लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Atal: बायोपिक से होगा वाजपेयी के जन्मशती समारोह का आरंभ, विनोद भानुशाली और संदीप सिंह की फिल्म का एलान

अमर उजाला ब्यूरो, मुंबई Published by: मेघा चौधरी Updated Tue, 28 Jun 2022 02:26 PM IST
मैं रहूं या ना रहूं ये देश रहना चाहिए अटल
1 of 6
विज्ञापन
देश के पूर्व प्रधानमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के यशस्वी नेता अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मशती समारोह का आरंभ उन पर बनी एक हिंदी फिल्म से अगले साल दिसंबर में होगा। 25 दिसंबर 1924 को ग्वालियर में जन्मे अटल बिहारी वाजपेयी पर बनने वाली इस फिल्म का नाम है, ‘अटल’ और इसे बनाने के लिए दो दिग्गज फिल्म निर्माताओं विनोद भानुशाली और संदीप सिंह ने हाथ मिलाया है। संदीप सिंह इसके पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बायोपिक ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ भी बना चुके हैं। फिल्म ‘अटल’ के निर्देशक और फिल्म में अटल बिहारी वाजपेयी का किरदार निभाने वाले कलाकार का एलान जल्द ही होने वाला है।
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी
2 of 6
अटल बिहारी वाजपेयी की जन्मशती वर्ष की तैयारियां भारतीय जनता पार्टी के थिंक टैंक ने शुरू कर दी है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक और आजीवन अविवाहित रहने वाले अटल बिहारी वाजपेयी ने सत्ता में आने से पहले विपक्ष के नेता के रूप में भी खूब सम्मान पाया और संयुक्त राष्ट्र में उनके हिंदी में दिए गए भाषणों का उल्लेख अक्सर राजनीतिक चर्चाओं में होता है।
विज्ञापन
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी
3 of 6
मूल रूप से आगरा के पास बटेश्वर के निवासी वाजपेयी परिवार के श्याम लाल वाजपेयी ने ग्वालियर के पास मुरैना को अपनी कर्मभूमि बनाया था। उनके बेटे कृष्ण बिहारी वाजपेयी ने वहीं अध्यापन शुरू किया। कृष्ण बिहारी और कृष्णा देवी की संतान अटल बिहारी वाजपेयी ने भी अपनी शुरुआती शिक्षा ग्वालियर से ही हासिल की। बाद में उन्होंने उच्च शिक्षा के लिए कानपुर के डीएवी कॉलेज को अपना ठिकाना बनाया। अटल बिहारी वाजपेयी आरएसएस के उन गिनती के लोगों में शामिल रहे जिन्हें 1942 के ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ में हिस्सा लेने के आरोप में गिरफ्तार किया गया।
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी
4 of 6
अटल बिहारी वाजपेयी की छवि देश के एक अनुकरणीय नेता, प्रसिद्ध कवि और लेखक की रही है। वह लंबे समय तक सक्रिय पत्रकारिता में भी संलग्न रहे। उन पर बनने जा रही ये फिल्म एक किताब पर आधारित है, जिसके अधिकार विनोद भानुशाली और संदीप सिंह ने हासिल किए हैं। फिल्म का पूरा नाम है, 'मैं रहूं या ना रहूं, ये देश रहना चाहिए-अटल' जो पेंगुइन रैंडम हाउस इंडिया की सबसे ज्यादा बिकने वाली किताब 'द अनटोल्ड वाजपेयी: पॉलिटिशियन एंड पैराडॉक्स' का एक नाटकीय रूपांतरण है। ये किताब उल्लेख एन पी ने लिखी है।
विज्ञापन
विज्ञापन
निर्माता विनोद भानुशाली
5 of 6
फिल्म के एलान पर निर्माता विनोद भानुशाली कहते हैं, “मैं अपने पूरे जीवन अटल जी का सबसे बड़ा प्रशंसक रहा हूं। वह एक जन्मजात नेता, उत्कृष्ट राजनेता और दूरदर्शी थे। हमारे राष्ट्र निर्माण में उनका योगदान अद्वितीय है और यह हमारे लिए बहुत सम्मान की बात है कि भानुशाली स्टूडियोज लिमिटेड उनकी विरासत को सिल्वर स्क्रीन पर ला रहा है।"
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00