विज्ञापन

पटियाला

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

पटियाला: रंजिश में कांग्रेस के पूर्व सरपंच की गोली मारकर हत्या, पांच नामजद समेत 14 के खिलाफ मामला दर्ज

पंजाब में विधानसभा चुनाव के नजदीक आते ही आपराधिक वारदातों का सिलसिला शुरू हो गया है। मंगलवार सुबह कांग्रेस के गढ़ पटियाला में गांव झिल के पूर्व कांग्रेस सरपंच तारा दत्त (38) की कुछ लोगों ने गोलियां मार कर हत्या कर दी। खबर लिखे जाने तक थाना त्रिपड़ी पुलिस ने मामले में पांच लोगों को नामजद और 9 अज्ञात के खिलाफ हत्या व अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया था। लेकिन अभी किसी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी थी। 

आरोपियों में अब्बू, जतिंदर शेरगिल, कंवदीप सिंह खरौड़, जसप्रीत सिंह, मनी वालिया शामिल हैं। जानकारी के मुताबिक पूर्व सरपंच तारा दत्त की त्रिपड़ी के विकास नगर में नई कोठी बन रही है। निर्माण कार्य में लगे मिस्त्रियों को चाय देने मंगलवार सुबह करीब सवा 10 बजे वह विकास नगर स्थित अपने घर से कार में निकला। 

पुलिस के मुताबिक हमलावरों को इस बात की पूरी जानकारी थी। वह पहले से ही घर के नजदीक रास्ते में घात लगाकर बैठे थे। आरोपी भी कारों में सवार थे। जैसे ही तारा दत्त पहुंचा तो आरोपियों ने उस पर गोलियां बरसाना शुरू कर दिया। कई गोलियां पूर्व सरपंच की गाड़ी के बोनट व शीशे पर लगी। 

फायरिंग की आवाज सुनकर लोग मौका स्थल की तरफ भागे और बुरी तरह से घायल पूर्व सरपंच को गाड़ी से पटियाला के एक निजी अस्पताल लाया गया लेकिन वहां उपचार के दौरान तारा दत्त की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि पूर्व सरपंच को सात गोलियां मारी गईं हैं। पुलिस ने वारदात वाली जगह से गोलियों के खोल भी बरामद किए हैं। जानकारी के मुताबिक पटियाला से मंत्री ब्रह्म महिंदरा के करीबी रहे तारा दत्त के खिलाफ मारपीट के कई मामले दर्ज हैं।

एसपी (सिटी) हरपाल सिंह के मुताबिक आरोपियों ने पूर्व सरपंच पर कुछ समय पहले जानलेवा हमला किया था। इस मामले में आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज है, जो फिलहाल कोर्ट में विचाराधीन है। इसी मामले की रंजिश में आरोपियों ने मंगलवार को पूर्व सरपंच के कत्ल की वारदात को अंजाम दे दिया।
... और पढ़ें

पटियाला में बड़ा हादसा: भाखड़ा नहर में गिरी कार, मां-बेटी की मौत, छोटी बेटी-बेटा व पति लापता

पटियाला-संगरूर रोड पर रविवार देर रात एक तेज रफ्तार सफेद रंग की स्विफ्ट कार बेकाबू होकर भाखड़ा नहर में गिर गई। हादसे में मां और बड़ी बेटी की मौत हो गई, जबकि परिवार के तीन सदस्य लापता हैं। इनमें घर का मुखिया, उसकी छोटी बेटी व बेटा शामिल हैं। हाल ही में बड़ी बेटी समिता गर्ग की एक मल्टीनेशनल कंपनी में साढ़े आठ लाख के पैकेज पर नौकरी लगने के बाद पंचकूला स्थित माता मनसा देवी मंदिर में परिवार माथा टेकने गया था।

खबर लिखे जाने तक पुलिस ने धारा 174 सीआरपीसी के तहत केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। संबंधित थाना पसियाना के प्रभारी अंकुरदीप सिंह ने बताया बठिंडा के रामपुरा फूल के रहने वाले कीटनाशक दवा की दुकान के मालिक जसविंदर कुमार (52), अपनी पत्नी नीलम गर्ग (50), दो बेटियों समिता गर्ग (26) व ईशा गर्ग (24) और बेटे पीरू गर्ग (9) के साथ पंचकूला के नजदीक मनसा देवी मंदिर से माथा टेककर घर लौट रहे थे। 

रास्ते में पटियाला-संगरूर रोड पर पसियाना पुल के नजदीक तेज रफ्तार होने के कारण स्विफ्ट कार अचानक बेकाबू होकर भाखड़ा नहर में गिर गई। किसी राहगीर ने नहर में लाइट जलतीं कार को डूबते देखा और पास थाना पसियाना पुलिस को सूचित किया। पुलिस टीम गोताखोरों को लेकर देर रात करीब 12 बजे पहुंचीं लेकिन ठंड व अंधेरे में पानी का तेज बहाव होने के कारण गोताखोरों को ज्यादा मदद नहीं मिली। 

कार का भी कुछ पता नहीं लगा। सोमवार को सुबह करीब आठ बजे गोताखोरों की टीम को मदद मिली और कार को तलाश लिया गया। कार से मां नीलम गर्ग और बेटी समिता गर्ग के शव बरामद किए गए हैं। कार से मिली आरसी के आधार पर जानकारी लेकर पीड़ित परिवार के रिश्तेदारों से संपर्क किया गया। खबर लिखे जाने तक जसविंदर कुमार व उसकी छोटी बेटी व बेटे की तलाश जारी थी।
 
 ‘कई बार भाई बेटियों को कार चलाने को दे देता था’
जसविंदर कुमार के भाई राजिंदर कुमार के मुताबिक बेटी समिता गर्ग की साढ़े आठ लाख के पैकेज पर बठिंडा में एक मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी लगी थी। इसी खुशी में रविवार को पहले घर में धार्मिक समागम रखा गया और फिर बाद में सारा परिवार माथा टेकने माता मनसा देवी मंदिर चला गया। राजिंदर कुमार ने मामले में किसी से रंजिश की बात से इनकार किया है, उनका कहना है कि कई बार भाई बेटियों को कार चलाने को दे देता था। हो सकता है कि बेटियों को कार चलाने के लिए दी हो और अचानक यह हादसा हो गया।
... और पढ़ें

पटियाला में बड़ी साजिश का भंडाफोड़: महिला समेत तीन लोगों को पुलिस ने पकड़ा, खालिस्तान का प्रचार करने का आरोप

पंजाब में आने वाले विधानसभा चुनावों से पहले पटियाला में मंगलवार को एक बड़ी साजिश का पर्दाफाश हुआ, जब पुलिस ने बब्बर खालसा इंटरनेशनल (सुखदेव बब्बर ग्रुप) का एरिया कमांडर रहे मनजीत सिंह निवासी दरगापुर जिला गुरदासपुर के छोटे भाई की पत्नी व उसके बेटे समेत तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया। 

पुलिस के मुताबिक तीनों आरोपी सिख फॉर जस्टिस के लिए प्रचार करने वाले गिरोह के सदस्य हैं और इनके पास से काफी मात्रा में प्रचार सामग्री भी बरामद की गई है। आरोपी धार्मिक स्थानों व अन्य सार्वजनिक स्थानों पर लोगों में रेफरेंडम-2020 के लिए वोटिंग करने के लिए रजिस्ट्रेशन फार्म बांटते थे। गौरतलब है कि आतंकी मनजीत सिंह पंजाब में आतंकवाद के दौर में मारा गया था।
  
एसएसपी हरचरण सिंह भूल्लर ने बताया कि डीएसपी सर्कल राजपुरा गुरबंस सिंह बैंस की अगुवाई में पुलिस पार्टी बन्नो माई मंदिर मेन रोड बनूड़ के पास मौजूद थी, इसी बीच सूचना मिली कि जगमीत सिंह निवासी हाउसफेड सोसायटी बनूड़, रविंदर सिंह निवासी गांव जसड़ा जिला फतेहगढ़ साहिब खालिस्तान के समर्थन में प्रचार कर रहे हैं। 
... और पढ़ें

पटियाला झड़प: मास्टरमाइंड परवाना की गिरफ्तारी के बाद पांच और आरोपी काबू, अब तक नौ को दबोचा गया

पटियाला हिंसा मामले में शनिवार देर रात मामले के मास्टरमाइंड व मुख्य आरोपी बरजिंदर सिंह परवाना उर्फ सन्नी निवासी राजपुरा की मोहाली से गिरफ्तारी के बाद अब पुलिस ने पांच और आरोपियों की गिरफ्तार किया है। इनमें शिवसेना (बाल ठाकरे) के जिला प्रधान शंकर भारद्वाज, सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट डालने वाले हिंदू नेता अश्विनी कुमार उर्फ गग्गी पंडित समेत शिवदेव निवासी गांव बाल सिकंदर जिला फतेहगढ़ साहिब, दविंदर सिंह निवासी जींद और राजिंदर सिंह निवासी समाना को गिरफ्तार किया गया है।

अब इस मामले में कुल नौ आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। पटियाला रेंज के आईजी मुखविंदर सिंह छीना, एसएसपी दीपक पारिक, डीसी साक्षी साहनी ने रविवार को सुबह एक संयुक्त पत्रकार वार्ता में बताया कि मुकदमे की पूरी पड़ताल करके किसी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि पटियाला पुलिस पूरे पेशेवाराना ढंग से मामले की तह तक जाकर इस साजिश के पीछे के असल आरोपियों को बेनकाब करेगी। 

आरोपियों को ऐसी सजाएं दिलाई जाएंगी, ताकि भविष्य में ऐसी हिंसक घटनाओं को अंजाम न दे सके। आईजी ने बताया बरजिंदर सिंह परवाना को मोहाली से गिरफ्तार किया गया है, जिसे अदालत में पेश कर पुलिस रिमांड लेकर जांच को आगे बढ़ाएगी। आईजी ने कहा कि सनसनीखेज खबरें फैलाने वालों समेत सोशल मीडिया पर भड़काऊ सामग्री डालने वालों के खिलाफ भी सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी। 

उन्होंने मीडिया, खास कर इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया हैंडलर्स से अपील की है कि शांति भंग करने वाली कोई भी खबर साझी करने से पहले उसकी पुष्टि जरूर कर लें। डीसी साक्षी साहनी ने कहा कि तथ्यहीन व भड़काऊ पोस्ट को आगे साझा न कर जिला प्रशासन को इस संबंध में सूचना दें। 

गौरतलब है कि 29 अप्रैल को खालिस्तान मुर्दाबाद मार्च निकालने को लेकर शिव सैनिकों व खालिस्तानी समर्थकों के बीच श्री काली माता मंदिर के सामने हिंसक झड़प हो गई थी। इस मामले में इससे पहले शिवसेना (बाल ठाकरे) पंजाब के निष्कासित कार्यकारी प्रधान हरीश सिंगला, कुलदीप सिंह निवासी गांव बिजलपुर बस अड्डा ढैंठल जिला पटियाला और दलदीत सिंह रिंपल और बरजिंदर सिंह परवाना को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है।
... और पढ़ें
फ्लैग मार्च निकालने से पहले पुलिस जवानों को समझाते सिटी थाना प्रभारी। फ्लैग मार्च निकालने से पहले पुलिस जवानों को समझाते सिटी थाना प्रभारी।

पटियाला में कत्ल: मामूली बात पर छोटे भाई ने की बड़े की हत्या, सिर पर डंडा मारकर उतारा मौत के घाट

पटियाला थाना सदर के अधीन गांव रायपुर मंडला में मामूली सी बात को लेकर बहसबाजी के बाद छोटे ने बड़े भाई के सिर में डंडा मारकर कत्ल कर दिया। पुलिस ने मृतक के बेटे के बयान पर आरोपी चाचा के खिलाफ केस दर्जकर उसे गिरफ्तार कर लिया है। मामले के जांच अधिकारी पुलिस चौकी बहादुरगढ़ के प्रभारी गुरसेवक सिंह ने बताया कि हरिंदर सिंह निवासी गांव रायपुर मंडला ने शिकायत दी है कि वह दोपहर के वक्त अपने पिता अमर सिंह (65) के साथ घर में मौजूद था। इसी बीच उनके घर के नजदीक ही रहने वाला उसका चाचा ज्वाला सिंह (58) तूड़ी भरी ट्राली लेकर आया और उनके घर के आगे लगाकर उतारने लगा। 

पिता अमर सिंह ने विरोध किया कि वह ट्राली को ले जाकर अपने घर के आगे खड़ा करे और वहीं तूड़ी उतारे, क्योंकि तूड़ी उतारने के कारण काफी धूल-मिट्टी उड़ रही है, जो उनके घर में आ रही है। इसी बात को लेकर दोनों भाइयों में बहसबाजी हो गई। इसी दौरान तैश में आकर आरोपी ज्वाला सिंह ने अपने बड़े भाई अमर सिंह के सिर में जोर से डंडा मारा। इससे अमर सिंह बेहोश होकर जमीन पर गिर गया। उसे अस्पताल ले जाया गया लेकिन वहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस के मुताबिक डंडे से सिर में कोई बाहरी चोट नहीं थी। डॉक्टरों के मुताबिक डंडे के वार से दिमाग के अंदर ब्लीडिंग होने से मौत हुई है। आरोपी ज्वाला सिंह के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।
... और पढ़ें

पटियाला में हैवानियत: सामूहिक दुष्कर्म के बाद नाबालिग छात्रा की हत्या, नदी में फेंका शव, कॉल डिटेल्स से खुला राज

पंजाब के पटियाला जिले में 16 साल की एक 10वीं की छात्रा को बहाने से घग्गर नदी के किनारे बुलाकर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया गया। इसके बाद आरोपियों ने लड़की का गला दबाकर हत्या कर दी और शव को नदी में फेंक दिया। लड़की का शव नदी से बरामद कर लिया गया है। पुलिस ने केस दर्ज करने के बाद आरोपी प्रिंसपाल सिंह व उसके एक नाबालिग साथी को पकड़ लिया है।

पातड़ां के डीएसपी रछपाल सिंह ने बताया कि नाबालिग लड़की को स्कूल से आते-जाते वक्त आरोपी प्रिंसपाल सिंह परेशान करता था। लड़की के ताया ने इस संबंध में आरोपी को पकड़कर कई बार चेतावनी भी दी थी। बावजूद इसके आरोपी में कोई सुधार नहीं आया और उसने सात अप्रैल को लड़की को फोन पर धमकाया और घग्गर नदी के किनारे बुला लिया।

वहां छात्रा के साथ आरोपी प्रिंसपाल सिंह और उसके नाबालिग दोस्त ने सामूहिक दुष्कर्म किया। लड़की के विरोध करने पर उसकी गला दबाकर हत्या कर दी। आरोपियों ने जुर्म को छिपाने के लिए शव को घग्गर नदी में फेंक दिया। जब काफी देर तक लड़की घर नहीं पहुंची तो परिवार वालों ने पुलिस में शिकायत की। इसके आधार पर पुलिस ने जांच शुरू की। 

लड़की के फोन कॉल की डिटेल चेक करने पर आरोपियों का नंबर मिला। खास बात यह कि वारदात के दिन सात अप्रैल को लड़की और आरोपियों के फोन की लोकेशन भी नदी के किनारे मिली। इस आधार पर पुलिस ने जब दोनों से सख्ती से पूछताछ की तो उन्होंने गुनाह कबूल कर लिया है। लड़की का मोबाइल फोन भी आरोपियों से बरामद कर लिया गया है। 

एक ने पकड़ी टांगें, दूसरे ने घोंटा गला
पुलिस के मुताबिक आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि दुष्कर्म के बाद छात्रा ने कहा था कि वह सबकुछ पुलिस को बता देगी। इससे आरोपी घबरा गए और छात्रा को मारने की योजना बना डाली। एक आरोपी ने लड़की की टांगें पकड़ीं तो दूसरे ने गला घोंटकर उसका कत्ल कर दिया। बाद में शव घग्गर नदी में फेंक दिया। थाना घग्गा के इंचार्ज अजय कुमार ने बताया कि आरोपी प्रिंसपाल सिंह का एक दिन का पुलिस रिमांड खत्म होने पर सोमवार को उसे अदालत में पेश किया गया था। जहां से उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है। वहीं उसके नाबालिग साथी को लुधियाना के रिमांड होम भेज दिया गया है। 
... और पढ़ें

पटियाला में दो की हत्या: कबड्डी क्लब के प्रधान की गोली मार कर ली जान, 19 वर्षीय युवक को भी उतारा मौत के घाट

पंजाबी यूनिवर्सिटी के नजदीक मंगलवार देर रात कबड्डी क्लब के प्रधान धरमिंदर सिंह उर्फ भिंदा (32) निवासी गांव दौणकलां की कुछ लोगों ने गोली मार कर हत्या कर दी। वारदात के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए। संबंधित थाना अर्बन एस्टेट पुलिस ने मामले में चार लोगों को नामजद कर लिया है, दो अज्ञात के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है। घटना मंगलवार देर रात साढ़े 11 बजे की है और पंजाबी यूनिवर्सिटी के सामने स्थित पेट्रोल पंप के पिछले हिस्से में बनी मार्केट व पीजी वाले इलाके की है। खबर लिखे जाने तक मामले में किसी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। 

पटियाला जिले के कस्बा बहादुरगढ़ के गांव दौणकलां का रहने वाला धरमिंदर सिंह अपने गांव के कबड्डी क्लब का प्रधान था। वह अक्सर गांव में कबड्डी के टूर्नामेंट कराता रहता था और खुद भी कबड्डी खेलता था। गांव में दो गुटों में किसी बात को लेकर झगड़ा चल रहा था। दोनों गुट आपस में बातचीत जरिये समझौता करने पंजाबी यूनिवर्सिटी के नजदीक एक ढाबे पर पहुंचे थे। 

बॉडी बिल्डिंग का शौकीन धरमिंदर सिंह रोजाना की तरह मंगलवार को भी जिम गया था। वहां से लौटते समय रात को वह उसी जगह पहुंच गया। वहां मुंह पर रुमाल बांधे कुछ युवकों ने चार से पांच राउंड फायर किए। इसी बीच एक गोली कबड्डी क्लब के प्रधान धरमिंदर सिंह की जांघ में लगी। वारदात के बाद हमलावर कुछ देर तक बाइक पर घटनास्थल पर रुके और बाद में फरार हो गए। तुरंत धरमिंदर सिंह को गंभीर हालत में अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।    

घटनास्थल के नजदीक पीजी में रहने वालों ने वारदात की बनाई वीडियो   
फायरिंग की आवाज सुनकर आसपास पीजी में रहने वाले लोग छतों पर पहुंच गए। इनमें से एक ने हमलावरों का वीडियो बना लिया, जो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है। इस वीडियो में छह युवक दिखाई दे रहे हैं और चार राउंड फायर होने की आवाज सुनाई देती है। मामले में एसपी (सिटी) हरपाल सिंह, डीएसपी सिटी टू मोहित अग्रवाल ने बताया कि वारदात के तुरंत बाद पुलिस घटनास्थल पर पहुंच गई थी। 

मामले में चार लोगों को नामजद किया गया है, जिनमें एक आरोपी हरवीर सिंह निवासी गांव दौणकलां धरमिंदर सिंह के साथ ही पंजाबी यूनिवर्सिटी में पढ़ता था। दोनों में किसी बात को लेकर रंजिश चल रही थी। इसी रंजिश में हरवीर सिंह समेत उसके साथियों तेजिंदर सिंह फौजी निवासी दौणकलां, बोनी व हरमन दास निवासी गांव थेड़ी के साथ बहस हुई। जिसके बाद आरोपियों की तरफ से फायरिंग कर दी गई।
... और पढ़ें

विजय हत्याकांड की गुत्थी सुलझी: हरियाणा के दो आरोपियों को पुलिस ने पकड़ा, बहाने से बुला की थी निर्मम हत्या, जानें वजह

कबड्डी खिलाड़ी की फाइल फोटो
पटियाला पुलिस ने विजय हत्याकांड का खुलासा कर दिया है। पुलिस ने हरियाणा के रहने वाले दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक मृतक युवक की पत्नी के साथ मुख्य आरोपी के रिश्ते थे। यही वजह रही है कि आरोपी ने कत्ल की वारदात को अंजाम दिया। आरोपियों ने सुआ से हमला कर युवक को मौत के घाट उतारा था। वारदात में इस्तेमाल सुआ को भी बरामद कर लिया गया है।

नाभा रोड स्थित एक पैलेस के नजदीक विजय कुमार (42) निवासी ग्रीन लहल कालोनी पासी रोड जूस की रेहड़ी लगाता था। शुक्रवार यानी एक अप्रैल को वह रोजाना की तरह घर से सुबह नौ बजे काम के लिए गया था लेकिन रात तक वह वापस नहीं लौटा और उसका मोबाइल फोन भी बंद आ रहा था। इसके बाद परिवार वालों ने उसकी तलाश शुरू की लेकिन अंधेरा होने कारण कुछ पता न लगने पर विजय कुमार की गुमशुदगी की सूचना पुलिस को दी। 

अगले दिन शनिवार सुबह आठ बजे पुलिस टीम ने मौके पर पहुंच कर जायजा लिया। इस दौरान डॉग स्क्वायड की टीमों ने तलाश किया और झाड़ियों के पास से विजय कुमार का शव बरामद किया। एसएसपी नानक सिंह ने सोमवार को बताया कि जांच में सामने आया कि विजय कुमार के गले व छाती पर तेजधार चीज से हमला किया गया था। 

पुलिस ने टीम बनाकर जब जांच आगे बढ़ाई तो सामने आया कि विजय कुमार की पत्नी के वीर सिंह उर्फ वीरू निवासी नसीरपुर दुर्गा नगर जिला अंबाला, हरियाणा के साथ संबंध हैं। दोनों की फेसबुक पर दोस्ती हुई थी। मृतक की पत्नी से वीर सिंह शादी करना चाहता था लेकिन वह पहले से ही शादीशुदा होने की बात कहकर पीछे हट रही थी। इसके बाद आरोपी वीर सिंह ने अपने दोस्त अमृत उर्फ रिकी निवासी नसीरपुर जिला अंबाला, हरियाणा के साथ मिलकर विजय कुमार के कत्ल की साजिश रची। आरोपी वारदात वाले दिन बहाने से विजय कुमार को उसकी रेहड़ी के नजदीक झाड़ियों में ले गया और वहां बर्फ तोड़ने वाले सुआ से गले व छाती पर हमला कर हत्या कर दी। आरोपियों के खिलाफ थाना बख्शीवाला में केस दर्ज कर पुलिस ने आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

खौफनाक: तीन माह की बच्ची की ली थी पटक कर जान, अब मां-बाप को पुलिस ने गिरफ्तार किया, दादी बोली- सख्त सजा मिले

नाभा के पांडूसर मोहल्ले में बुधवार तड़के करीब तीन बजे अपनी तीन माह की बच्ची परी की दीवार से पटककर उसकी कत्ल करने के आरोपी नशेड़ी पिता अजय कुमार व मां कीर्ति आर्य को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों को अदालत में पेश करके पुलिस ने एक दिन का रिमांड हासिल किया है। 

नाभा थाना कोतवाली इंचार्ज राजेश कुमार ने पुष्टि करते हुए कहा कि पूछताछ में खुलासा होगा कि हत्या के पीछे क्या कारण रहे। इसी बीच बच्ची के दादा संजीव कुमार ने आरोप लगाया कि बच्ची रात को रोई होगी और इससे गुस्साए नशेड़ी पिता ने बच्ची को दीवार से पटक दिया लेकिन कमरे में मौजूद बच्ची की मां ने बेटे को ऐसा करने से नहीं रोका। शोर सुनकर दादा-दादी कमरे में गए। 

वहां देखा कि खून से लथपथ तीन माह की परी की लाश फर्श पर पड़ी थी। दादा ने बताया कि परी के नाक से खून निकल रहा था और आंखों के नजदीक नीला निशान था। ऐसा लग रहा था कि बच्ची को पीटा भी गया है। वह व उनकी पत्नी तुरंत बच्ची को लेकर सिविल अस्पताल गए। उधर, उनका बेटा व बहू फरार हो गए।

आरोपी के भाई के घर हुई थी बेटी
थाना इंचार्ज राजेश कुमार ने बताया कि आरोपी अजय कुमार के छोटे भाई के घर बेटी हुई थी। सभी अस्पताल में जच्चा-बच्चा को देखकर मंगलवार रात को ही घर लौटे थे। इसके कुछ घंटों के बाद तड़के करीब तीन बजे आरोपी अजय कुमार ने वारदात को अंजाम दे दिया। पुलिस के मुताबिक आरोपी अजय कुमार नशे के टीके लगाने से लेकर चिट्टा लेने तक हर प्रकार का नशा पिछले करीब तीन साल से कर रहा था। वह कोई काम भी नहीं करता था। दादी मोना रानी ने कहा कि भले ही आरोपी अजय कुमार उनका बेटा है लेकिन एक छोटी सी बच्ची को मारकर उसने गुनाह किया है। जिसके लिए उसे सख्त सजा मिलनी चाहिए।
... और पढ़ें

पटियाला: कार लूट में शामिल बदमाशों ने किया बड़ा खुलासा, निशानदेही पर 32 बोर की 10 पिस्तौल, 18 मैगजीन बरामद

अंबाला-राजपुरा रोड के नजदीक शंभू हाईवे पर 28 फरवरी की रात को पिस्तौल दिखाकर वरना कार लूट मामले में दो और बदमाशों की गिरफ्तारी से पंजाब में अवैध हथियारों की तस्करी का खुलासा हुआ है। एक बदमाश को पुलिस लुधियाना से तो दूसरे को संगरूर से गिरफ्तार करके लाई थी। दोनों की निशानदेही पर 32 बोर की 10 अवैध पिस्तौल समेत 18 मैगजीन और एक स्विफ्ट डिजायर कार बरामद की गई है। इनके संबंध गैंगस्टरों से बताए जा रहे हैं। वरना कार लूट में इस्तेमाल हथियार भी इन्होंने ही मुहैया कराए थे। 

एसएसपी डॉ. संदीप कुमार गर्ग ने मंगलवार को प्रेसवार्ता में बताया कि शंभू हाईवे पर कार लूट मामले में पुलिस ने तीन आरोपियों को हथियारों समेत गिरफ्तार किया था। पड़ताल के दौरान खुलासा हुआ कि बड़े स्तर पर अवैध हथियारों की सप्लाई की जा रही है। कुछ अपराधियों ने अवैध हथियार अपने कब्जे में रखे हुए हैं। 

सीआईए स्टाफ इंचार्ज शमिंदर सिंह की अगुवाई में टीम ने तलविंदर सिंह उर्फ निक्कू (37) निवासी गांव दाद थाना सुधार जिला लुधियाना देहात को उसके गांव से गिरफ्तार किया। उसकी निशानदेही पर घर से 32 बोर के चार पिस्तौल समेत 18 कारतूस बरामद किए। इसी तरह एक अन्य आरोपी कुलविंदर सिंह उर्फ सोनू (42) निवासी जुझार नगर कृष्णपुरा जिला संगरूर को उसके घर से गिरफ्तार किया जिसकी निशानदेही पर 32 बोर के छह पिस्तौल समेत 13 कारतूस और आठ मैगजीन बरामद कीं। वरना कार लूट में इस्तेमाल हथियार इन्होंने ही मुहैया कराए थे। 
... और पढ़ें

खौफनाक वारदात: दीवार पर पटक कर तीन माह की बच्ची को मार डाला, बेरहम बाप का नहीं पसीजा कलेजा

पटियाला में नशे के आदी एक पिता ने अपनी तीन माह की बेटी को दीवार से पटककर मार डाला। हत्या के बाद मां-बाप फरार हैं। पुलिस ने बच्ची के दादा की शिकायत के बाद आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। थाना कोतवाली नाभा इंचार्ज राजेश कुमार ने बताया कि बच्ची की पहचान परी (तीन माह) के तौर पर हुई है। 

बच्ची को दीवार पर पटककर मारा गया है, दीवार पर खून के निशान भी मिले हैं। बच्ची के दादा संजीव कुमार और दादी मोना रानी ने बयान दिया है कि उनका परिवार नाभा के पांडूसर मोहल्ले में रहता है। करीब डेढ़ वर्ष पहले उनके बेटे अजय कुमार का विवाह हुआ था। वह नशे की बुरी लत का शिकार है, उसकी पत्नी कीर्ति शर्मा भी उसे नशा करने से नहीं रोकती थी। 

मंगलवार रात भी उसका बेटा नशे में था। तड़के करीब तीन बजे जब उसके बेटे के कमरे में शोर हुआ तो उन्होंने जाकर देखा। वहां परी खून से लथपथ जमीन पर गिरी पड़ी थी। वे बच्ची को नाभा के सिविल अस्पताल ले गए लेकिन वहां डॉक्टर उसे बचा नहीं सके। इस दौरान अजय और कीर्ति शर्मा फरार हो गए। बिलखते बच्ची के दादा-दादी ने कहा कि जिगर के टुकड़े को इतनी बुरी मौत देने वालों को फांसी की सजा दी जाए। पुलिस के मुताबिक आरोपी अजय कुमार नशेड़ी है और कोई काम नहीं करता था।
... और पढ़ें

पटियाला में स्वास्थ्य मंत्री का बड़ा एलान: पंजाब में 16000 मोहल्ला क्लीनिक बनेंगे, डॉक्टर मरीजों को ज्यादा समय दें

पटियाला के डेंटल कॉलेज के सालाना समागम में सोमवार को पहुंचे पंजाब के चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधान व स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. विजय सिंगला ने कहा कि प्रदेश में सेहत सेवाओं में सुधार आम आदमी पार्टी की पहली प्राथमिकता है। पंजाब में 16 हजार मोहल्ला क्लीनिक बनाकर हर नागरिक को बेहतर स्वास्थ्य सेवा देना सुनिश्चित किया जाएगा।

मंत्री ने निर्देश दिया कि डॉक्टर प्राइवेट प्रैक्टिस से गुरेज करें और अपने अस्पताल व मरीजों को ज्यादा समय दें। उन्होंने कहा कि पंजाब के मेडिकल कॉलेजों में फैकल्टी, सिविल अस्पतालों में डॉक्टरों समेत पैरा मेडिकल स्टाफ व दवाओं की कमी अगले छह माह में पूरी की जाएगी। हर नागरिक के लिए सेहत कार्ड और आयुष्मान सेहत बीमा योजना को अपग्रेड किया जाएगा। 

समागम में उन्होंने विद्यार्थियों को पुरस्कार भी वितरित किए। गौरतलब है कि डॉ. सिंगला इसी कॉलेज के 1988 बैच के विद्यार्थी रहे हैं। कॉलेज के दिनों की यादें ताजा करते हुए कैबिनेट मंत्री भावुक हो उठे। उन्होंने अपने अध्यापकों व सहपाठियों का जिक्र किया। इस मौके पर डेंटल कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ. जीवन लता भी मौजूद रहीं। इसके बाद मीडिया से बात करते हुए डॉ. सिंगला ने बताया कि पटियाला, फरीदकोट और अमृतसर में सुपर स्पेशियलिटी शाखाओं को और बेहतर बनाने समेत टरशरी व सेकेंडरी केयर संस्थाओं को अपग्रेड करने की तरफ विशेष ध्यान दिया जाएगा। 

डॉक्टरों को काम करने के लिए भयमुक्त वातावरण मुहैया कराया जाएगा। तबादलों के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया अपनाई जाएगी। सरकारी डॉक्टरों को निजी प्रैक्टिस से गुरेज करने के संबंध में डा. सिंगला ने कहा कि डॉक्टरों को अब सिविल सर्जन, डायरेक्टर हेल्थ या सेहत मंत्री को कुछ देने की जरूरत नहीं है। वह अपने सरकारी अस्पताल और मरीजों को ही ज्यादा से ज्यादा समय दें। इससे पहले कैबिनेट मंत्री का पटियाला पहुंचने पर प्रशासनिक अधिकारियों ने स्वागत किया। जिला पुलिस की टुकड़ी ने गार्ड ऑफ ऑनर भेंट करके सलामी दी। 
... और पढ़ें

पटियाला: तीन आरोपी हथियारों समेत काबू, शंभू बॉर्डर पर वरना कार थी लूटी, बड़ी वारदात की रच रहे थे साजिश

जेल में बंद अपराधियों के साथ संबंध रखने वाले तीन ऐसे शातिर आरोपियों को पटियाला पुलिस ने हथियारों समेत काबू किया है, जिन्होंने पिछले दिनों शंभू बॉर्डर के नजदीक हाइवे पर पिस्तौल दिखाकर वरना कार लूटी थी। एसएसपी डॉ. संदीप कुमार गर्ग ने सोमवार को यहां पुलिस लाइन में आयोजित पत्रकार वार्ता में बताया कि पकड़े आरोपियों से लूटी वरना कार और इस वारदात में इस्तेमाल स्विफ्ट कार भी बरामद कर ली है। 

आरोपी निकट भविष्य में एक और बड़ी वारदात को अंजाम देने की योजना बना रहे थे। गिरफ्तार आरोपियों में 27 वर्षीय 12वीं पास पवनदीप सिंह उर्फ पवन गरचा निवासी गांव बिलगा लुधियाना, 10वीं पास 23 वर्षीय मनविंदर सिंह उर्फ चमकौर सिंह निवासी गांव खापड़ खेड़ी थाना घरिंडा जिला अमृतसर और 35 वर्षीय रणजोध सिंह जोती निवासी गांव जवाहर सिंह वाला थाना निहाल सिंह वाला जिला मोगा शामिल हैं। 

आरोपी पवनदीप के खिलाफ पहले से ही तीन, मनविंदर के खिलाफ पांच और रणजोध सिंह के खिलाफ पहले से ही तीन मामले दर्ज हैं। आरोपियों के पास से छह कारतूस समेत दो पिस्तौल और दो कारतूस बरामद किए गए हैं। एसएसपी ने बताया कि 28 फरवरी 2022 को आईसीआईसी बैंक की शाखा राजपुरा में बतौर डिप्टी मैनेजर/कैशियर तैनात अजायब सिंह निवासी देवीगढ़ ने पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराई थी कि देर शाम करीब साढ़े सात बजे जब वह शंभू बॉर्डर के नजदीक घग्गर सराय पुल पर खड़ा था तो एक स्विफ्ट कार उसकी कार के पीछे आकर रुकी। उसमें से दो नौजवान नीचे उतरे और एक ने रास्ता पूछने के बहाने पिस्तौल दिखाकर उसे कार की खिड़की से बाहर खींच लिया और दूसरे ने जमीन की तरफ फायर करके उसकी वरना कार लूट ली। 

इस संबंध में थाना शंभू में विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया गया था। एसएसपी ने बताया कि मामले की जांच के दौरान पुलिस पार्टी ने एक गुप्त सूचना के आधार पर तीनों आरोपियों को मर्दांपुर से शंभू जाते वक्त रेलवे लाइन पर नाकाबंदी के दौरान घन्नौर से आते समय काबू कर लिया। एसएसपी के मुताबिक पकड़े गए सभी आरोपियों के जेलों में बंद खूंखार अपराधियों के साथ संबंध सामने आए हैं। पकड़े आरोपी हरियाणा से शराब लाकर चंडीगढ़ में बेचते थे और आने वाले दिनों में एक बड़ी वारदात की तैयारी में थे। इसके लिए ही आरोपियों ने वरना कार लूटी थी। एसएसपी ने कहा कि आरोपियों को अदालत में पेश कर रिमांड पर लिया जाएगा, ताकि पूछताछ में और खुलासे हो सकें।
... और पढ़ें
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00