विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Reports about Former RJD MP Mohammad Shahabuddin's death not true: Tihar jail

कोरोना : शहाबुद्दीन की मौत को तिहाड़ जेल प्रबंधन बताता रहा अफवाह, सोशल मीडिया पर होती रही कयासबाजी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: दीप्ति मिश्रा Updated Sat, 01 May 2021 11:59 AM IST
सार

कोरोना वायरस से संक्रमण के कारण शहाबुद्दीन के निधन की खबर का तिहाड़ जेल प्रशासन ने खंडन किया है। जेल प्रशासन की ओर से यह भी कहा गया है कि शहाबुद्दीन की तबीयत खराब है।

मोहम्मद शहाबुद्दीन
मोहम्मद शहाबुद्दीन
ख़बर सुनें

विस्तार

देश में कोरोना का खौफ लगातार बढ़ता जा रहा है। यह जानलेवा वायरस प्रतिदिन हजारों की जिंदगियां निगल जा रहा है। इस बीच, शनिवार सुबह राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता और बिहार की सिवान लोकसभा सीट से पूर्व सांसद सैयद शहाबुद्दीन की कोरोना से मौत की खबरें चलने लगीं। बाद में शहाबुद्दीन की मौत की खबर को लेकर तिहाड़ जेल प्रशासन ने खंडन किया है। जेल प्रशासन की ओर से यह भी कहा गया है कि शहाबुद्दीन की तबीयत खराब है। इसके कुछ घंटों बाद उसकी कोरोना से मौत हो गई। बता दें कि हत्या के मामले में सजायाफ्ता बिहार का बाहुबली शहाबुद्दीन दिल्ली की तिहाड़ जेल में ही बंद है।



तिहाड़ जेल प्रशासन ने कहा था कि सोशल मीडिया पर चल रहीं शहाबुद्दीन की कोरोना से मौत की खबरें कोरी अफवाह हैं। जेल प्रशासन के मुताबिक, शहाबुद्दीन की हालत गंभीर है, लेकिन अभी उपचार चल रहा है। पूर्व सांसद का दिल्ली के ही दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में उपचार चल रहा है। कोरोना संक्रमित शहाबुद्दीन के स्वास्थ्य पर डॉक्टर नजर रख रहे हैं। इसके कुछ घंटों बाद तिहाड़ की डीजी ने शहाबुद्दीन की मौत पुष्टि की।


बता दें कि सिवान लोकसभा सीट से सांसद रह चुके बाहुबली शहाबुद्दीन की गिनती आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के करीबी नेताओं में होती थी। शहाबुद्दीन को हत्या के एक मामले में अदालत ने दोषी करार दिया था। सजायाफ्ता शहाबुद्दीन दिल्ली की तिहाड़ जेल में सजा काट रहा था। आज सुबह से ही सोशल मीडिया पर शहाबुद्दीन के निधन की खबरें चल रही थीं, जिनको जेल प्रशासन ने गलत करार दिया। 

बता दें कि तिहाड़ जेल में भी कोरोना वायरस पांव पसार रहा है। कई कैदी अब तक कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। तिहाड़ जेल में बंद कैदियों को भी कोरोना की वैक्सीन लगाए जाने की कवायद जेल प्रशासन ने शुरू कर दी है।

तिहाड़ जेल में शहाबुद्दीन को एकदम अलग बैरक में रखा गया था। उस बैरक में शहाबुद्दीन के अलावा कोई दूसरा कैदी नहीं है। तिहाड़ में तीन ऐसे कैदी (शहाबुद्दीन, छोटा राजन और नीरज बवाना) हैं, जिनको अलग-अलग बैरकों में अकेला रखा गया है। इनका किसी से भी मिलना-जुलना नहीं होता है। पिछले 20-25 दिनों से इनके परिजनों को भी इन कैदियों से मिलने नहीं दिया जा रहा है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00