विज्ञापन

महिलाओं की तरक्की में मोटापा नहीं आएगा आड़े, डीजीसीए ने जारी किया एकसमान वजन का नियम

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Thu, 29 Nov 2018 11:00 AM IST
विज्ञापन
now new rule for DGCA it ends gender bias restores uniform Body Mass Index for crew
ख़बर सुनें
भारत का विमानन नियामक महानिदेशालय (डीजीसीए) अंततः अपने चार साल पुराने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) मानदंडों को बदलने जा रहा है। केबिन क्र्यू और कॉकपिट के लिए चलाए जा रहे इस बॉडी मास इंडेक्स फॉर्मूले का डीजीसीए में भारी विरोध था इसे लिंग विरोधी भी माना जाता रहा है। लेकिन जल्द ही इसे एक समान कर दिया जाएगा। बता दें कि बीएमआई इंडेक्स पुरुष चालक दल और केबिन के कर्मचारियों के लिए अलग और महिला चालक दल और क्र्यू सदस्यों के लिए अलग- अलग था। जिसका लंबे समय से महिला कर्मचारियों द्वारा विरोध किया जा रहा था और इसे भेदभाव वाला भी कहा जाता था। 
विज्ञापन
बीएमआई महिला और पुरुष चालक दल के लिए अलग नियम

बीएमआई यानी शरीर की लंबाई और वजन के आधार पर मोटापा तय करने का माप। इससे यह पता चलता है कि शरीर में वसा कितना है। मई 2014 में जारी डीजीसीए के नियमों  के मुताबिक, पुरुष केबिन चालक दल के लिए जहां यह माप 18-25 वर्ष के लिए सामान्य माना जाता है, जबकि महिला केबिन चालक दल के लिए यह 18-22 वर्ष के लिए ही था।  जिसे अब बराबर कर दिया गया है। पुरुष चालक दल के लिए 25-29.9 का बीएमआई अधिक वजन, 30 और उससे ऊपर, मोटापे से ग्रस्त माना जाता है, जबकि महिला चालक दल के लिए 22-27 का बीएमआई अधिक वजन और 27 और उससे अधिक, मोटापा माना जाता है।

पुरुषों और महिलाओं के बीच कोई भेद नहीं होगा

डीजीसीए के अधिकारी ने कहा कि "हम पायलटों और चालक दल के लिए एक ही बीएमआई सेट करेंगे और पुरुषों और महिलाओं के बीच कोई भेद नहीं होगा। हमने सुझावों के लिए कहा है लेकिन सभी के लिए, सामान्य बीएमआई 18-25 किए जाने की बात चल रही है और 30 से ऊपर बीएमआई समान रूप से मोटापे से ग्रस्त माना जाएगा। अधिकारी ने बताया कि मानदंड सभी एयरलाइंस पर एकसमान लागू किया जाएगा। मोटे और अधिक वजन वाले सेवा के लिए अनुपयुक्त माने जाते हैं।  

हर चार साल और तीन साल पर होगा टेस्ट

अधिकारी ने बताया कि क्र्यू सदस्यों को इस इंडक्शन टेस्ट से हर तीन और चार साल पर गुजरना होगा। जबकि उन्हें एयरलाइन ज्वाइन करने वाले को मेडिकल टेस्ट के साथ ही सारी गाइडलाइन फॉलो करनी होगी। फिर चार-चार वर्षों पर जब तक वह चालीस साल के नहीं होते इसकी जांच की जाएगी और 50 वर्ष का होने तक हर तीन साल पर यह जांच की जाएगी।
 
एयरलाइन केबिन क्रयू के लिए फिट, टेंपररी अनफिट और परमानेंट अनफिट गाइडलाइन के हिसाब से घोषित किया जाएगा। सिर्फ फिट क्रयू के सदस्य ही उड़ान पर जा सकेंगे।  केबिन क्र्यू जो अनफिट पाए जाते हैं उन्हें तीन महीने का समय वजन कम करने के लिए दिया जाएगा और अगर वह दूसरे टेस्ट में भी फेल हो जाते हैं तो उन्हें छह महीने का समय दिया जाएगा।

क्या हैं बीएमआई के वैश्विक नियम 
डॉ अमित गोस्वामी सीनियर कंसलटेंट ने कहा किपुराने नियम के अनुसार जो एयर इंडिया को सबसे अधिक प्रभावित कर रहा है वह अधिक वजन होना है। बता दें कि 18 साल के लोगों के लिए वैश्विक तौर पर नॉर्मल बीएमआई 24.9 किलोग्राम रखा गया है। यदि कोई इस वजन को पार कर जाता है तो उसे अधिक वजन वाला माना जाएगा। 
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us