Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Gorakhpur ›   Manish murder case Judicial custody of JN Singh and Akshay Mishra extended

मनीष हत्याकांड: जेएन सिंह और अक्षय मिश्रा की बढ़ाई गई न्यायिक अभिरक्षा, वीडियो कांफ्रेंसिंग से हुई पेशी

अमर उजाला ब्यूरो, गोरखपुर। Published by: vivek shukla Updated Fri, 22 Oct 2021 06:37 PM IST
सार

वीडियो कांफ्रेंसिंग से हुई दोनों आरोपितों की पेशी, तीन नवंबर तक न्यायिक हिरासत में, एसआईटी कानपुर का साक्ष्य संकलन पूरा नहीं होने पर कोर्ट ने दिया आदेश।

आरोपी जेएन सिंह और अक्षय मिश्रा। (फाइल फोटो)
आरोपी जेएन सिंह और अक्षय मिश्रा। (फाइल फोटो) - फोटो : अमर उजाला।
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

गोरखपुर में कारोबारी मनीष गुप्ता की मौत मामले में शुक्रवार को मुख्य आरोपी इंस्पेक्टर जेएन सिंह और चौकी इंचार्ज रहे अक्षय मिश्रा की वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेशी हुई। दोनों आरोपियों को सीजेएम (मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट) ज्योत्सना यादव की कोर्ट में पेश किया गया था।



यहां एसआईटी कानपुर की ओर से साक्ष्य संकलन पूरा नहीं होने की वजह से एसआईटी के सह प्रभारी ने कोर्ट में अर्जी दी। इसके बाद अदालत ने दोनों आरोपियों की 14 दिनों की न्यायिक हिरासत बढ़ाते हुए 3 नवंबर तक इसे जारी रखने का आदेश दिया है।


जानकारी के मुताबिक, आरोपी पुलिस वालों के अधिवक्ता पीके दुबे ने बताया कि सीजेएम कोर्ट में एसआईटी कानपुर से सह विवेचक छत्रपाल सिंह ने प्रार्थना पत्र देकर साक्ष्य संकलन पूरा नहीं होने का हवाला दिया है। जिसके कारण इंस्पेक्टर और दरोगा की 14 दिन की न्यायिक अभिरक्षा बढ़ाई गई है। एसआईटी का दावा है कि जल्द ही इस मामले में साक्ष्य संकलन पूरा कर मामले में चार्जशाट दाखिल कर दी जाएगी।
 

छह पुलिस वाले बनाए गए थे आरोपी, सभी जेल में

रामगढ़ताल इलाके के होटल कृष्णा पैलेश में 27 सितंबर की रात में इंस्पेक्टर जेएन सिंह, चौकी इंचार्ज अक्षय मिश्रा व अन्य पुलिस वाले चेकिंग करने को गए थे। आरोप है कि इस दौरान ही पुलिस वालों की पिटाई से मनीष की मौत हो गई थी। इस मामले में मनीष गुप्ता की पत्नी मीनाक्षी की तहरीर पर छह पुलिसवालों के खिलाफ हत्या की धारा में केस दर्ज किया गया और मामले की जांच और विवेचना एसआईटी कानपुर को दी गई थी।

स्थानीय पुलिस की मदद से एसआईटी ने सभी आरोपियों को गिरफतार कर जेल भेजवा दिया है। इस मामले में मुख्य आरोपी जेएन और अक्षय मिश्रा की पहली पेशी शुक्रवार को थी। वीडियो कांफ्रेंसिंग से पेशी कराई जाएगी। जेल प्रशासन ने इसकी तैयारी कर ली थी।
 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00