लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

अलर्ट: दुनिया की पांच सबसे खतरनाक बीमारियों के बारे में जानें, जीते जी मार डालती हैं

हेल्थ डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: सोनू शर्मा Updated Tue, 08 Jun 2021 08:31 AM IST
प्रतीकात्मक तस्वीर
1 of 6
विज्ञापन
Medically Reviewed by Dr. Parvesh Malik

डॉ. परवेश मलिक 
फिजिशियन, उजाला सिग्नस हॉस्पिटल
डिग्री- एम.बी.बी.एस, एमडी (जनरल मेडिसिन)  


कोरोना वायरस को दुनिया में आए डेढ़ साल का समय बीत चुका है और इतने ही दिनों में इस बीमारी ने लाखों लोगों की जान ले ली और करोड़ों लोगों को संक्रमित किया। कोरोना के कारण लोगों को कई अन्य जानलेवा बीमारियां भी हो रही हैं, जिनमें म्यूकरमाइकोसिस (ब्लैक फंगस) प्रमुख है। हालांकि यह बीमारी सभी के लिए नहीं बल्कि एक विशेष वर्ग के लिए जानलेवा साबित हो रही है, जिसमें डायबिटीज के मरीज, कम प्रतिरोधक क्षमता वाले लोग शामिल हैं। वैसे इस बीमारी को इलाज के द्वारा ठीक किया जा रहा है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इनके अलावा भी दुनिया में कई ऐसी बीमारियां हैं, जो बेहद ही गंभीर और जानलेवा हैं और वो लाइलाज हैं, यानी उनका कोई इलाज उपलब्ध नहीं है। मोटर न्यूरॉन भी ऐसी ही एक लाइलाज बीमारी है, जिसका अभी तक सटीक इलाज नहीं मिल पाया है। मशहूर वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग को भी यही बीमारी थी। आइए जानते हैं इस बीमारी के बारे में और साथ ही कुछ अन्य लाइलाज गंभीर बीमारियों के बारे में भी... 
प्रतीकात्मक तस्वीर
2 of 6
क्या है मोटर न्यूरॉन? 
  • यह एक घातक बीमारी है, जिसके कारण मरीज की मांसपेशिया बर्बाद हो जाती हैं, उनके शरीर के कई अंग काम करना बंद कर देते हैं। इस बीमारी से पीड़ित मरीज को खाना निगलने से लेकर सांस लेने तक में परेशानी होती है। विशेषज्ञ कहते हैं कि इस बीमारी की चपेट में आने के बाद सिर्फ पांच फीसदी लोग ही जिंदा बच पाते हैं। 
विज्ञापन
प्रतीकात्मक तस्वीर
3 of 6
स्टोनमैन सिंड्रोम 
  • फाइब्रोडिस्प्लासिया ऑसिफिकन्स प्रोग्रेसिवा (एफओपी), जिसे स्टोनमैन सिंड्रोम या मुंचमेयर रोग भी कहा जाता है, एक अत्यंत ही दुर्लभ, लेकिन गंभीर बीमारी है, जिसका कोई मौजूदा इलाज या उपचार नहीं है। इस बीमारी में मरीज की जब हड्डी टूटती है तो वह सही जगह जुड़ नहीं पाती, कभी-कभी तो वह हड्डी दूसरी जगह जुड़ जाती है, इससे काफी दर्द का सामना करना पड़ता है। इस बीमारी के इलाज ढूंढने को लेकर अभी शोध चल रहे हैं। 
प्रतीकात्मक तस्वीर
4 of 6
एक्सरोडरमा पिग्मेंटोसम 
  • यह भी एक घातक और दुर्लभ बीमारी है। यह त्वचा संबंधी बीमारी है, जिसमें मरीज को सूरज की रोशनी से एलर्जी होती है। इस बीमारी से पीड़ित मरीज की त्वचा पर धूप पड़ जाए तो उसकी त्वचा में खुजली, जलन होने लगती है और छाले पड़ जाते हैं। इस बीमारी का भी फिलहाल कोई इलाज उपलब्ध नहीं है। 
विज्ञापन
विज्ञापन
प्रतीकात्मक तस्वीर
5 of 6
चगास रोग 
  • चगास रोग, जिसे अमेरिकन ट्रिपैनोसोमियासिस भी कहा जाता है, एक परजीवी रोग है जो ट्रिपैनोसोमा क्रूजी के कारण होता है। इसमें व्यक्ति सोते समय 'किसिंग बग' का शिकार हो जाता है, जिससे मुंह के पास घाव हो जाता है। यह बीमारी व्यक्ति की तंत्रिका तंत्र को भी प्रभावित करती है। इसकी वजह से शरीर में खून का संचार सही तरीके से नहीं हो पाता है, जिससे कई तरह की समस्याएं पैदा हो जाती हैं। कुछ समय पहले तक यह बीमारी लाइलाज थी, लेकिन अब इसकी कुछ दवाएं उपलब्ध हैं, जिनके बारे में कहा जाता है कि अगर संक्रमण का पता शुरुआत में ही चल जाता है तो दवाओं के माध्यम से मरीज की जान बचाई जा सकती है। 
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें  लाइफ़ स्टाइल से संबंधित समाचार (Lifestyle News in Hindi), लाइफ़स्टाइल जगत (Lifestyle section) की अन्य खबरें जैसे हेल्थ एंड फिटनेस न्यूज़ (Health  and fitness news), लाइव फैशन न्यूज़, (live fashion news) लेटेस्ट फूड न्यूज़ इन हिंदी, (latest food news) रिलेशनशिप न्यूज़ (relationship news in Hindi) और यात्रा (travel news in Hindi)  आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़ (Hindi News)।  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|

विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00