सीकर में लव जिहाद: मामले ने लिया मोड़ पुलिस चाहती है ये...

अमर उजाला टीम डिजिटल/जयपुर Updated Sat, 03 Jun 2017 04:41 PM IST
डेमो इमेज
डेमो इमेज
ख़बर सुनें
राजस्थान के सीकर में दांतारामगढ़ में कथित लव जिहाद मामले में नया मोड़ आया है। पुलिस ने मामले में दांतारामगढ़ उप प्रधान बसंत कुमावत सहित सात जनों पर सामाजिक उन्माद फैलाने का आरोप लगाया है।
जानकारी के अनुसार, थाना प्रभारी की ओर से उपखंड मजिस्ट्रेट न्यायालय में पाबंद करवाने के लिए एक इस्तगासा पेश किया गया है। इसमें दांतारामगढ़ पंचायत समिति के उप प्रधान बंसत कुमावत, पूर्व उप जिला प्रमुख हनुमान झाझड़ा, पूर्व जिला परिषद सदस्य एडवोकेट राजेश चेजारा, भाजपा कार्यकर्ता जितेंद्र सिंह मंढा, युवा मोर्चा के उपाध्यक्ष शेर सिंह उमाडा सहित श्यामसुन्दर स्वामी और राजेश वैष्णव पर सामाजिक सौहार्द को बिगाड़ने, साम्प्रदायिक उन्माद फैलाने का आरोप लगाया गया है।

पुलिस की ओर से दायर इस्तगासे में ये भी आरोप लगाया गया है कि इन लोगों ने नाबालिगों के साथ दुष्कर्म करने के मामले का खुलासा करने की मांग को लेकर 29 मई को दांतारामगढ़ में सभा व रैली की। इस सभा में भाषण व मौखिक तौर पर लव जिहाद का नाम लेकर लोगों को दूसरे समुदाय के प्रति भड़काने का प्रयास किया।

गौरतलब है कि दांतारामगढ़ में एक समुदाय के चार युवकों ने नाबालिग बालिकाओं साथ दुष्कर्म कर उनकी अश्लील फोटो भी फेसबुक पर अपलोड कर दी थी। इस मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर 29 मई को हिंदु जागरण मंच ने दांतारमगढ़ में सभा व रैली कर उपखण्ड अधिकारी को ज्ञापन दिया था। ज्ञापन के दौरान ही मंच के कार्यकर्ताओं व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुरेन्द्र दीक्षित के बीच झड़प हो गई थी।

मामले में पुलिस ने आरोपित राजा खान और रोशन खान को पहले ही गिरफ्तार कर लिया है। वही एक नाबालिग आरोपी को निरूद्ध किया गया है। एक अन्य आरोपी फरार बताया जा रहा है।

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

Meerut

दरोगा की बेटी से कराई पहचान

दरोगा की बेटी से कराई पहचान

23 मई 2018

Related Videos

VIDEO: 22 साल बाद इस गांव में बना कोई दूल्हा, जानिए क्या है वजह

कोई भी मां बाप अपनी बेटी की शादी उसी जगह करता है, जहां उसे कोई परेशानी न हो। यही वजह है कि राजस्थान के धौलपुर के राजघाट गांव का नाम सुनते ही लोग वहां रिश्ता करने से मना कर देते है। यहां न बिजली है, न पानी है और न ही सड़क है।

6 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen