर उसका आइडिया चुराने का आरोप लगाया है। महिला अधिकारी के अनुसार मोदी सरकार का चर्चित बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ नारा उन्हीं के दिमाग की उपज है, जिसे केंद्र सरकार ने पिछले साल राष्ट्रभर में बेटियों को बचाने और उन्हें पढ़ाने के लिए प्रचारित किया था। 
विज्ञापन
टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार उदयपुर के एक महिला पुलिस थाने की एसएचओ चेतना भाटी ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर उसकी रचनात्मकता को मान्यता देने की मांग की है। 

चेतना ने इस संबंध में पीएमओ को एक आरटीआई भेजकर जानकारी मांगी थी कि उन्होंने यह वाक्यांश कहां से लिया है, लेकिन उन्हें वहां से संतुष्ट करने वाला जवाब नहीं मिल सका। इतिहास और अंग्रेजी में पीजी डिग्री रखने वाली चेतना भाटी 20 साल पहले पुलिस में आने से पूर्व एक शिक्षिका थीं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Jammu

लद्दाख को डीजीपी का पद, इनको मिल सकती है जिम्मेदारी, जम्मू-कश्मीर पुलिस में बदलाव के आसार कम

अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन एक्ट को 31 अक्तूबर से लागू करने की तैयारियां चल रही हैं। इस बीच जम्मू-कश्मीर पुलिस का अमला भी पुनर्गठन के साथ नई शक्ल अख्तियार करेगा।

4 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

आंखों से रोशनी जाने पर भी नहीं टूटे सपने, कानपुर के अवधेश कुमार ने पास की पीसीएस परीक्षा

चार साल पहले एक बीमारी की वजह से कानपुर के अवधेश कुमार कौशल की आंखों की रोशनी चली गई, मगर उन्होंने हार नहीं मानी और कड़ी मेहनत और जुनून से पीसीएस अधिकारी बनकर ही माने।

14 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree