पीरियड्स के दौरान क्या आपको होते हैं पैड से रैशेज?

Advertorial  Updated Fri, 06 Mar 2020 01:28 PM IST
विज्ञापन
नाइन सैनेटरी नैपकिन
नाइन सैनेटरी नैपकिन - फोटो : Amar Ujala

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

पीरियड्स एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जिससे हर महिला को महीने में दो से सात दिन की अवधि तक गुजरना पड़ता है । यह हर महिला के स्वास्थ्य के लिए अत्यंत आवश्यक है । इसके अलावा इस दौरान महिलाओं को हाइजीन का भी अत्यंत ध्यान देना चाहिए । हाइजीन से लापरवाही बरतना महिलाओं के लिए कई खतरे उत्पन्न कर सकता है । पीरियड्स के समय स्किन रैशेज, लाल चकत्ते आदि समस्याओं से अक्सर ही महिलाओं को गुजरना पड़ता है । इन समस्याओं का प्रमुख कारण होता है पैड रैशेज । अक्सर निम्न गुणवत्ता के सैनेटरी पैड्स इस्तेमाल करने अथवा एक ही पैड को काफी लम्बे समय तक इस्तेमाल करने से इन सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है । वैसे सैनेटरी पैड की वजह से होने वाले रैशेज के लिए कई सारे ट्रीटमेंट मौजूद हैं, लेकिन कुछ आसान उपाय कर के महिलाएं सैनेटरी पैड से होने वाले रैशेज से बच सकती हैं ।

विज्ञापन

महिलाओं को हमेशा उच्च गुणवत्ता के सैनेटरी नैपकिन का ही प्रयोग करना चाहिए । खराब ब्रांड के नैपकिन का इस्तेमाल करने से रैशेज का खतरा बढ़ जाता है ।

विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें  लाइफ़ स्टाइल से संबंधित समाचार (Lifestyle News in Hindi), लाइफ़स्टाइल जगत (Lifestyle section) की अन्य खबरें जैसे हेल्थ एंड फिटनेस न्यूज़ (Health  and fitness news), लाइव फैशन न्यूज़, (live fashion news) लेटेस्ट फूड न्यूज़ इन हिंदी, (latest food news) रिलेशनशिप न्यूज़ (relationship news in Hindi) और यात्रा (travel news in Hindi)  आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़ (Hindi News)।  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us