विज्ञापन
विज्ञापन

कर्नाटक: बागी विधायकों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू, हिरासत में रोशन बेग

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, बंगलूरू Updated Tue, 16 Jul 2019 11:13 AM IST
Karnataka Assembly Session
Karnataka Assembly Session - फोटो : PTI
ख़बर सुनें

खास बातें

  • कर्नाटक संकट: विधायकों के इस्तीफों पर आज सुप्रीम कोर्ट में अहम सुनवाई।
  • बी एस येदियुरप्पा का दावा, भाजपा 4-5 दिन में कर्नाटक में सरकार बनाएगी।
  • कर्नाटक-जेडीएस सरकार का 18 जुलाई को होगा शक्ति परीक्षण, अनुपस्थित रह सकते हैं बागी विधायक।
  • आईएमए पोंजी घोटाला : कांग्रेस से निलंबित और बागी विधायक रोशन बेग को एसआईटी ने हिरासत में लिया।
कर्नाटक में राजनीतिक उठापटक जारी है। मंगलवार को उच्चतम न्यायालय ने कांग्रेस के बागी विधायकों की याचिका पर सुनवाई होनी है। विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष (स्पीकर) पर सरकार के इशारे पर अपने इस्तीफे स्वीकार न करने का आरोप लगाते हुए याचिका दायर की है। पार्टी के बागी विधायक आनंद सिंह, के सुधाकर, नागराज, मुनिरत्न और रोशन बेग ने मुख्य न्यायशधीश रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ के सामने याचिका दाखिल की है। अदालत अब इन पांच बागी विधायकों की याचिका पर भी सुनवाई करेगी। पिछली सुनवाई के दौरान शीर्ष न्यायालय ने स्पीकर से यथास्थिति बनाए रखने को कहा था। 

बागी विधायकों की याचिका पर सुनवाई शुरू

उच्चतम न्यायालय में बागी विधायकों की याचिका पर सुनवाई शुरू हो गई है। बागी विधायकों का पक्ष रखते हुए मुकुल रोहतगी ने कहा, सभी 10 याचिकाकर्ताओं ने 10 जुलाई को इस्तीफा दे दिया था। स्पीकर यदि चाहते हैं तो फैसला ले सकते हैं। चूंकि इस्तीफा स्वीकार करने और अयोग्यता दोनों अलग-अलग निर्णय हैं। उन्होंने अदालत में पूछा कि विधायकों को बांधे रखने की कोशिश क्यों हो रही है। रोहतगी ने कहा कि उमेश जाधव ने इस्तीफा दिया और उनके इस्तीफे को स्वीकार कर लिया गया है।
विज्ञापन
अदालत ने पूछा कि विधायकों ने कब इस्तीफा दिया। जिसके जवाब में रोहतगी ने कहा कि सभी ने छह जुलाई को इस्तीफा दिया था। बागी विधायकों के हवाले से मुकुल रोहतगी ने अदालत में कहा, हम विधायक बने रहना नहीं चाहते हैं। कोई भी हमें मजबूर नहीं कर सकता। मेरा इस्तीफा स्वीकार किया जाना चाहिए।

आईएमए पोंजी घोटाला : कांग्रेस के बागी विधायक रोशन बेग हिरासत में लिए गए

करोड़ों रुपये के आईएमए ज्वेलर्स पोंजी घोटाला मामले में की जांच कर रही एसआईटी ने कांग्रेस से निलंबित विधायक रोशन बेग को हिरासत में ले लिया है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने बताया कि जिस वक्त बेग को हिरासत में लिया गया, वह उस वक्त बंगलूरू अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर से चार्टर्ड विमान में सवार होने वाले थे। कुमार स्वामी ने अरोप लगाया कि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा के निजी सहायक संतोष भी बेग के साथ ही थे। 

सनद रहे कि सिद्धारमैया सरकार में पूर्व मंत्री रहे बेग पर कंपनी के मालिक मोहम्मद मंसूर खान से 400 करोड़ रुपये लेने का आरोप है। हालांकि विधायक ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है। खान पर 42 हजार निवेशकों के साथ 1500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोप है।

सुनवाई के अध्यक्ष के समक्ष पेश नहीं हो सके दो बागी विधायक

दो बागी विधायक प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष के आर रमेश कुमार के समक्ष सोमवार को सदन से अपने इस्तीफे पर व्यक्तिगत सुनवाई के लिए उपस्थित होने में विफल रहे। इन विधायकों में कांग्रेस और जेडीएस के एक-एक विधायक शामिल हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

आखिर भारतीयों को क्यो पसंद है रमी खेलना?
Junglee Rummy

आखिर भारतीयों को क्यो पसंद है रमी खेलना?

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

भूमि अधिग्रहण कानून पर गठित संविधानिक पीठ का नेतृत्व करने से जस्टिस अरुण मिश्रा का इनकार

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस अरुण मिश्रा ने भूमि अधिग्रहण और पुनर्वास अधिनियम पर गठित संवैधानिक पीठ का नेतृत्व करने से इनकार कर दिया है।

23 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

भाजपा शासित राज्यों ने की तैयारी, जल्द हो सकती है नई जनसंख्या नीति लागू

दो से ज्यादा बच्चों वाले लोगों को भाजपा शासित राज्यों में धीरे-धीरे सभी सरकारी योजनाओं के लाभ से वंचित होना पड़ सकता है।

23 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree