अगले महीने शुरू होगा बीटीसी सत्र

ब्यूरो/अमर उजाला, लखनऊ Updated Thu, 23 Jan 2014 09:04 AM IST
btc session start
बीटीसी सत्र देर से ही सही पर शुरू करने की तैयारियां लगभग पूरी हो गई हैं।

जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) ने आवेदनों की खामियां दूर करते हुए राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) को भेज दिया है। वह शीघ्र ही नेशनल इनफॉरमेटिक सेंटर (एनआईसी) को सूची सौंप देगा।

माह के अंत तक ऑनलाइन अनंतिम सूची जारी करते हुए मेरिट में आने वालों से 10 जिलों का विकल्प लेते हुए फरवरी के दूसरे सप्ताह से प्रशिक्षण प्रक्रिया शुरू करने की तैयारी है। प्रदेश में इस समय बीटीसी की करीब 41,500 सीटें हैं।

बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में शिक्षक बनने की योग्यता स्नातक व बीटीसी है। एससीईआरटी ने बीटीसी के लिए आवेदन मांगा था। इसके लिए 6,68,700 छात्र-छात्राओं ने आवेदन किया। एससीईआरटी ने मेरिट की पहली कटऑफ 73,140 छात्रों की जारी की थी।

इसके बाद काफी संख्या में आवेदकों ने यह प्रत्यावेदन दिया कि गड़बड़ियों के चलते उन्हें शामिल नहीं किया गया। इसके बाद छात्रों को खामियां दूर करने का मौका दिया गया। एससीईआरटी द्वारा बार-बार मौका देने के बाद भी सभी छात्र खामियां दूर नहीं कर सके।

एससीईआरटी ने इसके बाद डायट प्राचार्यों को निर्देश दिया कि वे आवेदन की खामियां स्वयं दूर करें ताकि कोई भी पात्र प्रशिक्षण से वंचित न रह जाए। डायट प्राचार्यों ने खामियां दूर करते हुए एससीईआरटी को सूची भेज दी है।

बताया जाता है कि करीब 7500 आवेदकों ने काफी गल्तियां की थीं, जिन्हें चयन प्रक्रिया से बाहर किया जा सकता है। एससीईआरटी 27 से 28 जनवरी तक सूची एनआईसी को सौंपेगा।

इसके करीब पांच दिन बाद अनंतिम कटऑफ जारी किया जाएगा। इसके एक सप्ताह बाद मेरिट में आने वालों से 10 जिलों का विकल्प लिया जाएगा और एक सप्ताह बाद अंतिम चयन सूची जारी करते हुए फरवरी के दूसरे हफ्ते से प्रशिक्षण शुरू करा दिया जाएगा।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

संघर्ष से लेकर यूपी के डीजीपी बनने तक ऐसा रहा है ओपी सिंह का सफर

कई दिनों के इंतजार के बाद ओपी सिंह ने आखिरकार उत्तर प्रदेश के डीजीपी पद का भार संभाल लिया। पद ग्रहण करने के बाद डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि अपराधी सामने आएंगे, गोली चलाएंगे तो पुलिस उनसे निपटेगी।

24 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls