विज्ञापन
विज्ञापन

महिलाएं खुद को आत्महत्या जैसी बुराई से बाहर निकाल रही हैं, पुरुष अभी तक फंसे हैं...

जितेंद्र भारद्वाज, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Wed, 12 Sep 2018 10:04 PM IST
Report: Women are out of suicide, men are still trapped
ख़बर सुनें
बदलते जमाने के साथ अपने देश की महिलाएं भी खुद को बदल रही हैं। बात तरक्की की हो या किसी सामाजिक बुराई से पीछा छुड़ाने की, दोनों ही मामलों में महिलाओं ने साबित कर दिया है कि अब वे डर कर नहीं, बल्कि जी कर आगे बढ़ेंगी। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) की रिपोर्ट बताती है कि महिलाओं द्वारा आत्महत्या करने के मामले घट रहे हैं, जबकि पुरुषों का आंकड़ा कम नहीं हो पा रहा है। 1990 में एक लाख महिलाओं पर करीब 20 महिलाएं किसी वजह से आत्महत्या कर लेती थी, लेकिन आज वह आंकडा 14.7 पर आ गया है।
विज्ञापन
दूसरी तरफ पुरुषों की बात करें तो 1990 में एक लाख पुरुषों के पीछे 22 पुरुष आत्महत्या जैसी सामाजिक बुराई का शिकार थे। आज भी हालत में कोई ज्यादा सुधार नहीं आया है। 2016 में पुरुषों की वह संख्या 21 पर अटकी है। आईसीएमआर में पेश की गई अपनी रिपोर्ट में पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया की पदाधिकारी प्रो. राखी दनदोना का कहना है कि लंबे समय तक चार दीवारी के भीतर रहने वाली महिलाओं ने अब जीना सीख लिया है। वे खुद के अधिकारों के लिए लड़ने लगी हैं।

अच्छी बात यह है कि वे अब आत्महत्या जैसी सामाजिक बुराई से दूर हो रही हैं। बता दें कि हमारे देश में 1990 के दौरान आत्महत्या के 164400 केस सामने आए थे, आज वह संख्या 230300 पर पहुंच गई है। हालांकि अभी भी भारत में दुनिया के मुकाबले आत्महत्या के ज्यादा केस देखने को मिल रहे हैं। दुनिया में महिलाओं द्वारा आत्महत्या करने के कुल मामले देखें तो उसका 37 प्रतिशत हिस्सा भारत में है। प्रो. दनदोना के अनुसार, यह ठीक है कि महिलाओं के आत्महत्या के मामले कम हो रहे हैं, लेकिन इसे वैश्विक स्तर पर देखा जाए तो यह मौजूदा संख्या अभी भी ज्यादा है। दुनिया में महिलाओं की आत्महत्या का प्रतिशत सात है, लेकिन भारत में वह 14.7 है।

पुरुषों के मामले कम क्यों नहीं हो पा रहे हैं, यह एक वृहद रिसर्च का विषय है, दनदोना ने इस बाबत कहा है, हम अभी इस पर रिसर्च कर रहे हैं। इसके कई कारण हो सकते हैं, जैसे नौकरी, परिवारिक कलह, बैंक का लोन व अन्य सामाजिक परिस्थितियां आदि। इसमें सबसे सबसे बड़ी बात यह है कि पुरुषों द्वारा आत्महत्या के मामले की जांच पड़ताल सही से नहीं होती।अधिकांश मामलों में देखा गया है कि वे अपनी बात किसी के सामने सांझा नहीं कर पाते हैं। इसके लिए सरकार, स्वास्थ्य विभाग, शिक्षण संस्थान और समाज, सभी को हर स्तर पर प्रयास करना होगा। विशेषज्ञों को पुरुषों की समस्याओं का गहराई से जानकर उनका निदान करने के लिए आगे आना चाहिए।

अगर आत्महत्या के मामलों की यह संख्या तेजी से नहीं गिरती है तो 2030 में इसकी दर कम करने का लक्ष्य भी पूरा नहीं होगा। सरकार ने अपने लक्ष्य में 2030 तक आत्महत्या के केसों में तीस से चालीस फीसदी की कमी लाने का टारगेट रखा है।
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

HP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।
HP Board 2019

HP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019
ज्योतिष समाधान

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

तीसरे चरण का प्रचार थमा, उत्तर प्रदेश की 10 सीटों समेत 116 सीटों पर 23 अप्रैल को मतदान

लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण के तहत महाराष्ट्र, गुजरात, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, ओडिशा, असम और गोवा की कुछ सीटों पर मंगलवार को होने वाले मतदान के लिए चुनाव प्रचार रविवार शाम को थम गया

21 अप्रैल 2019

विज्ञापन

21 अप्रैल @ 9PM: 2 मिनट में सुनें हर खबर का अपडेट

अमर उजाला डॉट कॉम पर देश-दुनिया की राजनीति, Sports, Crime, Cinema, फैशन और धर्म से जुड़ी खबरें। सुनें दिनभर की खबरों का हर अपडेट 2 मिनट में।

21 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election