विज्ञापन
विज्ञापन

बेटी के जन्म पर 10 पेड़ लगाने वाले बिहार के इस गांव में बेटियां कभी बोझ नहीं रहीं

निलेश कुमार, अमर उजाला, पटना Updated Thu, 11 Jul 2019 04:49 PM IST
साल 2012 में गणतंत्र दिवस उत्सव के दौरान दिल्ली के राजपथ पर बिहार की झांकी में धरहरा गांव की परंपरा का दृश्य(File Photo)
साल 2012 में गणतंत्र दिवस उत्सव के दौरान दिल्ली के राजपथ पर बिहार की झांकी में धरहरा गांव की परंपरा का दृश्य(File Photo) - फोटो : Rishav Mishra Krishna
ख़बर सुनें

खास बातें

  • बेटियों के जन्म पर गांव में 10 पेड़ लगाने की परंपरा, दुनिया भर में नाम
  • 2012 में गणतंत्र दिवस पर बिहार की झांकी में दिखी थी धरहरा की परंपरा
  • विदेशों से फिल्म निर्माता गांव पहुंचकर बना चुके हैं डॉक्यूमेंट्री व शॉर्ट फिल्म
बिहार के भागलपुर जिले के नवगछिया का एक छोटा सा गांव है- धरहरा। साल 2012 में गणतंत्र दिवस उत्सव के दौरान दिल्ली के राजपथ पर बिहार की झांकी में इस छोटे से गांव का दृश्य था, जो विश्व पटल पर छाता चला गया। कारण इस गांव की एक ऐसी परंपरा, जो बेटियों के जन्म केे बहाने मानव और पर्यावरण के संबंध को और ज्यादा मजबूत बनाती है।
विज्ञापन
''बिटिया जनम पर पेड़ लगाभो, संग-संग मंगल गाभो नि....''  बेटी के जनम पर पेड़ लगाने की सदियों पुरानी परंपरा वाले जिले के एक छोटे से गांव से निकल कर यह अंगिका गीत दुनिया भर में पहुंच चुका है। बीते कुछ वर्षों में पूरी दुनिया का ध्यान खींचने वाले इस आदर्श ग्राम धरहरा को अब पहचान का संकट नहीं। 

गीत के रचनाकार संगीत प्रशिक्षक राजकिशोर सिंह कहते हैं कि इस गांव मेंं बेटियां कभी बोझ नहीं रही। यही कारण है कि लगातार कम होते महिला-पुरुष अनुपात के बीच यहां की स्थिति सुखद आश्चर्य का अनुभव कराती है। 

आंकड़ें भी देते हैं गवाही

  • नवगछिया के इस धरहरा गांव में महिला-पुरुष अनुपात लगभग 930-1000 है। 
  • गांव में 10 साल से कम उम्र के बच्चों में 525 लड़कियां है, जबकि 256 लड़के हैं।
  • यहां के हाई स्कूल में नौंवीं कक्षा में नामांकित छात्राओं की संख्या, छात्रों से ज्यादा है।
 


बीते दिनों जब अमर उजाला की टीम इस गांव के एसबीसी इंटर स्तरीय स्कूल पहुंची थी तो यहां स्कूल परिसर में लड़कियों के साईकिल की संख्या बता रही थी कि लड़कों के मुकाबले उनकी उपस्थिति 100 फीसदी रहती है। नौवीं और 10वीं कक्षा में जाने पर इसका प्रमाण भी मिला। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

सुकन्या ग्राम के तौर पर भी है पहचान

विज्ञापन

Recommended

'अभिरुचि' एक नई पहल जो बना रही है छात्रों का भविष्य
Invertis university

'अभिरुचि' एक नई पहल जो बना रही है छात्रों का भविष्य

लंबी आयु और अच्छी सेहत के लिए इस सावन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक - 22/ जुलाई/2019
Astrology

लंबी आयु और अच्छी सेहत के लिए इस सावन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक - 22/ जुलाई/2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

अपोलो 11 मिशन के 50 साल पूरे, जानिए चंद्रमा की पहली यात्रा के बारे में सबकुछ

50 वर्ष पहले अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने अपोलो-11 मिशन के तहत पहली बार चंद्रमा पर किसी इंसान को भेजा था। इस मिशन के साथ ही नील आर्मस्ट्रांग चंद्रमा पर पहुंचने वाले पहले व्यक्ति बने थे।

19 जुलाई 2019

विज्ञापन

केंद्र सरकार ने राज्यों को दिया सुझाव, इलेक्ट्रिक वाहनों को रोड टैक्स में दें छूट

देश में इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिये केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों से ऐसे वाहनों के लिए परमिट खत्म करने की सलाह दी है।

19 जुलाई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree